एक साथी के साथ रहना नहीं है इंसानों की फितरत

Updated at: Oct 20, 2016
एक साथी के साथ रहना नहीं है इंसानों की फितरत

शादी, रस्में और वादे ये सारे सामाजिक नियम होते है, कुदरती तौर पर इनका कोई महत्व नहीं माना जाता है। कई शोध इस बात का दावा करते है कि सिर्फ बच्चों की खातिर एक ही पार्टनर के साथ लोग जिंदगी गुजार देते है।

Aditi Singh
डेटिंग टिप्सWritten by: Aditi Singh Published at: Feb 24, 2016

इंसानी फितरत भी अजीब होती है। वो एक से प्यार करते हुए भी किसी और को भी दिल देने में हिचकता या परेसान नहीं होता है। खासबात ये है कि ये कोई विशेषता बात नहीं है बल्कि ये होना स्वाभाविक होता है। इंसानी फितरत है कि वो किसी के साथ वफादार नहीं हो सकता है। एकपत्नीत्व (Monogamy) पुरुषों या महिलाओं में से किसी के लिये भी अनुशासित तौर पर लागू नहीं होती है।2013 में, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों टीम क्लटन ब्रॉक और डीटर लुकास ने एक रिसर्च किया था। उससे जुड़ी कुछ बातें यहां पर हैं
partners

  • एक मनोविज्ञान विशेषज्ञ का मानना है कि जब बात वफ़ादारी की होती है तो स्त्री-पुरुष में कोई अंतर नहीं होता है। अक्सर माना जाता है कि पुरुष, महिलाओं की तुलना में एक से अधिक संबंध रखने के इच्छुक होते हैं।
  • मनोवैज्ञानिकों के अनुसार पुरुषों और महिलाएं का स्वाभाविक रूप से कई साथियों के साथ संबंध बनाने का स्वभाव होता है।  किसी और जीव की तुलना में मनुष्य आनुवंशिक रूप से चिम्पांजियों और बोनोबोस के ज़्यादा क़रीब है और इसी वजह से हमारे यौन स्वभाव भी समानता होती है।
  • स्तनधारी जानवरों में प्राइमेट्स यानी बंदर, गोरिल्ला, चिंपैंजी और लंगूर का समूह ऐसा है, जहां 27 फ़ीसदी जानवर एक ही साथी के साथ जीवन बसर करते हैं. इसकी सबसे बड़ी वजह होती है अपने बच्चों के मारे जाने का डर, जिसके लिए  प्राइमेट्स ने एक साथी के साथ पूरी ज़िंदगी गुज़ारने का फ़ैसला करते है।
  • इंसानों में भी एक जीवनसाथी के साथ ज़िंदगी गुज़ारने के फ़ैसले के पीछे, ये बड़ी वजह हो सकती है। सबको अपनी औलाद की फ़िक्र होती है, उसकी अच्छी परवरिश की चिंता होती है।मतलब साफ़ है, क़ुदरती तौर पर एकल साथी का चलन नहीं है।  मगर सामाजिक सरोकार हमें इस परंपरा की ओर धकेलते हैं।


फिर, भी वैज्ञानिक कहते हैं कि स्तनधारी जीवों में तीन से पांच फ़ीसदी ऐसे होते हैं, जो एक साथी के प्रति वफ़ादार होते हैं।


Image Source-getty

Read More Article on Relationship in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK