युवाओं में तेजी से क्यों बढ़ रही है कोलन कैंसर की समस्या, जानें इससे बचाव के लिए 6 सबसे जरूरी टिप्स

Updated at: Sep 01, 2020
युवाओं में तेजी से क्यों बढ़ रही है कोलन कैंसर की समस्या, जानें इससे बचाव के लिए 6 सबसे जरूरी टिप्स

20 से 40 साल के युवाओं, खासकर पुरुषों में कोलन कैंसर के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। जानें इस कैंसर का कारण क्या है और इससे बचाव के लिए 6 टिप्स।

Anurag Anubhav
कैंसरWritten by: Anurag AnubhavPublished at: Sep 01, 2020

इन दिनों युवाओं में कोलन कैंसर की समस्या तेजी से बढ़ती जा रही है। आपको बता दें कि दुनियाभर में प्रोस्टेट और लंग कैंसर के बाद पुरुषों में सबसे ज्यादा संख्या कोलन कैंसर के मरीजों की है। इनमें सबसे ज्यादा संख्या 20 से 40 साल की उम्र के युवा लोगों की है, जो अंजाने में ही अपनी गलतियों के कारण कोलन कैंसर का शिकार हो रहे हैं। कोलन कैंसर को हिंदी में मलाशय का कैंसर कहते हैं, यानी पेट के उस हिस्से में कैंसर का होना, जहां मल इकट्ठा होता है। जाहिर सी बात है कि अगर आंतों या पेट से जुड़ा कैंसर है, तो इसका सबसे बड़ा कारण खानपान की गड़बड़ी ही होगी। तो कोलन कैंसर भी युवाओं में इसीलिए तेजी से बढ़ रहा है क्योंकि आजकल लोगों का खानपान बहुत गलत हो गया है। खाने में नैचुरल चीजें लोग कम खाते हैं, उसके बजाय पैकेटबंद चीजें, जंक फूड्स और प्रॉसेस्ड फूड्स खूब खाते हैं, जो शरीर को बुरी तरह नुकसान पहुंचाते हैं। इसके अलावा फैमिली में पहले से ये बीमारी होने पर भी लोगों को इसका खतरा होता है।

colon cancer in hindi

कोलन कैंसर के शुरुआती लक्षण क्या हैं? (Early Symptoms of Colon Cancer)

कोलन कैंसर के शुरुआती लक्षण बहुत सामान्य होते हैं, जैसे कब्ज, पेट की गड़बड़ी, मल के साथ खून आना, गुदाद्वार से खून निकलना, पेट दर्द, पेट फूलना, भूख कम लगना आदि। अगर इनमें से कोई भी लक्षण 2 सप्ताह या इससे ज्यादा समय तक रहे तो आपको बिना देरी किए डॉक्टर से मिलकर इसकी जांच करानी चाहिए।

कोलन कैंसर से बचाव के लिए जरूरी सावधानियां (Tips to Prevent Colon Cancer)

वैसे तो कोलन कैंसर कई कारणों से हो सकता है। लेकिन आमतौर पर खानपान की गड़बड़ियां इसमें बड़ी भूमिका निभाती हैं। इसलिए आप अपने खानपान की आदतों को बदलकर कोलन कैंसर के खतरे को कम कर सकते हैं। आइए आपको बताते हैं इसके लिए जरूरी टिप्स।

इसे भी पढ़ें: कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से बचना है तो अपने खानपान की आदतों में करें सुधार, आज से ही शुरू करें ये 5 बदलाव

फ्राइड और जंक फूड्स से करें तौबा

फ्राइड और जंक फूड्स को बनाने में बहुत ज्यादा तेल, बटर और स्वाद बढ़ाने वाले केमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता है, जो आपके शरीर में जाकर आपके आंतों को नुकसान पहुंचाते हैं। इसके अलावा फ्राइड फूड्स में ग्रीस (चिकनापन) बहुत ज्यादा होता है, जो आपकी आंतों में जाकर पर्त बना लेता है। बहुत सारी समस्याएं यहीं से शुरू होती हैं।

junk foods and colon cancer

चीनी और नमक का सेवन कम करें

नमक और चीनी का इस्तेमाल हर घर में होता है और रोजाना की बहुत सारी डिशेज में होता है। घर का बना खाना तो ठीक है, लेकिन बाहर मिलने वाले पैकेटबंद फूड्स में बहुत ज्यादा नमक और चीनी का इस्तेमाल किया जाता है। पैकेटबंद स्नैक्स, जंक फूड्स, रेडी टू ईट फूड्स, कोल्ड ड्रिंक्स, चॉकलेट्स, कैंडीज, सोडा ड्रिंक्स आदि में बहुत ज्यादा नमक या चीनी होता है, जो सेहत को नुकसान पहुंचाता है।

शराब का सेवन कम करें

शराब एक ऐसी चीज है, जो आपके कोलन कैंसर के खतरे को बहुत ज्यादा बढ़ाती है। इसलिए शराब पीना छोड़ दें या बहुत-बहुत कम पिएं और पिएं तो रेड वाइन पिएं।

रेड मीट से बनाएं दूरी

रेड मीट आपके कोलन कैंसर के खतरे को बढ़ा देता है। इसलिए किसी भी तरह के रेड मीट का सेवन न करें।

इसे भी पढ़ें: देर तक बैठे रहते हैं तो हो जाएं सावधान, वैज्ञानिकों का दावा- ज्यादा देर बैठने से बढ़ता है कैंसर का खतरा

तनाव कंट्रोल करें

अगर आप बहुत ज्यादा तनाव लेते हैं, तो ये भी आपकी सेहत के लिए अच्छा नहीं है। तनाव भी युवाओं में लगातार बढ़ रहे कोलन कैंसर का एक बड़ा कारण है। इसलिए तनाव कम से कम लें और तनाव कम करने के लिए मेडिटेशन या एक्सरसाइज का सहारा लें।

रोजाना एक्सरसाइज जरूर करें

किसी भी तरह के कैंसर से बचने के लिए आपके पूरे शरीर का स्वस्थ होना जरूरी है और ये स्वास्थ्य आपको सिर्फ खाने की चीजों से नहीं मिल सकता है बल्कि इसके लिए आपको रेगुलर एक्सरसाइज भी करना जरूरी है। इसलिए हर दिन कम से कम 30-40 मिनट एक्सरसाइज करें।

Read More Articles on Cancer in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK