• shareIcon

स्त्रियों के लिए वज़न घटाना क्‍यों है जरूरी

महिला स्‍वास्थ्‍य By सम्‍पादकीय विभाग , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Sep 22, 2011
स्त्रियों के लिए वज़न घटाना क्‍यों है जरूरी

महिला हो या पुरुष वज़न का अधिक होना या मोटापा दोनों के जीवन के लिए ही खतरनाक हो सकता है। लेकिन खासतौर पर महिलाओं को इससे ज्यादा जोखिम होता है। मोटापे से अंगों में वृद्धि होना और फैटी लीवर जैसे रोग घेर लेते हैं । हृदय में जलन और एसिड रिफ्लक्स रोग अ

वज़न का अधिक होना या मोटापा आपके जीवन के लिए खतरनाक हो सकता है। एक स्त्री के लिए खुद को किसी भी गम्भीर बीमारी से सुरक्षित रखने के लिए, और गर्भावस्था और प्रसव काल को एक आसान प्रक्रिया बनाने के लिए अतिरिक्त वज़न को नष्ट करना बहुत आवश्यक बन जाता है । आइए, हम यह देखें कि मोटापा आपके जीवन को कैसे खतरे में डाल सकता है

 

हृदय रोग

हालांकि स्त्रियों में दिल का दौरा कम सुनाई देता है, लेकिन मोटी स्त्रियाँ खुद को ह्र्दय के रोगों की चपेट में ले आती हैं । ह्र्दय को अधिक रक्त पम्प करना पड़ता है और एक मोटे शरीर को संभालने के लिए अधिक कड़ी मेहनत से कार्य करना पडता है । जिससे कि ह्र्दय समस्याओं के प्रति अति संवेदनशील बन जाता है ।


Weight Loss in Hindi


उच्च रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल सम्बन्धी समस्याएं

अत्यधिक मोटे होने का अर्थ है – अधिक एल-डी-एल स्तर या ‘खराब’ कोलेस्ट्रॉल, जो कि आपकी धमनियों पर दबाव डालकर अनेक समस्याओं को आमंत्रित कर सकता है । अपना अतिरिक्त वजन को घटाने के दौरान आपका एच-डी-एल स्तर या ‘अच्छा’ कोलेस्ट्रॉल बढ़ सकता है ।

 

टाइप 2 मधुमेह

मोटापा और मधुमेह के रोग में बेहद नज़दीकी सम्बन्ध हैं। अपने गर्भावस्था के दौरान एक मोटी स्त्री के गेस्टेशनल मधुमेह से पीड़ित होने की अधिक संभावना रहती है और जिससे कि भविष्य में टाइप २ मधुमेह से पीड़ित होने की संभावना और भी अधिक बढ़ जाती है ।

 

कैंसर

प्राकृतिक रूप से मोटी स्त्रियाँ अपनी प्रतिदिन की खुराक में वसा की अधिक मात्रा ग्रहण करती हैं । स्त्रियों में शरीर में अतिरिक्त वसा ब्रेस्ट कैंसर, अंडाशय का कैंसर और सर्विकल कैंसर जैसे कुछ कैंसर को बढ़ावा देती है ।

 

Weight Loss in Hindi

 

लीवर समस्या

मोटापे से अंगों में वृद्धि होना और फैटी लीवर जैसे रोग घेर लेते हैं । हृदय में जलन और एसिड रिफ्लक्स रोग अधिकांशतः मोटापे के कारण ही होता है।

 

आर्थ्राइटस (गठिया रोग) 

 

मोटी स्त्रियों में ‘ओस्टियोआर्थ्राइटस’ जैसा रोग अधिक संख्या में पाया जाता है । आपके शरीर के पूरे वज़न को आपके घुटने और हिप्स सहन करते हैं तथा थोड़ा और अधिक पौंड वज़न उन पर पड़ने वाले दबाव और तनाव को अधिक बढ़ा देता है । मोटी स्त्रियाँ जोड़ों के घिसने और टूट फूटने से पीड़ित होती हैं, जिससे कि उनकी हड्डी टूटने की अधिक संभावना होती हैं । श्वसनतंत्र की समस्याएं भी हो सकती हैं।


प्रजनन सम्बन्धी समस्याएं

एक आदर्श वजन को पाने से गर्भाधान की संभावना बढ़ जाती है और प्रजनन सम्बन्धी कोई भी समस्या नहीं उत्पन्न होती हैं । अत्यधिक मोटापे के कारण प्रसव प्रक्रिया में मुश्किलें आती हैं और इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं ।

 

मोटापे की वज़ह से खुद की नकारात्मक इमेज बनाना या खुद के प्रति अत्यधिक सचेत रहना जैसी मनोवैज्ञानिक समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं ।

 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK