• shareIcon

रिश्तों में बहुत जरूरी है 'पर्सनल स्पेस', अक्सर ये 5 गलतियां करते हैं कपल्स

डेटिंग टिप्स By अनुराग अनुभव , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jan 30, 2019
रिश्तों में बहुत जरूरी है 'पर्सनल स्पेस', अक्सर ये 5 गलतियां करते हैं कपल्स

रिश्ता कोई भी हो, उसमें प्यार के साथ-साथ एक दूसरे के लिए सम्मान, पर्सनल स्पेस और एक दूसरे पर भरोसा जरूरी है। कई बार कपल्स एक दूसरे की जिंदगी में इतना दखल देते हैं कि शक या झगड़े के कारण रिश्ता बिगड़ने लगता है। पर्सनल स्पेस का अर्थ है निजी दायरा, य

रिश्ता कोई भी हो, उसमें प्यार के साथ-साथ एक दूसरे के लिए सम्मान, पर्सनल स्पेस और एक दूसरे पर भरोसा जरूरी है। कई बार कपल्स एक दूसरे की जिंदगी में इतना दखल देते हैं कि शक या झगड़े के कारण रिश्ता बिगड़ने लगता है। पर्सनल स्पेस का अर्थ है निजी दायरा, यानी कपल्स को अपने पार्टनर की निजी पसंद-नापसंद, दोस्तों, रिश्तेदारों, काम और समय का महत्व समझना चाहिए। ऐसा हर समय संभव नहीं है कि आपका पार्टनर सभी काम आपके मुताबिक करे।

कई बार शक के कारण भी लोग अपने पार्टनर के पर्सनल स्पेस में दखल देते हैं।कपल्स को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि उनके पार्टनर की जिंदगी में उनके अलावा अन्य रिश्ते और अन्य लोग और अन्य काम भी महत्वपूर्ण हो सकते हैं। रिश्ते में पर्सनल स्पेस न मिलने के कारण जल्द ही रिश्ता बोझ लगने लगता है और इसके टूटने की नौबत आ जाती है। अगर आप भी करते हैं ये 5 गलतियां, तो आ सकती है आपके रिश्ते में दरार।

हर समय ताक-झांक करना

आपकी बातचीत छिपकर सुनना, आपके व्हाट्सएप या फेसबुक पर नजर रखना और आपके ई-मेल पर नजर रखना भी इस बात का संकेत हैं कि आपका रिश्ता गलत दिशा में जा रहा है। ऐसे समय में आपको उनसे प्यार से बात करनी चाहिए और अपनी बात समझानी चाहिए। हर व्यक्ति को इतना पर्सनल स्पेस मिलना चाहिए कि वो अपने दोस्तों, रिश्तेदारों और प्रोफेशनल दोस्तों से मिल-जुल या बातचीत कर सके।

इसे भी पढ़ें:- किसी इंसान की ये 6 बातें बताती हैं कि उसे है आपसे प्यार, देर होने से पहले समझें इशारा

पार्टनर की निजी राय का सम्मान न करना

आप दोनों भले ही एक रिश्ते में बंधे हैं, मगर किसी मुद्दे पर दो लोगों की राय अलग-अलग हो सकती है। ऐसे में हर कपल को अपने पार्टनर की निजी राय का सम्मान करना चाहिए। कई बार पार्टनर्स में जिम्मेदारियों, खर्चों, पेरेंटिंग, लिविंग स्टाइल या अन्य छोटी-छोटी बातों पर बहसें हो जाती हैं। ऐसे में बहस कई बार झगड़े में बदल जाती है। लेकिन इन छोटी-छोटी बसहों को आपसी बातचीत से सुलझाने की कला आपको आनी चाहिए।

बात-बात पर झगड़ना

अगर आपके पार्टनर आपसे छोटी-छोटी बातों में झगड़ते हैं और ताने मारते हैं, तो समझें कि आपके रिश्ते में दरार आनी शुरू हो गई है। बेवजह हर बात पर गुस्सा इंसान को तभी आता है जब वो सामने वाले से चिढ़ने लगता है। इसलिए अगर आप दोनों का बात-बात पर झगड़ा होने लगा है, तो रिश्ते में थोड़ा ब्रेक लें और यह पता लगाने की कोशिश करें कि आपके पार्टनर को कौन सी बात बुरी लगी या उन्हें किस बात की परेशानी है।

इसे भी पढ़ें:- इन 5 कारणों से हंसी-मजाक करने वाले फनी लड़कों को ज्यादा पसंद करती हैं लड़कियां

व्यवहार में अचानक बदलाव

व्यवहार में बदलाव आपके रिश्‍ते में खतरे का संकेत है। साथी का आपकी बातों पर ध्यान नहीं देना। गंभीर बातों को सुनकर भी अनसुना कर देना, आपकी बातों का जवाब झुंझुलाकर देना या बेवजह हर बात पर गुस्सा करना इत्यादि। इस तरह के लक्षण नजर आने पर समझ लेना चाहिए रिश्‍ता खतरे में हैं।

बेवजह की बहस

रिश्‍ते में बहस क्‍यों होती है, इसके कारण का पता लगाएं और उसको दूर करने की कोशिश करें। सबसे पहले यह जानें कि बहस दो लोगों में होती है और अगर एक बहस कर रहा है तो दूसरे को चुप हो जाना चाहिए। हर बात पर तर्क-वितर्क और बहस न करें। कभी-कभी बातें सुनना भी अच्छा रहता है। साथ ही एक-दूसरे की कमजोरी का मजाक न उड़ाए और न ही बहस में ऐसी बातों को तूल दें। एक-दूसरे पर गलत आरोप लगाने से बचें।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Relationship Tips In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK