• shareIcon

कुछ लोग क्यों होते हैं एलर्जी के जल्दी शिकार? जानें इससे बचाव के तरीके

अन्य़ बीमारियां By Rashmi Upadhyay , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Mar 05, 2019
कुछ लोग क्यों होते हैं एलर्जी के जल्दी शिकार? जानें इससे बचाव के तरीके

एलर्जी शरीर में होने वाला वह बदलाव होता है जो किसी निश्चित वस्तु के संपर्क में आने से होता है। अधिकतर जानवरों, धूल मिट्टी और गंदगी के संपर्क में आने से एलर्जी होती है। इसमें व्यक्ति को खांसी आना, छींके आना, सांस का फूलना और सिर में दर्द होना जैसे

एलर्जी शरीर में होने वाला वह बदलाव होता है जो किसी निश्चित वस्तु के संपर्क में आने से होता है। अधिकतर जानवरों, धूल मिट्टी और गंदगी के संपर्क में आने से एलर्जी होती है। इसमें व्यक्ति को खांसी आना, छींके आना, सांस का फूलना और सिर में दर्द होना जैसे लक्षण देखे जाते हैं। इस स्थिति में हमारा इम्यून सिस्टम कुछ खास चीजों को स्वीकार नहीं कर पाता और नतीजा रिएक्शन के रूप में दिखता है। एलर्जी में शरीर पर लाल चकत्ते निकलते हैं, नाक और आंखों से पानी बहता है, जी मिचलाता है, उल्टी होती है, सांस तेज चलती है और बुखार भी हो सकता है। एलर्जी खतरनाक नहीं होती है लेकिन ध्यान न देने पर समस्या गंभीर भी हो सकती है।

एलर्जी के कारण

  • कुछ लोगों को मूंगफली, दूध, अंडा आदि खाने से एलर्जी हो सकती है। जिस चीज से एलर्जी है, उसे खाने के बाद जी मिचलाने, शरीर में खुजली होने या पूरे शरीर पर दाने और चकत्ते निकलने जैसी समस्याएं हो सकती है। आमतौर पर कुछ खाने के बाद 10 मिनट से लेकर आधे घंटे के अंदर तक एलर्जी के लक्षण उभरने लगते हैं।
  • धूल के कणों में माइक्रोब्स होते हैं जो हमारे आसपास मौजूद रहते हैं। माइक्रोब्स ज्य़ादा ह्यूमिडिटी में पनपते हैं। इनसे होने वाली एलर्जी में आमतौर पर छींकें, आंख और नाक से पानी बहने जैसी दिक्कत हो सकती है।
  • कीड़े के काटने पर स्किन एकदम लाल होकर फूल जाती है। कभी-कभी उलटी, चक्कर और बुखार भी हो सकता है।
  • खुशबू भी कई लोगों के लिए एलर्जी की वजह हो सकती है। परफ्यूम, खुशबू वाली मोमबत्तियां, कई तरह के ब्यूटी प्रोडक्ट्स आदि की खुशबू से सिरदर्द या जी मिचलाने आदि की समस्या हो सकती है।
  • पालतू जानवर : पालतू जानवर भी कई लोगों की एलर्जी का कारण होते हैं। जानवरों के बाल, उनके मुंह से निकलने वाली लार या रूसी आदि से कई लोगों को गंभीर परेशानियां हो जाती हैं।
  • कई बार घास, पेड़ और फूल भी एलर्जी का कारण होते हैं। इनके संपर्क में आने पर खुजली, आंखों में जलन, लगातार छींक आदि की समस्या हो सकती है।
  • कुछ लोगों को किसी खास मौसम से भी एलर्जी होती है। मौसम बदलने पर इन लोगों को गले में खराश, बुखार, नाक बहने और आंखों में जलन जैसी समस्याएं होती हैं। ऐसे में कोशिश करें कि ज्य़ादा से ज्य़ादा घर के अंदर रहें। तापमान में तेज बदलाव से बचें, यानी एकदम ठंडे से गर्म या गर्म से ठंडे वातावरण में न जाएं।
  • पॉलेन यानी फूलों के पराग कणों से भी लोगों को एलर्जी होती है। पेड़-पौधों और घास-फूस के संपर्क में आने पर ये बारीक कण नाक और गले में चले जाते हैं और दिक्कत की वजह बनते हैं। जिस मौसम में पॉलेन आते हैं, उस दौरान घर से बाहर कम निकलें। घर की खिड़कियां बंद रखें। एसी या पंखे में रहें और कूलर का इस्तेमाल न करें। घर में एयर प्यूरिफायर लगवाएं। घर से बाहर निकलना हो तो आंखों पर चश्मा और नाक पर मास्क लगाकर बाहर निकलें।
  • कुछ लोगों को गोल्ड या सिल्वर ऑक्सीडाइज्ड़ ज्यूलरी से एलर्जी होती है तो कुछ को लेदर या सिंथेटिक कपड़ों से। ऐसा होने पर इन चीजों के कॉन्टैक्ट में आने के बाद खुजली हो सकती है। ऐसे लोग इन चीजों के इस्तेमाल से बचें। अगर कभी पहनना ही पड़े और खुजली होने लगे तो उस जगह पर स्टेरॉयड बेस्ड क्रीम लगाएं।
  • किसी खास दवा से भी काफी लोगों को एलर्जी होती है। उसे जारी रखने से परेशानी बढ़ सकती है।

किन लोगों को होती है ज्यादा एलर्जी

बच्चों में एलर्जी की आशंका बड़ों से कहीं ज्य़ादा होती है। बच्चा अगर बहुत ज्य़ादा थकान का शिकार होता हो, उसे सर्दी-जुकाम बना रहता हो या नाक में खुजली होती हो तो उसे एलर्जी हो सकती है। इसी तरह बुजुर्गों में भी एलर्जी की समस्या काफी आम है क्योंकि उनका इम्यून सिस्टम भी कमजोर हो जाता है। बदलते मौसम में उनका खास खयाल रखना चाहिए। कई बार एलर्जी खानदानी भी होती है। माता-पिता को अगर धूल या किसी और चीज से एलर्जी हो तो बच्चों को एलर्जी होने की आशंका बढ़ जाती है। हालांकि यह जरूरी नहीं है कि दोनों की एलर्जी का स्वरूप एक जैसा ही हो। मां को अगर धूल से एलर्जी की वजह से स्किन रैशेज पड़ते हों तो बच्चे को खुशबू से एलर्जी होने की वजह से छींकें आ सकती हैं।

एलर्जी से कैसे बचें

हमारे देश में लोगों को एलर्जी के बारे में कम जानकारी है। अकसर लोगों को पता ही नहीं चलता कि वे बार-बार बीमार पड़ रहे हैं तो उसकी वजह खाना या मौसम भी हो सकता है। दरअसल, अगर किसी चीज को लेकर शरीर में रिएक्शन दिखे तो डॉक्टर को दिखाना चाहिए और दोबारा उस चीज के इस्तेमाल से बचना चाहिए। बच्चों के इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए उन्हें धूल-मिट्टी और धूप में खेलने दें। इससे उन्हें बीमारियों से लडऩे में मदद मिलेगी। उन्हें बारिश में भींगने या स्विमिंग पूल में जाने दें। हां, धूल-मिट्टी में खेलने के बाद उनके हाथ-पैर अच्छी तरह धुलवाना न भूलें।

  • किसी को धूल और धुएं से एलर्जी हो तो घर से बाहर निकलने से पहले उन्हें नाक पर रुमाल या मास्क का प्रयोग करना चाहिए। बचाव ही एलर्जी का इलाज है।
  • जिन लोगों को ठंड से एलर्जी हो, वे ठंडी और खट्टी चीजों जैसे अचार, इमली, आइसक्रीम आदि खाने से बचें।
  • जिन्हें धूल या गंदगी से एलर्जी हो, उन्हें समय-समय पर चादर, तकिए के कवर और परदे भी बदलते रहना चाहिए। कारपेट यूज न करें या फिर उसे कम से कम 6 महीने में ड्राईक्लीन करवाते रहें।
  • अगर किसी दवा से एलर्जी है तो उसे खाने से बचना चाहिए। जब भी डॉक्टर को दिखाने जाएं तो उन्हें इस एलर्जी के बारे में जरूर बताएं।

एलर्जी के लिए टेस्ट

प्रिक टेस्ट : किसी भी चीज से एलर्जी का शक हो तो उसका सटीक कारण जानने के लिए प्रिक टेस्ट करवाया जाता है। प्रिक टेस्ट के जरिये 60 तरह की एलर्जी की जानकारी मिल जाती है।

ब्लड टेस्ट : ब्लड टेस्ट से भी एलर्जी की जांच होती है। हालांकि इसे बहुत सटीक नहीं माना जाता है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK