• shareIcon

नवजात शिशु के लिए अमृत के समान है मां का दूध, डायरिया और अस्‍थमा से होता है बचाव: डॉ. प्राची शाह

नवजात की देखभाल By Atul Modi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 01, 2019
नवजात शिशु के लिए अमृत के समान है मां का दूध, डायरिया और अस्‍थमा से होता है बचाव: डॉ. प्राची शाह

World Breastfeeding Week 2019: विश्‍व स्‍तनपान सप्‍ताह के मौके पर डॉक्‍टर प्राची शाह MD Paediatrics CLEC (California), IBCLC बता रही हैं स्‍तनपान से शिशु को होने वाले फ

6 महीने की उम्र तक स्तनपान और जीवन के पहले वर्ष में शिशुओं के जीवित रहने के बीच एक सीधा संबंध है। क्‍योंकि 6 महीने तक के शिशु के लिए स्तनपान की अवधि, बाद में होने वाले रोगों को रोकने में फायदेमंद साबित होती है। इसलिए, आपके शिशु के संपूर्ण विकास को शुरू करने का एक सही तरीका उसे स्तनपान कराना है।

ब्रेस्‍टमिल्‍क में लाभदायक सूक्ष्‍मजीवों के अलावा विभिन्‍न प्रकार के पोषक तत्‍व मौजूद होते हैं। ये पोषक तत्‍व स्‍तनपान करने वाले शिशुओं में संक्रमण को रोकने के साथ इसकी गंभीरता को कम करते हैं, जिससे शिशुओं की प्रतिरक्षा प्रणाली यानी इम्‍यून सिस्‍टम मजबूत होता है। इसमें विटामिन, खनिज और प्रोटीन जैसे आवश्यक पोषक तत्व होते हैं, इसमें कई ऐसे भी गैर पोषक पाए जाते हैं जो नवजात शिशुओं के लिए पचाना आसान होता है।

वास्तव में, ब्रेस्‍टमिल्‍क को नवजात शिशुओं के पोषण के लिए अनुकूलतम स्रोत माना जाता है और इसका कोई विकल्प नहीं है। जन्‍म से 6 माह तक स्‍तनपान नवजात शिशु के लिए एक आदर्श पोषण है। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, एक नवजात शिशु को उसके संपूर्ण विकास और अधिक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए छह महीने की अवधि के लिए विशेष रूप से स्तनपान कराया जाना चाहिए।

world-breast-feeding-week-2019 

एक अनुभव के रूप में स्तनपान करना फायदेमंद है, क्योंकि माताएं अपने बच्चे के लिए एक अद्भुत भविष्य बनाने में मदद कर सकती हैं। जन्‍म के पहले घंटे में स्तनपान की शुरुआत कर एक मां बच्चे को कोलोस्ट्रम यानी सभी बाल स्वास्थ्य समस्याओं के लिए एक एंटीडोट दे देती हैं। इस पीले रंग के तरल (मां का पहला पीला गाढ़ा दूध)  में कई लाभ हैं जो बच्चे की प्रतिरक्षा प्रणाली की सुरक्षा करते हैं। 

स्‍तनपान से शिशु में अस्‍थमा और डायरिया की संभावना कम 

देश भर में बच्‍चों की सबसे ज्‍यादा मौतें डायरिया और अस्थमा (श्वसन संक्रमण) से होती है। ये दोनों बीमारियां विकासशील देशों में शिशुओं में मृत्यु का प्रमुख कारण हैं। नीदरलैंड के रॉटरडैम में इरास्मस मेडिकल सेंटर के एक अध्ययन के अनुसार, केवल छह महीने की उम्र तक स्‍तनपान करने वाले शिशुओं में अस्थमा से संबंधित लक्षण विकसित होने का खतरा कम हो जाता है।  

5,000 बच्चों पर अध्‍ययन किया गया, जिसमें पाया गया कि जिन बच्‍चों ने छह माह तक स्‍तनपान किया था उनकी तुलना में जिन बच्‍चों ने स्‍तनपान नहीं किया था उनमें सांस लेने की समस्‍या, सूखी खांसी और लगातार कफ का खतरा बना रहता है।  दो महीने से कम उम्र के नवजात, जिन्हें स्तनपान नहीं कराया जाता उनमें स्तनपान कराए जाने वाले नवजातों की तुलना में डायरिया से मरने की संभावना 25 गुना होती है। डायरिया के दौरान स्तनपान कराने से डिहाईड्रेशन, गंभीरता, अवधि और इसके नकारात्मक पोषण परिणाम कम हो जाते हैं।

इस अध्ययन में यह भी कहा गया कि पहले चार महीने के दौरान स्तनपान के बजाए दूसरे विकल्पों का प्रयोग करने से बच्चों में इस बीमारी के लक्षण बढ़ने की संभावना अधिक हो जाती है। विशेष रूप से स्तनपान कराए जाने वाले बच्चे की, स्तनपान नहीं कराए जाने वाले बच्चों की तुलना में पहले छह महीने में मृत्यु की संभावना 14 फीसदी तक कम हो जाती है। इतना ही नहीं पहले छह महीने में सांस संबंधी संक्रमण और डायरिया संबंधी समस्याओं के कारण होने वाली मौतों में भी कमी देखी गई है। 

डायरिया स्तनपान की जगह दूसरे विकल्पों का सेवन करने वालों में तीन से चार गुना होने की संभावना होती है। 12 महीने से कम उम्र के बच्चों में देखा गया है कि जिन बच्चों को उस अवधि के दौरान बाजार में बिकने वाला फूड खिलाया गया उनके मुकाबले स्तनपान करने वाले बच्चों में तीव्र दस्त के मामले कम सामने आए। इसलिए स्तनपान नवजातों को सांस संबंधी संक्रमणों, निमोनिया और डायरिया जैसी घातक बीमारियों से दूर रखने का सबसे आसान और किफायती तरीका है। प्राकृतिक तरीकों से ब्रेस्‍टमिल्‍क बढ़ाने के तरीके।  

ब्रेस्‍टमिल्‍क मां से शिशु तक एंटीबॉडी और फाइटर सेल्‍स के हस्तांतरण के लिए एक मार्ग के रूप में कार्य करता है। यह सभी प्रकार के संक्रमणों और एलर्जी से सुरक्षा प्रदान करता है। मां का दूध पूर्ण शिशु आहार है। यदि कोई बच्चा स्तनपान से वंचित है, तो कान में संक्रमण, दस्त, सांस की समस्या, एक्जिमा, छाती में संक्रमण, मोटापा, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल संक्रमण और बचपन के मधुमेह जैसी समस्याओं से उसके संक्रमित होने की अधिक संभावना है।

इसे भी पढ़ें: स्‍तनपान से जुड़े हैं ये 7 झूठे दावे, जिन पर कभी न करें भरोसा

ह्यूमन मिल्‍क शिशुओं के लिए एक बेहतरीन पोषण है। स्तन का दूध शुद्ध सोना है, यह हमेशा सही तरीके से बच्चे की वृद्धि को प्रभावित करती है। इसलिए, नई आयु की माताओं को अपने बच्चे के विकास और विकास को आकार देने के लिए ब्रेस्‍टमिल्‍क आवश्‍यक है। इसलिए, अस्थमा जैसी सभी पुरानी बीमारियों से एक बच्चे को रोकने के लिए, पहले छह महीनों के लिए बच्चे के लिए एकमात्र आहार के रूप में स्तनपान कराएं। 

Read More Articles On Newborn Care In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK