दोपहर में कितने बजे खाते हैं खाना? जानें कितने बजे के बाद नहीं खाना चाहिए दोपहर का खाना, इससे होने वाले नुकसान

Updated at: Aug 14, 2020
दोपहर में कितने बजे खाते हैं खाना? जानें कितने बजे के बाद नहीं खाना चाहिए दोपहर का खाना, इससे होने वाले नुकसान

सही समय पर भोजन करना बहुत जरूरी होता है लेकिन दोपहर का भोजन करना सही समय पर बहुत जरूरी होता है। जानें किस वक्त करना चाहिए दोपहर का खाना।

Jitendra Gupta
वज़न प्रबंधनWritten by: Jitendra GuptaPublished at: Aug 14, 2020

अच्छी सेहत के लिए जरूरी है सही खान-पान और इससे ज्यादा जरूरी है सही समय पर भोजन करना। अगर आप सही समय पर भोजन करते हैं तो न केवल आपका शरीर फिट रहेगा बल्कि आपमें ये खाने की अच्छी आदत भी बनी रहेगी। ध्यान देने वाली बात ये है कि एक चीज, जिसे विज्ञान और आयुर्वेद दोनों सही मानते हैं वह है कि प्रत्येक भोजन को इष्टतम स्वास्थ्य के लिए एक निश्चित समय पर खाया जाना चाहिए। यह बात और अधिक महत्व रखती है जब आप अपने शरीर पर चढ़ी चर्बी को कम करने की कोशिश में जुटे हैं। आपके लिए ये जानना बहुत जरूरी है कि सही समय पर भोजन करना कितना जरूरी है। तो आइए जानते हैं कितना जरूरी है सही समय पर भोजन करना और सही समय आखिर है क्या। 

food

सही समय पर भोजन 

चाहे आप दिन भर में छह बार थोड़ा-थोड़ा भोजन कर रहे हों या फिर इंटरमिटेंट फास्टिंग डाइट को फॉलो कर रहे हों आपका हर भोजन आपके कार्डिनल रिदम के साथ होना चाहिए। अपनी आंतरिक बॉडी क्लॉक के अनुसार भोजन करना, पाचन प्रक्रिया को आसान बनाता है और आपके शरीर को सभी आवश्यक पोषक तत्वों को अवशोषित करने में मदद करता है।

हालांकि, हमारे दैनिक व्यस्त कार्यक्रम का प्रबंधन करते समय, हम में से अधिकांश को दोपहर में देर से खाना खाने की आदत पड़ जाती है। इसमें सबसे बुरी बात यह है कि हमें ये महसूस नहीं होता है कि यह अभ्यास हमारे सामान्य स्वास्थ्य और विशेष रूप से हमारे वजन घटाने के लक्ष्य के लिए कितना हानिकारक है और किस तरह हमारे रूटीन को बाधित कर सकता है।

इसे भी पढ़ेंः महंगी डाइट और भारी भरकम एक्सरसाइज को कहें 'ना', वेट लॉस के लिए अब ट्राई करें ये सस्ता आयुर्वेदिक नुस्खा

आपके लिए लंच करने का सबसे खराब समय क्या है 

अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रिशन में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, दोपहर 3 बजे के बाद आपका दोपहर का भोजन करना आपके वजन घटाने की प्रक्रिया की गति पर एक बड़ा प्रभाव डाल सकता है। अध्ययन में विशेष रूप से पेरिलिपिन प्रोटीन के काम को देखा जाता है, जो मानव कोशिकाओं में पाया जाता है और पूरे शरीर में फैट को बर्न करने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। अध्ययन के अंत में, यह पाया गया कि इस प्रोटीन की एक विशिष्ट आनुवंशिक भिन्नता वाले लोगों कम ही वजन कर पाते हैं खासकर तब, जब उनका भोजन दोपहर 3 बजे के बाद होता है।

lunch

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ ओबेसिटी में वर्ष 2013 में प्रकाशित एक अन्य अध्ययन में भी कहा गया है कि दोपहर 3 बजे के बाद दोपहर का भोजन करने से वजन घटाने की प्रक्रिया धीमी हो सकती है। हालांकि, दोनों अध्ययन विशिष्ट आनुवंशिक मेकअप वाले लोगों पर केंद्रित थे।

इसे भी पढ़ेंः रात के खाने में ये 5 छोटे बदलाव वजन कम करने में आपको पहुंचा सकते हैं फायदा, बस जान लें कैसे करने हैं ये 5 चेंज

खाने का समय और आपकी सार्डिकियन रिदम

हमारे शरीर की आंतरिक गतिविधियां जैसे नींद और खान-पान हमारे सार्डिकियन रिदम द्वारा तय की जाती है। ये आपके वजन कम करने की प्रक्रिया को भी प्रभावित करती है। सार्डिकियन लय शरीर में इंसुलिन के स्राव को नियंत्रित करता है। असामयिक भोजन, जब आपका शरीर इंसुलिन के प्रति कम संवेदनशील होता है, तो यह आपके लिए फैट और अतिरिक्त चर्बी को कम करना कठिन बना सकता है। हालांकि, शोधकर्ताओं ने वजन घटाने और नाश्ते व रात के खाने के समय के बीच कोई संबंध नहीं पाया। यह इसलिए हो सकता है क्योंकि अध्ययन स्पेन में किया गया था, जहां लोग दोपहर के भोजन में कैलोरी युक्त भोजन का सेवन करते हैं। इसलिए, अगर आप वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं, तो अपना भोजन दोपहर 3 बजे से पहले करें।

लंच में आपको कितनी कैलोरी खानी चाहिए

वेट कंट्रोल की कोशिश में जुटे लोगों के लिए, दोपहर का भोजन दिन का सबसे हेवी भोजन होता है। इसका मतलब है कि आप इस समय अधिकांश कैलोरी का उपभोग करते हैं। इसलिए, प्रभावी वजन घटाने के लिए अपने दोपहर के भोजन की सही योजना बनाना महत्वपूर्ण है। आपको अपने दैनिक कैलोरी का 50 प्रतिशत दोपहर के भोजन में, नाश्ते में 15 प्रतिशत, नाश्ते के रूप में 15 प्रतिशत और रात के खाने में 20 प्रतिशत का सेवन करना चाहिए।

Read more articles on Weight-Loss in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK