मौसम के अनुकूल हो आपका आहार, जनवरी से दिसंबर तक क्या खाएं और क्या नहीं

Updated at: Sep 25, 2020
मौसम के अनुकूल हो आपका आहार, जनवरी से दिसंबर तक क्या खाएं और क्या नहीं

हम मौसम बदलते ही अपना रहन-सहन और पहनावा बदल लेते हैं। लेकिन अपनी डाइट में बदलाव करना भूल जाते हैं। जानते हैं मौसम के अनुसार कैसा हो आहार...

सम्‍पादकीय विभाग
स्वस्थ आहारWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Sep 25, 2020

स्वस्थ रहने के लिए हर कोई अपनी दिनचर्या में एक्सरसाइज, योगा जोड़ता है। मौसम का प्रभाव हमारी सेहत पर भी पड़ता है। ऐसे में यह जानना भी जरूरी है कि किस मौसम में क्या खाएं और क्या नहीं। बता दें कि हर मौसम का स्वभाव अलग होता है। जैसे हम मौसम बदलते ही अपना पहनावा और रहन-सहन बदल लेते हैं वैसे ही जरूरी होता है बदलते मौसम की तरह हम अपने खाने पीने का अंदाज ही बदलें। इस लेख के माध्यम ले जानते हैं कि मौसम के अनुरूप क्या खाएं और क्या नहीं।

seasonal food

शिशिर ऋतु (जनवरी से फरवरी तक)

क्या खाएं

इन 2 महीनों में सर्दियां अपने चरम पर रहती हैं। ऐसे में घी का सेवन सेहत के लिए लाभदायक होता है। अदरक के साथ-साथ कुछ गर्म तासीर वाला खाना आप अपनी डाइट में जोड़ सकते हैं। इसके अलावा सेंधा नमक, मूंग दाल की खिचड़ी आदि आपको दुरुस्त रखेगी।

क्या ना खाएं

इस मौसम में तला-भुना खाना खाने से बचें। साथ ही ठंडी प्रकृति वाला बादी भोजन और नॉन सीजनल फूड का सेवन न करें।

बसंत ऋतु (मार्च से अप्रैल तक)

क्या खाएं

इस मौसम में ठंड छटने लगती है। ऐसे में जौ, तोरई, केला, खीरा, हींग, ज्वार, गेहूं, चावल, मूंग, अरहर, मसूर की दाल, मूली, मेथी, जीरा, आंवला जैसे कफ नाशक पदार्थों का सेवन करें।

क्या ना खाएं

खट्टी मीठे चटपटे लोगों को इस मौसम में थोड़ा परहेज करने की जरूरत है। आलू, उड़द, सिंघाड़ा, खट्टे मीठे और चिकने पदार्थ इस मौसम में सेहत को हानि पहुंचा सकते हैं। बता दें कि अगर इस मौसम में इन पदार्थों का सेवन किया जाए तो कफ़ बढ़ने की समस्या हो सकती है।

इसे भी पढ़ें- दोपहर या शाम की हल्की-फुल्की भूख मिटाने के लिए स्नैक्स खाते समय कभी न करें ये 5 गलतियां, बढ़ता है वजन

ग्रीष्म ऋतु (मई से जून तक)

क्या खाएं

गर्मियों में पुराने गेहूं का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। इसके साथ ही सत्तू, खीर, दूध, ठंडे पदार्थ, कच्चे आम का पन्ना, करेला, परवल, ककड़ी, तरबूज आदि इन सब को अपनी डाइट में जोड़ें। 

क्या ना खाएं

डॉक्टर्स हमें गर्मियों में ज्यादा तेल और मसालेदार भोजन से दूर रहने की सलाह देते हैं। इसके अलावा नमकीन, चटपटे पदार्थ, अधिक गर्म खाद्य पदार्थों का सेवन करने से हमें कब्ज की समस्या हो सकती है।

वर्षा ऋतु (जुलाई से सितंबर तक)

क्या खाएं

इस मौसम में पुराने चावलों की खिचड़ी, पुराने गेहूं, हल्के व सुपाच्य पदार्थों (ऐसा भोजन, जिसमें चिकनाई की मात्रा ना के बराबर होती है। का सेवन करना सेहत के लिए अमृत है। 

क्या ना खाएं 

डॉक्टर्स के अनुसार, बरसात में पाचन शक्ति कमजोर हो जाती है। ऐसे में हम जितना कम खाना खाएंगे उतना अच्छा होता है। पत्तेदार सब्जियों से इस सीजन में थोड़ा दूर रहें। 

ये भी पढ़ें- इन 3 चीजों के कारण तेजी से बढ़ता है आपका वजन, इन्हें कंट्रोल करने के लिए आजमाएं ये खास आयुर्वेदिक टिप्स

शरद ऋतु (अक्टूबर से नवंबर तक)

क्या खाएं

इस मौसम में आप भरपूर मात्रा में आहार ले सकते हैं। साथ ही घी, गुड़, चीनी, खीर आंवला, नींबू, अनार, नारियल, मुनक्का, गोभी आदि ऊर्जा देते हैं। इसलिए अपने खाने में इन्हें जरूर जोड़ें। साथ ही इस मौसम में गर्म दूध फायदेमंद होता है।

क्या ना खाएं

बासी चीजों का सेवन इस कसेली ठंडी में न करें। इसके अलावा भूखे रहने या उपवास न करें।

Read More Articles On Diet in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK