• shareIcon

    क्‍या होता है जब नाक की एलर्जी करती है अटैक

    एलर्जी By Aditi Singh , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Apr 10, 2015
    क्‍या होता है जब नाक की एलर्जी करती है अटैक

    नाक में होने वाली एलर्जी अक्सर पूरे शरीर को परेशान कर देती है। ये एलर्जी होने है कई कारण होते है। साथ ही इसकी वजह से कई अन्य बीमारयां भी हो जाती है।

    आजकल कई तरह की एलर्जी देखने में आती हैं। इनमें से जो एलर्जी सबसे ज्यादा परेशानी पैदा करती हैं, वो है नाक की एलर्जी । जब किसी इंसान का ‘इम्यून सिस्टम’ यानी प्रतिरोधक तंत्र वातावरण में मौजूद लगभग नुकसानरहित पदार्थों के संपर्क में आता है तो एलर्जी संबंधी समस्या होती है। शहरी वातावरण में तो इस तरह की समस्याएं और भी ज्यादा हैं।


    क्या होती है नाक की एलर्जी

    नाक की एलर्जी से पीड़ित लोगों की नाक के पूरे रास्ते में अलर्जिक सूजन पाई जाती है। ऐसा धूल और पराग कणों जैसे एलर्जी पैदा करने वाली चीजों के संपर्क में आने की वजह से होता है। नाक की एलर्जी में ज्यादा और अक्सर नाक से पानी बहने, ढेर सारी छींकें आने तथा सर भारी हो जाने की शिकायत रहती है। ऐसी स्थिति में यह पता करें कि हमारी समस्या किस वस्तु के कारण प्रारम्भ हुई और अगली बार उससे बचने की कोशिश करें।  हर व्यक्ति के लिए कोई अलग कारण हो सकता है। अगर स्वयं न पता लगा पाएं तो एलर्जी जांच से भी सहायता मिल सकती है। डर, चिन्ता, घबराहट, कुंठा इत्यादि व्यक्तित्व में ज्यादा होने के कारण भी यह रोग प्रारम्भ होता है, बढ़ता है।

    Nassal Allergy
    नाक की एलर्जी के प्रकार

    नाक की एलर्जी मुख्य तौर पर दो तरह की होती है। पहली मौसमी, जो साल में किसी खास वक्त के दौरान ही होती है और दूसरी बारहमासी, जो पूरे साल चलती है। दोनों तरह की एलर्जी के लक्षण एक जैसे होते हैं।मौसमी एलर्जी को आमतौर पर घास-फूस का बुखार भी कहा जाता है। साल में किसी खास समय के दौरान ही यह होता है। घास और शैवाल के पराग कण जो मौसमी होते हैं, इस तरह की एलर्जी की आम वजहें हैं।नाक की बारहमासी एलर्जी के लक्षण मौसम के साथ नहीं बदलते। इसकी वजह यह होती है कि जिन चीजों के प्रति आप अलर्जिक होते हैं, वे पूरे साल रहती हैं।

    नाक की एलर्जी के कारण

    एलर्जी की प्रवृत्ति आपको आनुवंशिक रूप से यानि कि अपने परिवार या वंश से मिल सकती है।किसी खास पदार्थ के साथ लंबे वक्त तक संपर्क में रहने से भी हो सकती है। नाक की एलर्जी को बढ़ाने वाले कारकों में शामिल हैं: सिगरेट के धुएं के संपर्क में आना, जन्म के समय बच्चे का वजन बहुत कम होना, बच्चों को बोतल से ज्यादा दूध पिलाना, बच्चों का जन्म उस मौसम में होना, जब वातावरण में पराग कण ज्यादा होते हैं।

     

    Nassal Allergy

    एलर्जी का इलाज

    नाक की एलर्जी का इलाज करने के सबसे अच्छा तरीका है बचाव होता है । जिन वजहों से आपको एलर्जी के लक्षण बढ़ते हैं, उनसे आपको दूर रहना चाहिए।दवा जिनका उपयोग आप लक्षणों को रोकने और इलाज के लिए करते हैं। इम्यूनोथेरपी में मरीज को इंजेक्शन दिए जाते हैं, जिनसे एलर्जी करने वाले तत्वों के प्रति उसकी संवेदनशीलता में कमी आ जाती है।

    नाक की एलर्जी को आपको नजरंदाज नहीं करना चाहिए। अगर इसका इलाज न किया जाए, तो इससे साइनस, गला, कान और पेट की समस्याएं हो सकती हैं।

     

    ImagesCourtesy@gettyimages

    Read More Article on Allergy in Hindi

    Disclaimer

    इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK