क्या है इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (IVF), जानें किन लोगों के लिए होती है ये प्रक्रिया फायदेमंद

Updated at: May 29, 2020
क्या है इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (IVF), जानें किन लोगों के लिए होती है ये प्रक्रिया फायदेमंद

इन विट्रो फर्टीलाइजेशन तकनीक दरअसल उन महिलाओं के लिए उपयोग में लाई जाती हैं जिनको सामान्यतौर पर मां बनने में दिक्कतें आ रही हों। पढ़ें और जानें।

Vishal Singh
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: Vishal SinghPublished at: Aug 05, 2011

(IVF) इन विट्रो फर्टिलाइजेशन एक प्रकार की सहायक प्रजनन तकनीक है। इसमें एक महिला के अंडाशय से अंडे प्राप्त करना और उन्हें शुक्राणु के साथ मिलान करना शामिल है। इस अंडे को एक भ्रूण के रूप में जाना जाता है। फिर भ्रूण को भंडारण के लिए स्थिर किया जा सकता है या एक महिला के गर्भाशय में स्थिर किया जा सकता है। ये तकनीक आजकल हर जगह आसानी से उपलब्ध है साथ ही कई लोग इसका फायदा भी ले रहे हैं। इस तकनीक में आपकी स्थिति के आधार पर, आईवीएफ इस्तेमाल किया जा सकता है:

ivf

  • आपके अंडे और आपके साथी के शुक्राणु।
  • अपने अंडे और दान करने वाले का शुक्राणु।
  • दान करने वाले के अंडे और आपके साथी के शुक्राणु।
  • दान करने वाले के अंडे और दाता शुक्राणु।
  • दान किए गए भ्रूण। 

अमेरिकन प्रेग्नेंसी एसोसिएशन के अनुसार, 35 साल से कम उम्र के आईवीएफ (IVF) के लिए महिलाओं की जन्म दर 41 से 43 फीसदी है। यह दर 40 से ज्यादा उम्र की महिलाओं के लिए 13 से 18 फीसदी तक गिरती है। आईवीएफ (IVF) बांझपन वाले लोगों की मदद करता है जो बच्चा पैदा करना चाहते हैं। आईवीएफ महंगा और आक्रामक है, इसलिए जोड़े अक्सर पहले दूसरे प्रजनन के इलाज को तलाशते हैं। इनमें प्रजनन दवाएं लेना या अंतर्गर्भाशयी गर्भाधान शामिल हो सकते हैं।

IVF के लिए कैसे तैयार हों (How to prepare for IVF)

आईवीएफ (IVF) की शुरुआत से पहले, महिलाएं पहले एक परीक्षण से गुजरेंगी। इसमें एक खून की जांच और एफएसएच के स्तर के लिए परीक्षण करना शामिल है। इस परीक्षण के परिणाम आपके डॉक्टर को आपके अंडों के आकार और गुणवत्ता के बारे में जानकारी देंगे। इसके बाद डॉक्टर आपके गर्भाशय की भी जांच करेगा, जो आपके गर्भाशय की छवि बनाने के लिए होगा। इसमें योनि के माध्यम से परीक्षण आपके गर्भाशय के स्वास्थ्य को प्रकट कर सकते हैं और डॉक्टर को भ्रूण के प्रत्यारोपण का सबसे अच्छा तरीका निर्धारित करने में मदद कर सकते हैं।

IVF प्रक्रिया कैसे की जाती है? (How is the IVF process done)

इसमें पांच चरण शामिल है:
  • उत्तेजना (Stimulation)
  • अंडा पुनर्प्राप्ति (Egg retrieval)
  • बोवाई (Insemination)
  • भ्रूण संस्कृति (Embryo culture)
  • स्थानांतरण(Transfer)

IVF से जुड़े जटिलताओं क्या हैं? (What are the complications associated with IVF)

  • कई गर्भधारण, जो कम जन्म के वजन और समय से पहले जन्म के जोखिम को बढ़ाते हैं।
  • गर्भपात (गर्भावस्था में हानि)।
  • अस्थानिक गर्भावस्था (जब अंडे गर्भाशय के बाहर प्रत्यारोपण करते हैं)।
  • डिम्बग्रंथि हाइपरस्टिम्यूलेशन सिंड्रोम (OHSS), एक दुर्लभ स्थिति जिसमें पेट और छाती में तरल पदार्थ की अधिकता होती है।

IVF कराने में किसी प्रकार की समस्या? (Any kind of problem in getting IVF)

कोई भी भ्रूण जो आप अपने पहले आईवीएफ प्रयास में उपयोग नहीं करते हैं, बाद में उपयोग के लिए जमे हुए हो सकते हैं। यदि आप आईवीएफ को दूसरी या तीसरी बार से गुजरते हैं तो यह आपके पैसे बचाएगा। यदि आप अपने बचे हुए भ्रूण को नहीं चाहते हैं, तो आप उन्हें एक अन्य बांझ दंपति को दान कर सकते हैं, या आप और आपके साथी क्लिनिक को भ्रूण को नष्ट करने के लिए कह सकते हैं। क्लिनिक को नष्ट करने या दान करने से पहले आपको और आपके साथी दोनों को सहमत होना होता है।
Read More Articles On Women's Health In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK