• shareIcon

Mineral Deficiency: शरीर में मिनरल की कमी के संकेत हैं सुस्‍ती और थकान, जानें मिनरल्‍स के बारे में सबकुछ

विविध By Atul Modi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Sep 16, 2019
Mineral Deficiency: शरीर में मिनरल की कमी के संकेत हैं सुस्‍ती और थकान, जानें मिनरल्‍स के बारे में सबकुछ

Mineral Deficiency: अगर आप हमेशा थकान और कमजोरी महसूस करते हैं तो यह शरीर में मिनरल्‍स की कमी के संकेत हो सकते हैं। इसके बारे में विस्‍तार से जानने के लिए पढ़ें यह लेख।

Mineral Deficiency: मिनरल या खनिज एक विशेष प्रकार के पोषक तत्‍व होते हैं जिन्हें आपके शरीर को ठीक से काम करने के लिए आवश्यक होता है। मिनरल की कमी तब होती है जब आपका शरीर किसी मिनरल की आवश्यक मात्रा को अवशोषित या प्राप्‍त नहीं करता है। मानव शरीर को स्वस्थ रहने के लिए प्रत्येक खनिज की अलग-अलग मात्रा की आवश्यकता होती है। शरीर में मिनरल की कमी अक्सर समय के साथ धीरे-धीरे होती है और कई कारणों से हो सकती है। खनिज की कमी से कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं, जैसे कमजोर हड्डियां, थकान, या कम प्रतिरक्षा प्रणाली। 

खनिज की कमी के प्रकार- Types of mineral deficiency

खनिज की कमी की पांच मुख्य श्रेणियां हैं: कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, पोटेशियम और जिंक। आइए, इन मिनरल्‍स के बारे में विस्‍तार से जानते हैं। 

1. कैल्शियम की कमी- Calcium deficiency

मजबूत हड्डियों और दांतों के लिए कैल्शियम की आवश्‍यकता होती है। यह आपके रक्त वाहिकाओं, मांसपेशियों, तंत्रिकाओं और हार्मोन के उचित कार्य का भी समर्थन करता है। कैल्शियम के प्राकृतिक स्रोतों में दूध, दही, पनीर, सेम और मटर के साथ मछली शामिल हैं। ब्रोकोली, गोभी जैसी सब्जियां भी कैल्शियम प्रदान करती हैं। 

लंबे समय तक कैल्शियम की कमी हड्डियों के खनिज घनत्व को कम कर सकती है जिसे ऑस्टियोपेनिया कहा जाता है। यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो ऑस्टियोपीनिया ऑस्टियोपोरोसिस में बदल सकता है। इससे हड्डियों के फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है, विशेषकर वृद्ध वयस्कों में। 

कैल्शियम की कमी होने पर मांसपेशियों में ऐंठन, सुन्न होना, उंगलियों में झुनझुनी, थकान, भूख की कमी, अनियमित हृदय की धड़कन आदि। 

2. आयरन की कमी- Iron deficiency

आपके शरीर का आधे से अधिक आयरन लाल रक्त कोशिकाओं में है। आयरन हीमोग्लोबिन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। आयरन अन्य प्रोटीन और एंजाइम का भी एक हिस्सा है जो आपके शरीर को स्वस्थ रखता है। आयरन का सबसे अच्छा स्रोत मांस, मुर्गी या मछली हैं। पौधे आधारित खाद्य पदार्थ जैसे बीन्स या दाल भी अच्छे स्रोत हैं।

आयरन की कमी धीरे-धीरे विकसित होती है और एनीमिया का कारण बन सकती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 2008 की एक रिपोर्ट में अनुमान लगाया था कि दुनिया भर में आयरन की कमी से एनीमिया के लगभग आधे मामले सामने आते हैं। आयरन की कमी वाले एनीमिया के लक्षणों में कमजोर और थका हुआ महसूस करना शामिल है।क्यों होती है रक्त में आयरन की कमी और क्या हैं इन्हें दूर करने के उपाय

 

3. मैग्‍नीशियम की कमी- Magnesium deficiency

शरीर को सैकड़ों रासायनिक प्रतिक्रियाओं के लिए मैग्नीशियम की आवश्यकता होती है। इनमें रक्त शर्करा के स्तर और रक्तचाप को नियंत्रित करने वाली प्रतिक्रियाएं शामिल हैं। मांसपेशियों और तंत्रिकाओं का उचित कार्य, मस्तिष्क का कार्य, ऊर्जा चयापचय और प्रोटीन का उत्पादन भी मैग्नीशियम द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

शरीर का लगभग 60 प्रतिशत मैग्नीशियम हड्डियों में रहता है, जबकि लगभग 40 प्रतिशत मांसपेशियों और सॉफ्ट टिश्‍यू कोशिकाओं में रहता है। मैग्नीशियम के अच्छे स्रोतों में शामिल हैं: फलियां, नट्स, साबुत अनाज, हरी पत्तेदार सब्जियां, जैसे कि पालक। 

मैग्नीशियम की कमी के शुरुआती लक्षणों में शामिल हैं: थकान, दुर्बलता, भूख में कमी, जी मिचलाना, उल्टी आदि। यदि इसे अनुपचारित छोड़ दिया जाए तो मैग्नीशियम की कमी के गंभीर लक्षण दिखाई दे सकते हैं। 

4. पोटेशियम की कमी- Potassium deficiency

पोटेशियम एक खनिज है जो इलेक्ट्रोलाइट के रूप में कार्य करता है। यह मांसपेशियों के संकुचन, सही हृदय फंक्‍शन और तंत्रिका संकेतों के प्रसारण के लिए आवश्यक है। इसमें कुछ एंजाइमों की भी जरूरत होती है, जिसमें एक ऐसा भी है जो आपके शरीर को कार्बोहाइड्रेट को ऊर्जा में बदलने में मदद करता है। पोटेशियम का सबसे अच्छा स्रोत फल और सब्जियां हैं, जैसे कि केला, एवोकैडो, पत्तेदार साग, बीट, आलू और प्लम। अन्य अच्छे स्रोतों में संतरे का रस और नट्स शामिल हैं।

पोटेशियम की कमी के लक्षणों में मांसपेशियों में ऐंठन और कमजोरी शामिल है। अन्य लक्षण आंतों के स्‍ट्रोक के कारण कब्ज, सूजन या पेट दर्द के रूप में दिखाई देते हैं। गंभीर पोटेशियम की कमी से मांसपेशियों का स्‍ट्रोक या अनियमित हृदय की लय हो सकती है जिससे मृत्यु हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें: पोटेशियम युक्‍त ये 7 फूड खाने से हड्डी और मांसपेशियां होती हैं मजबूत

5. जिंक की कमी- Zinc deficiency

जिंक शरीर के मेटाबॉलिज्‍म के कई पहलुओं में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसमें शामिल है: प्रोटीन संश्लेषण, इम्‍यून सिस्‍टम की कार्यप्रणाली, जख्म भरना, डीएनए संश्लेषण के अलावा गर्भावस्था, बचपन और किशोरावस्था के दौरान उचित विकास के लिए भी महत्वपूर्ण है। जिंक पशु उत्पादों जैसे सीप, रेड मीट और पोल्ट्री में पाया जाता है। इसके अन्‍य स्रोतों में शामिल हैं: फलियां, नट्स, साबुत अनाज और डेयरी उत्‍पाद। जिंक की कमी से दस्त, बालों का झड़ना और नपुंसकता भी हो सकती है। यह उस प्रक्रिया को बढ़ा सकता है जो आपके घावों को ठीक करता है। 

शरीर में मिनरल की कमी के कारण : Causes of mineral deficiency

शरीर में मिनरल की कमी का एक प्रमुख कारण भोजन से पर्याप्त मात्रा में आवश्यक मिनरल का नहीं मिलना है। इस कमी के परिणामस्वरूप विभिन्न प्रकार के आहार हो सकते हैं। एक खराब आहार जो जंक फूड, या ऐसे आहार पर निर्भर करता है जिसमें पर्याप्त फलों और सब्जियों की कमी हो सकती है। आपके लिए प्रतिबंधित आहार से खनिज की कमी हो सकती है। कुछ खाद्य पदार्थों से एलर्जी होने के कारण भी मिनरल की कमी का अनुभव किया जा सकता है। भोजन के पाचन या पोषक तत्वों के अवशोषण में कठिनाई के कारण खनिज की कमी हो सकती है।

इसे भी पढ़ें: शरीर में पौष्टिक तत्‍वों की कमी के संकेत हैं ये 10 लक्षण, ऐसे करें पहचान 

शरीर में मिनरल की कमी के लक्षण- Symptoms of mineral deficiency

मिनरल्‍स की कमी के लक्षण इस बात पर निर्भर करते हैं कि शरीर में किस पोषक तत्व की कमी है। संभावित लक्षणों में शामिल हैं:

  • कब्ज, सूजन या पेट दर्द
  • कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली 
  • दस्त
  • अनियमित दिल की धड़कन
  • भूख में कमी
  • मांसपेशियों में ऐंठन
  • मतली और उल्टी
  • हाथ-पैर सुन्नता या झुनझुनी
  • कमज़ोर एकाग्रता
  • बच्चों में धीमा सामाजिक या मानसिक विकास
  • कमजोरी या थकान

यदि आप लंबे समय तक थकान, कमजोरी या एकाग्रता में कमी होने का अनुभव करते हैं, तो अपने चिकित्‍सक की सलाह लें। क्‍योंकि लंबे समय तक खनिजों की कमी अन्य स्वास्थ्य स्थिति का कारण बन सकते हैं।

Read More Articles On Miscellaneous In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK