आसान नहीं है गर्भावस्‍था के दौरान कार्यालय और घर में तालमेल बनाना

    आसान नहीं है गर्भावस्‍था के दौरान कार्यालय और घर में तालमेल बनाना

    गर्भधारण के बाद कामकाजी महिलाओं को कई प्रकार की समस्‍यायें हो सकती हैं। आइए जानें कामकाजी महिलाओं और गर्भघारण के बारे में कुछ और बातें।

    कामकाजी महिलाओं के लिए गर्भधारण करना किसी चुनौती से कम नहीं है, क्‍योंकि इस दौरान महिला को घर, कार्यालय के अलावा होने वाले बच्चे के बारे में भी सोचना पड़ता है। यह कामकाजी महिला के लिए किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है।

    Working Women and Pregnancyगर्भधारण के कुछ समय बाद उन्हें न सिर्फ घर पर आराम करने की सलाह दी जाती है बल्कि तनाव मुक्त रहकर काम करने की सलाह दी जाती है साथ ही बहुत ज्यादा ट्रैवल न करने की सलाह भी दी जाती है। लेकिन आज की आधुनिक महिला गर्भधारण के बाद भी ऑफिस से दूर नहीं रहना चाहती, क्योंकि उसे अपने करियर की भी चिंता रहती है। आइए जानें कामकाजी महिलाओं और गर्भघारण के बारे में कुछ और बातें।

     

    प्रेग्‍नेंसी और कार्यालय

    • कामकाजी महिलाओं को गर्भधारण के बाद बच्‍चे के लिए समय निकालने की जरूरत पड़ती है। उनको खानपान पर विशेष ध्‍यान देने की जरूरत होती है।
    • गर्भावस्था के बाद लंबी छुट्टी पर जाने से महिलाओं के काम पर काफी प्रभाव पड़ता हैं। इतना ही नहीं उनकी प्रतिदिन काम करने की आदत भी छूट जाती है।
    • हालांकि शोधों के मुताबिक गर्भावस्था के दौरान काम करना स्वास्‍थ्‍य के लिए आवश्यक व अच्छा रहता है लेकिन इसके साथ ही बाहर काम करने की पहली शर्त है तनावमुक्त रहना।
    • शोधों की मानें तो गर्भावस्था के दौरान काम करना महिलाओं को एंग्जाइटी की शिकायत से दूर रखने में सहायक है।
    • गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला के शरीर में अनेक प्रकार के परिवर्तन होते है। जिससे कई बार उन्हें अधिक समस्याएं होने लगती हैं। ऐसे में काम से छुट्टी लेकर आराम करना ही उनके स्वास्‍थ्‍य के लिए बेहतर रहता है।
    • गर्भावस्था के दौरान यदि आप व्यस्त‍ रहना चाहती हैं तो अपने काम को निरंतर कर सकती है लेकिन जरा सी तकलीफ होने पर आपको आराम भी जरूरी है। लगातार देर तक काम ना करें ।
    • कहते हैं कि जो महिलाएं गर्भावस्था के दौरान अपना काम सक्रिय रूप से करती हैं उन्हें डिलीवरी के समय परेशानी बहुत कम होती है।
    • यदि गर्भवती महिला का काम ऑफिस में लगातार बैठना या फिर कंप्यूटर पर काम करने का है तो उसे कुर्सी पर बैठकर कुछ देर की झपकी ले लेनी चाहिए।
    • ऑफिस हो या घर गर्भावस्था में खान-पान का खास ख्याल रखना जरूरी होता है। ऐसे में ऑफिस के खाने में पोषक तत्वों को नजरअंदाज न करें।
    • यदि आप कामकाजी है और सप्ताह भर ऑफिस जाती हैं तो बीच-बीच में अपना चेकअप कराती रहें और डॉक्टर से सलाह लेती रहें। जब भी डॉक्टर आराम करने के लिए कहें तो सबकुछ भूलकर आप आराम करें।
    • गर्भावस्था के अंतिम महीनों में आफिस से अवकाश लेकर आप पूरी तरह से अपनी व अपने होने वाले बच्चे की देखभाल करें। इसके अलावा लगातार डॉक्टर से चेकअप करवाती रहें।
    • गर्भावस्था के दौरान ऑफिस जाते हुए कुछ सावधानियां जरूर बरतें। जैसे हील न पहने। फैशनेबल दिखने के लिए बहुत ज्यादा टाइट कपड़े न पहनें। अपने खान-पान में लापरवाही बिल्कुल न बरतें।
    • ऑफिस में लगातार एक ही जगह पर बैठने या लगातार काम करने से बेहतर है कि आप बीच-बीच में ब्रेक जरूर लें या फिर काम से थोड़ा आराम करते हुए कुछ हल्की-फुल्की एक्सरसाइज या स्ट्रेचिंग करें।
    • गर्भावस्था के दौरान ऑफिस के काम में न तो बहुत ज्यादा ट्रैवल करें और न ही बहुत ज्यादा भार उठाएं।
    • खाने में अपने पास जूस, फल इत्यादि हर दम रखें और भूख न लगने पर भी समय-समय पर खाते रहें।

     

    इन टिप्स को अपनाकर आप अपने ऑफिस में भी अपनी देखभाल कर सकेंगी और आप पर काम का प्रेशर भी बहुत ज्यादा नहीं बढ़ेगा।

     

    Read More Articles On Pregnancy And Office In Hindi

     
    Disclaimer:

    इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।