Women's Health: प्यूबिक एरिया में क्यों होते हैं ऐक्ने और पिंपल्स? जानें वैजाइनल पिंपल्स से बचने के उपाय

Updated at: Jun 04, 2020
Women's Health: प्यूबिक एरिया में क्यों होते हैं ऐक्ने और पिंपल्स? जानें वैजाइनल पिंपल्स से बचने के उपाय

वजाइनल एक्ने को अक्सर नजरअंदाज कर देते हैं। पर ये कई बार गंभीर हो कर इंफेक्शन जैसी परेशानियों का कारण बन सकता है।

Pallavi Kumari
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: Pallavi KumariPublished at: Jun 04, 2020

प्यूबिक एरिया शरीर के कुछ सबसे सेंसटिव एरिया में से एक है। हाइजीन की कमी और कई अन्य कारणों से वैजाइनल एरिया में पिंपल्स और एक्ने हो जाया करते हैं। वैजाइनल एरिया में होने वाले एक्ने बहुत दर्दनाक होते हैं और सही से इलाज न किए जाने पर ये संक्रमण का कारण भी बन सकते हैं। कई बार प्यूबिक एरिया में होने वाले पिंपल्स पोर्स के ऊपर या प्यूबिक हेयर की जड़ में उग आते हैं। इस तरह के पिंपल्स में पस के साथ काफी दर्दनाक हो जाते हैं। इनसे बचने के लिए जरूरी है कि आप शुरुआती संकेतों (pimples causes) को समझकर इससे अपना बचाव करें।

insidevaginalhygiene

प्यूबिक एरिया में पिंपल्स के लक्षण की बात करें, तो इनके उगने से पहले वहां की स्किन में खुजली, जलन या लाल ऊभार महसूस होता है। इस उभार को छूने पर दर्द होता है और इनरवियर्स पहनने में भी दिक्कत होती है। वहीं गर्मी के मौसम में जहां पसीने के कारण प्यूबिक एरिया में ये दिक्कत होती है तो कई और कारण भी हैं, जिनके कारण वैजाइनल पिंपल्स हो जाते हैं। तो आइए जानते पहले इसके कारण और फिर प्यूबिक एरिया में मुंहासे का इलाज (Vaginal Pimples Treatment)

प्यूबिक एरिया में पिंपल्स के आम कारण (pimples causes)

रेजर के कारण

अगर आप प्यूबिक एरिया की सफाई के लिए रेजर का इस्तेमाल कर रहे हैं तो आपको एक्ने और रैशेज की परेशानी हो सकती है। आप विशेष रूप से शेविंग क्रीम का उपयोग नहीं करते हैं, तो रेजर बर्न का अनुभव करना बहुत आम बात है। इसके के कारण दिखाई देने वाले पिंपल्स आमतौर पर लाल रंग के होते हैं, जो आमतौर पर गुच्छों में दिखाई देते हैं और काफी खुजली वाले हो सकते हैं। पर आप नारियल तेल या शेविंग क्रीम के इस्तेमाल से रेजर बर्न से बचा जा सकते हैं। एलोवेरा जेल या मॉइस्चराइजिंग क्रीम का उपयोग करके भी आप रेजर के कारण होने वाली खुजली और एक्ने से बच सकते हैं।

उलझे हुए बाल

जब आपको शेविंग की आदत में होते हैं तो ये अधिक बार दिखाई देते हैं, लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि बिकनी क्षेत्र में एक्ने होने के मुख्य कारणो में से एक है उलझे हुए बाल। दरअसल नीचे के बाल आमतौर पर मोटे और घुंघराले होते हैं। इसलिए, जब आप इनकी रेगुलर सफाई नहीं करते हैं, तो आपको एक्ने और रैशेज की परेशानी हो सकती है।

फॉलिकुलिटिस

यह बाल के जड़ों के संक्रमण को संदर्भित करता है। इसमें त्वचा के रोम में गंदगी के निर्माण के कारण फुंसी हो जाती है और फोलिकुलिटिस तब होता है जब क्षेत्र में मौजूद पसीने या बैक्टीरिया के कारण एक्ने होने लगते हैं।

insidepimples

इसे भी पढ़ें : युवा महिलाओं में आम है ये 5 स्वास्थ्य समस्याएं, शारीरिक और मानसिक रूप से करती है प्रभावित

वहीं कुछ और कारणों में ये भी शामिल हैं

  • -साबुन का इस्तेमाल करना
  • -हाइजीन की कमी
  • -लोशन और पाउडर का इस्तेमाल
  • -टैम्पोन या सैनिटरी पैड का इस्तेमाल
  • -कंडोम के कारण
  • - दवाओं के कारण
  • -कपड़े धोने का डिटर्जेंट और ड्रायर शीट के कारण

मुंहासे का इलाज (Vaginal Pimples Treatment)

ढीले कपड़े पहनें

हर दिन ढीले कपड़े पहनने की कोशिश करें और बिस्तर पर जाते समय तंग कपड़े पहनने से बचें। हालांकि, यह और भी महत्वपूर्ण है कि आप हमेशा ऐसे कपड़ों का ही चुनाव करें, जिसमें सांस लेने की जगह हो। इसके लिए हमेशा सूती और ढीले कपड़ों को पहनने की कोशिश करें।

इसे भी पढ़ें : पीरियड्स में पैड्स की जगह आप टैम्पोन का भी कर सकते हैं इस्तेमाल, जानें क्या है ये और कैसे करना है यूज

पिंपल को ठीक करने के लिए गर्म पानी का इस्तेमाल करें

एक साफ कपड़े को गर्म पानी में भिगोएं और इसे लगभग 10 मिनट तक पिंपल के ऊपर रखें। यह थोड़ा दर्दनाक लग सकता है, लेकिन अधिक नहीं। धीरे-धीरे पिंपल की सिकाई करें। ये दिन में कम से कम तीन बार करें। यह इस क्षेत्र में बेहतर रक्त परिसंचरण में योगदान देगा और पिंपल को खुद ही ठीक करने में मदद करेगा।

पेट्रोलियम जेली का इस्तेमाल करें

पेट्रोलियम जेली का इस्तेमाल करें जो कि वजाइन एरिया में इस घर्षण को कम करेगा। दरअसल इस घर्षण के कारण ही बाल टूटते हैं और बड़े पिंपल का कारण बनते हैं। इसलिए जब भी अंडरवियर पहनें उसके अंदर पेट्रोलियम जेली लगा लें।

Read more articles on Women's Health in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK