World Stroke Day: 80 से 90 फीसदी मरीज़ शारीरिक सक्रियता के जरिये हो रहे हैं सही, एक्सपर्ट्स से जानें कैसे

Updated at: Oct 28, 2020
World Stroke Day: 80 से 90 फीसदी मरीज़ शारीरिक सक्रियता के जरिये हो रहे हैं सही, एक्सपर्ट्स से जानें कैसे

वैज्ञानिक अनुमानों के अनुसार, विश्व स्तर पर प्रति 40 सेकेंड में एक व्यक्ति को स्ट्रोक पाया जाता है और प्रति 4 मिनट में एक व्यक्ति स्ट्रोक से मरता है।

Garima Garg
विविधWritten by: Garima GargPublished at: Oct 28, 2020

स्ट्रोक के लगभग 70% मामलों की रोकथाम या इलाज संभव है। जहां, 25% आबादी अपने जीवन में कभी न कभी स्ट्रोक अटैक का शिकार अवश्य बनती है, वहीं शारीरिक सक्रियता स्ट्रोक की रोकथाम का सबसे अच्छा विकल्प है। इस साल का थीम है- #जॉइनदीमूवमेंट, जिसके अनुसार लोगों को सक्रीय जीवनशैली के अनगिनत फ़ायदों के बारे में पता होना जरूरी है। जिसमें स्ट्रोक की रोकथाम भी शामिल है। हमारे एकस्पर्ट्स से जानते हैं इनके बारे में सबकुछ...

 world stroke day

शारीरिक गतिविधियों में कमी के कारण होती है ये समस्या

गुरूग्राम स्थित आर्टेमिस-अग्रिम इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूरो साइंसेस के न्यूरोइंटरवेंशन निदेशक, डॉक्टर विपुल गुप्ता ने बताया कि, “जीवनशैली में बदलाव और खराब आदतों के साथ शारीरिक गतिविधियों में कमी, धूम्रपान और शराब के अत्यधिक सेवन के कारण देश की युवा आबादी स्ट्रोक का शिकार बन रही है। टेक्नोलॉजी ने भले ही हमारे जीवन को कितना ही आसान बना दिया हो लेकिन इसके कारण शारीरिक निष्क्रियता बढ़ी है। बढ़ते तनाव और डायबिटीज़ व हाइपरटेंशन के बढ़ते मामलों के कारण जीवनशैली से जुड़ी बीमारियों की चपेट में आने वाले लोगों की उम्र में बड़ा बदलाव आया है। नियमित रूप से किया गया व्यायाम न सिर्फ समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में सहायक होता है बल्कि शरीर को कई बीमारियों से दूर रखता है। सक्रिय रहने के कई तरीके उपलब्ध हैं, आपको बस नई गतिविधियों में शामिल होने की जरूरत है। यदि आप वर्तमान में किसी मेडिकेशन पर हैं तो अपने डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें। वे नई एक्सरसाइज और गतिविधियां अपनाने में आपकी मदद करेंगे।”

जानें संबंधित आंकड़ें

डॉक्टर विपुल गुप्ता के अनुसार, अन्य विकसित देशों की तुलना में भारतीयों में स्केमिक स्ट्रोक कम उम्र में ही विकसित हो जाती है। आम कारकों जैसे कि खराब आहार, शराब और धूम्रपान के अलावा शारीरिक निष्क्रियता भारतीयों में बीमारी का एक बड़ा कारण बनती है। एक अध्ययन के अनुसार, अमेरिका में स्ट्रोक से ग्रस्त होने वाले रोगियों की औसत आयु 71 वर्ष की तुलना में भारतीयों में यह आयु 52 वर्ष थी। अमेरिका में 60% आबादी की तुलना में भारत के 94% मरीजों में स्ट्रोक का सबसे बड़ा कारण शारीरिक निष्क्रियता थी। इस अध्ययन से यह भी पता चला कि अमेरिका के मरीजों (जो पहले ही मिनी स्ट्रोक से गुज़र चुके थे) की तुलना में स्ट्रोक से ग्रस्त केवल 2% भारतीय मरीज नियमित रूप से एक्सरसाइज करते थे।

इसे भी पढ़ें- राजधानी में बढ़ रहा है वायु प्रदूषण का स्तर, इस तरह आंखों का रखें ख्याल

ज्यादा देर स्क्रीन पर बैठने से भी होती है ये बीमारी

गुरूग्राम स्थित आर्टेमिस-अग्रिम इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूरो साइंसेस में न्यूरोइंटरवेंशनल सर्जरी और स्ट्रोक न्यूरोलॉजी के डॉक्टर राजश्रीनिवास पार्थसार्थी के अनुसार, “स्क्रीन का ज्यादा इस्तेमाल स्वास्थ्य के लिए खतरनाक होता है, जिसमें अब स्ट्रोक भी जुड़ चुका है। 2 घंटों के बाद, स्क्रीन पर बिताया गया हर घंटा स्ट्रोक के खतरे को 20% तक बढ़ाता है, जो युवाओं के बीच स्ट्रोक का एक आम कारण बना हुआ है। विशेषकर युवाओं में स्ट्रोक के खतरे को कम करने के लिए डिजिटल डिटॉक्सिफिकेशन बेहद जरूरी है।”

इसे भी पढ़ें- स्वस्थ हड्डियों के लिए कौन से पोषक तत्व है जरूरी? सर्दियों में जोड़ों के दर्द के लिए एक्सपर्ट ने बताएं तरीके

समय पर इलाज जरूरी

समय पर इलाज के साथ, स्ट्रोक के मरीज को ठीक करना संभव है। लगभग 70% मामलों में इसके लक्षणों को कम या पूरी तरह खत्म किया जा सकता है। सही इलाज में एक मिनट की देरी भी मस्तिष्क की 20 लाख कोशिकाओं को नष्ट कर देती है, इसलिए समय पर इलाज कराना आवश्यक है। स्ट्रोक के उचित इलाज के लिए मरीज को अटैक के 6 घंटों के अंतर्गत अस्पताल लाना जरूरी है। इसके बाद लगभग 80% मामलों में मरीज विकलांगता का शिकार बनता है।

स्ट्रोक का इलाज संभव है इसलिए इस विश्व स्ट्रोक दिवस पर हम लोगों तक सही मैसेज पहुंचाना चाहते हैं। स्ट्रोक की शुरुआती पहचान इलाज को आसान और परिणामों को बेहतर कर देती है। हम लोगों को स्ट्रोक के लक्षणों की पहचान करने के लिए प्रेरित करते हैं। इसके लक्षणों को फास्ट कहा जाता है, यानी कि उतरा हुआ चेहरा, हाथों में कमज़ोरी, बोलने में मुश्किल और एंबुलेंस को बुलाने का समय शामिल हैं। हम लोगों को स्क्रीन का कम इस्तेमाल और शारीरिक रूप से सक्रिय रहने की सलाह देते हैं।”

Read More Articles on miscellneous in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK