वजन घटाने के लिए फायदेमंद है आयुर्वेदिक डिटॉक्स, जानें क्या है ये और इसे करने का तरीका

Updated at: Jul 27, 2020
वजन घटाने के लिए फायदेमंद है आयुर्वेदिक डिटॉक्स, जानें क्या है ये और इसे करने का तरीका

आयुर्वेदिक डिटॉक्स को आसान शब्दों में समझें, तो ये शरीर को साफ करने की कला है। इस तरह आपकी इसकी मदद लेकर आसानी से वजन भी घटा सकते हैं।

Pallavi Kumari
आयुर्वेदWritten by: Pallavi KumariPublished at: Jul 27, 2020

आयुर्वेद को कई बीमारियां का रामबाण इलाज माना जाता है। इससे आसान से लेकर गंभीर समस्याओं का इलाज किया जा सकता है। पर क्या आपको आयुर्वेदिक डिटॉक्स के बारे में कुछ पता है! दरअसल इसका इस्तेमाल शरीर से गंदगी को डिटॉक्स करने के लिए किया जाता है। इसमें आयुर्वेद की दुनिया के इन पांच तत्वों वायु (वायु), पृथ्वी (पृथ्वी), तेजा (अग्नि), आकाश (अंतरिक्ष), और जल (जल) की मदद ली जाती है। इतना ही नहीं आयुर्वेद की मानें, तो इसकी मदद लेकर आसानी से वजन घटाया जा सकता है। वजन घटाने के लिए आपको ज्यादा कुछ नहीं, तो इसका अच्छे से अनुसरण करना होगा, जिसके कई सारे पायदान हैं। तो आइए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से।

insideyoga

क्या है आयुर्वेदिक डिटॉक्स (What Is Ayurvedic Detox)?

आयुर्वेदिक डिटॉक्स डाइट आयुर्वेदिक चिकित्सा की लंबे समय से स्थापित उपदेशों पर आधारित है। इसमें तीन चीजों के बीच शरीर को संतुलन स्थापित करना होता है, जैसे कि तीन गोत्र वात, कफ और पित्त। आप तीन दोषों और साथ ही पांच तत्वों जैसे कि वायु (वायु), पृथ्वी (पृथ्वी), तेजा (अग्नि), आकाश (अंतरिक्ष), और जल (जल) के बीच भी संतुलन बनाए रखने की कला सीखनी पड़ती है। और अगर तब भी असंतुलन मौजूद रहता है, तो इसे बीमारी को कहा जाता है।

इसे भी पढ़ें : प्रकृति का अद्भुत वरदान है गिलोय, इम्यूनिटी बढ़ाने के अलावा डायबिटीज रोगियों के लिए भी है फायदेमंद

वजन घटाने के लिए आयुर्वेद डिटॉक्स (Ayurvedic remedies for weight loss)?

मुत्रा (मूत्र), पुरिषा (मल) और स्वेद (पसीना) भी दस्त, कब्ज, अस्थमा, गठिया, त्वचा के मुद्दों और मूत्र पथ के संक्रमण जैसी बीमारियों का कारण माना जाता है। वहीं ये तीनों वजन घटाने के लिए भी बहुत जरूरी है और बॉडी डिटॉक्स का अभिन्न हिस्सा है। जैसे कि मल और मूत्र के जरिए शरीर की गंदगी आसानी से बाहर आ सकती है। तो आइए जानते हैं इसे करने का तरीका।

1.संतुलित और सात्विक भोजन

आयुर्वेदिक डिटॉक्स में सभी अशुद्धियों और विषाक्त पदार्थों के आपके शरीर को साफ करने के लिए कहा जाता है। शारीरिक रूप से डिटॉक्स के अलावा, आपको संतुलित भोजन खाने को कहा जाता है, जो व्यापक आहार और जीवन शैली में बदलाव करने के लिए प्रोत्साहित करता है। इसमें शामिल प्रथाओं के आधार पर, एक आयुर्वेदिक डिटॉक्स 3-45 दिनों तक चल सकता है। इसमें आपको अपने खान पान पर काबू रख कर शरीर को डिटॉक्स करने के लिए कहा जाता है। इसमें उपवास, सब्जी और फलों पर खास ध्यान दिया जाता है।

insideayurveda

2. शारीरिक डिटॉक्स (पूर्वाकर्मा और पंचकर्म)

पूर्वाकर्मा के रूप में जाना जाने वाला एक प्रारंभिक चरण आपकी आंतों और आपकी त्वचा की सतह से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के लिए किया जाता है। आमतौर पर, इसमें तेल मालिश, स्टीमिंग और शिरोधरा शामिल है। साथ इसमें मानसिक शिथिलताको बढ़ावा देने के लिए माथे पर गर्म तेल की मालिश करने को कहा जाता है।

इसे भी पढ़ें : किचन की 5 चीजों को मिलाकर बनाएं ये पावरफुल डिटॉक्स ड्रिंक, आंतों और ब्लड की हो जाएगी अच्छी तरह सफाई

3. योग और ताई ची

ध्यान और मनन माइंडफुलनेस प्रैक्टिस आयुर्वेदिक डिटॉक्स के प्रमुख घटक हैं। विभिन्न श्वास तकनीकों का उपयोग करके, ध्यान आपको दैनिक विकर्षणों से दूर करने, चिंता को कम करने, अपने तनाव के स्तर को कम करने और रचनात्मकता व आत्म-जागरूकता बढ़ाने में मदद कर सकता है। ध्यान 10 मिनट से लेकर 1 घंटे तक किया जा सकता है। इसके बाद आप विभिन्न प्रकार के योग की मदद लेकर वजन आसानी से घटा सकते हैं।

इस तरह आप इन डिटॉक्स डाइट की मदद से आसानी से वजन कम कर पाएंगे। बस आपको इसे करने के लिए अपने दिन को बहुत नियमित करना होगा। समय पर सोना और समय पर जागने के अलावा आपको आयुर्वेद की दुनिया के इन पांच तत्वों के साथ बॉडी को संतुलन बनाना होगा।

Read more articles on Ayurveda in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK