क्या बारिश या मौसम ठंडा होने पर आपके जोड़ों में भी शुरू हो जाता है दर्द? जानें क्या है इसका कारण और इलाज

Updated at: Sep 03, 2020
क्या बारिश या मौसम ठंडा होने पर आपके जोड़ों में भी शुरू हो जाता है दर्द? जानें क्या है इसका कारण और इलाज

क्या बारिश होने या मौसम का तापमान कम होने पर आपके जोड़ों में भी शुरू हो जाता है दर्द? जानें ऐसा क्यों होता है और कैसे रखें अपने जोड़ों को स्वस्थ।

Anurag Anubhav
अन्य़ बीमारियांWritten by: Anurag AnubhavPublished at: Sep 03, 2020

वैसे तो जोड़ों का दर्द एक आम समस्या है, जो किसी को भी किसी भी मौसम में हो सकती है। लेकिन कुछ लोगों को बारिश होने पर या ठंड बढ़ने पर जोड़ों में दर्द होना शुरू हो जाता है। इस बारे में कई अध्ययन किए जा चुके हैं कि क्या मौसम बदलने पर जोड़ों के दर्द में कोई फर्क पड़ता है, लेकिन ज्यादातर अध्ययन हमें कंफ्यूज करते हैं। क्योंकि कुछ अध्ययन तो बताते हैं कि मौसम ठंडा होने पर जोड़ों में दर्द की समस्या बढ़ती है लेकिन कुछ अध्ययन बताते हैं कि जोड़ों में दर्द का मौसम से कोई संबंध नहीं है। हालांकि बड़े जनसमूह पर जो भी रिसर्च की गई हैं, वो यही बताती हैं कि मौसम बदलने पर जोड़ों का दर्द भी घटता या बढ़ता है। आइए आपको इस बारे में और विस्तार से बताते हैं।

join pain in rainy season

क्यों होता है जोड़ों में दर्द

आमतौर पर जोड़ों में दर्द की समस्या अर्थराइटिस के कारण होती है और बारिश या ठंड बढ़ने पर ऐसे ही मरीजों मे दर्द ज्यादा पाया जाता है। वैज्ञानिकों के अनुसार इसका कारण बैरोमेट्रिक प्रेशर में होने वाला बदलाव है, जिसके कारण जोड़ों के आसपास की मांसपेशियां, टेंडन्स और टिशूज सुकड़ती और फैलती हैं। इसलिए जब मौसम ठंडा होता है, तो इनमें सिकुड़न होती है और दर्द बढ़ जाता है, जबकि जब मौसम गर्म होता है, तो ये फैल जाती हैं, इसलिए अपेक्षाकृत कम दर्द होता है।

इसे भी पढ़ें: जोड़ों में दर्द और गठिया की समस्या को बढ़ा सकते हैं ये 5 कारक, युवाओं को भी हो सकती है समस्या

जोड़ों में पाया जाने वाला फ्लुइड भी हो सकता है कारण

हम सभी के जोड़ों में एक खास तरल पदार्थ होता है, जिसे साइनोवियल फ्लुइड कहते हैं। इस फ्लुइड की मदद से ही हमारे जोड़ों से जुड़ी हुई हड्डियों को मोड़ने या घुमाने में आपको आसानी होती है। ये एक तरह से लुब्रिकैंट्स (चिकने पदार्थ) की तरह काम करते हैं। मौसम ठंडा होने पर जिस तरह से दूसरे फ्लुइड्स सिकुड़ते हैं, वैसे ही ये भी थोड़ा सिकुड़ता है और गाढ़ा हो जाता है। इसके कारण भी आपको ठंड बढ़ने पर जोड़ों में दर्द या अकड़न की समस्या महसूस हो सकती है।

अगर जोड़ों में दर्द हो तो सावधान हो जाना चाहिए

कुल मिलाकर अगर आपको जोड़ों में दर्द की समस्या हो और इसके कारण आपको रोजमर्रा के कामों में परेशानी आ रही हो, तो मौसम कोई भी आपको डॉक्टर से मिलकर इसकी जांच करानी चाहिए। इसका कारण यह है कि आमतौर पर मौसम बदलने पर जोड़ों में दर्द की समस्या युवा या स्वस्थ लोगों को नहीं होती है। हां, बूढ़े लोगों को इस तरह की समस्या हड्डियों की कमजोरी, गठिया या अर्थराइटिस के कारण हो सकती है।

इसे भी पढ़ें: सिरदर्द, कमर, जोड़ों और अर्थराइटिस के दर्द को ठीक करने में मददगार है गांजा का तेल (CBD Oil), जानें इसके फायदे

joint pain in cold wheather

कैसे रखें अपने जोड़ों को स्वस्थ?

जोड़ों को स्वस्थ रखने के लिए अंग्रेजी में एक छोटा सा सूत्र है, "motion is lotion"। इसका अर्थ है कि आप जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए बाम और लोशन लगाने के बजाय चलना-फिरना और मेहनत करना शुरू कीजिए क्योंकि यही जोड़ों को स्वस्थ रखने का सबसे आसान और सबसे सही तरीका है। अगर आप चलने-फिरने और रखने-उठाने वाला काम करते हैं तो ठीक, लेकिन अगर आप एक ही जगह पर बैठ कर किया जाने वाला काम करते हैं, तो आपके लिए खतरा ज्यादा है। इसलिए ऐसे लोगों को रोजाना एक्सरसाइज करना चाहिए या फिर कुछ फिजिकल स्पोर्ट्स एक्टिविटीज अपनानी चाहिए, जैसे- स्विमिंग करें, साइकिल चलाएं, दौड़ें, पैदल चलें, ट्रेडमिल पर जॉगिंग करें, सीढ़ियां चढ़ें आदि।

इस तरह जोड़ों में दर्द की समस्या होने पर आपको घबराना नहीं चाहिए, बल्कि इसका सही इलाज कराना चाहिए और अपने शरीर को थोड़ा एक्टिव रखना चाहिए।

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK