• shareIcon

नाइट शिफ्ट से रातों की नींद के साथ लिवर भी होता है खराब

तन मन By Pooja Sinha , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jul 06, 2017
नाइट शिफ्ट से रातों की नींद के साथ लिवर भी होता है खराब

नाइट शिफ्ट में काम करने वालों के लिए एक बुरी खबर है। एक नए शोध के अनुसार नाइट शिफ्ट में काम करने से आपका लिवर भी बुरी तरह प्रभावित होता है।

नाइट शिफ्ट का चलन केवल कॉल सेंटर में ही नहीं है बल्कि कई अन्‍य कंपनियों में भी लोग अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए नाइट शिफ्ट में काम करते हैं। हालांकि रातभर ऑफिस का काम करना कोई आसान काम नहीं है और तो और इससे आपकी सेहत पर भी बुरा असर पड़ सकता है। जी हां लगातार रातभर काम करने से दिल की बीमारी, डायबिटीज, अनिंद्रा और स्‍ट्रेस शरीर को घेर लेता है। लेकिन एक नए शोध के अनुसार नाइट शिफ्ट में काम करने से आपका लिवर भी बुरी तरह प्रभावित होता है।


इसे भी पढ़ें : नाइट शिफ्ट में काम हो सकता है खतरनाक

night shift in hindi

लिवर पर असर

नाइट शिफ्ट में काम करने वालों के लिए एक बुरी खबर आई है! एक रिसर्च में इस बात का खुलासा हुआ है कि रात में काम करने से लिवर पर बहुत नकारात्मक प्रभाव पड़ता है जो कि सेहत के लिए बहुत नुकसानदायक है। लिवर 24 घंटों में दिन और रात के हिसाब से भोजन और भूख के चक्र का आदी हो जाता है। नाइट शिफ्ट के चलते आप समय पर भोजन नहीं कर पाते, जिसका सीधा असर आपके लिवर पर पड़ता है। शोधकर्ताओं ने चूहों पर प्रयोग कर पाया कि लिवर का आकार रात में बढ़ता है और वह खुद को ज्यादा डाइट के लिए तैयार करता है, लेकिन उसे समय पर उतनी खुराक नहीं मिल पाती। जिससे उसका डेली रुटीन गड़बड़ा जाता है और लिवर पर इसका बुरा असर पड़ता है। 

इसे भी पढ़ें : सेहत के लिए अच्‍छी नहीं है नाइट शिफ्ट

क्‍या कहता है शोध

सेल नामक पत्रिका में प्रकाशित एक शोध के अनुसार, जब सामान्य जैविक क्रिया की लय उलट जाती है, तो लिवर के घटने-बढ़ने की प्रक्रिया प्रभावित होती है। शोधकर्ताओं का कहना है कि व्यावसायिक बाधाओं या निजी आदतों के चलते हमारी जैविक घड़ी यानी बायोलॉजिकल क्लॉक और दिनचर्या बिगड़ती है। जिसका सीधा असर लिवर के महत्वपूर्ण कामकाज पर पड़ता है। प्रयोग के दौरान चूहों को रात में चारा दिया गया, जबकि दिन में आराम करने दिया गया।

इस मामले में जिनेवा यूनिवर्सिटी के शोध प्रमुख फ्लोर सिंटूरल ने कहा कि हमने देखा कि रात में सक्रिय चरण यानी एक्टिव फेज़ के दौरान लिवर 40 प्रतिशत से अधिक बढ़ता है और दिन के दौरान यह शुरुआती आकार में वापस आ जाता है। बायोलॉजिकल क्लॉक में बदलाव से यह प्रक्रिया प्रभावित होती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Image Source : Shutterstock.com

Read More Articles on Healthy Living in Hindi  



 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK