Diabetes: ज्यादा मीठा खाने से हो सकती हैं त्वचा संबंधी ये 6 दिक्कतें, जानें स्किन को शुगर से होने वाले नुकसान

Updated at: Jan 21, 2021
Diabetes: ज्यादा मीठा खाने से हो सकती हैं त्वचा संबंधी ये 6 दिक्कतें, जानें स्किन को शुगर से होने वाले नुकसान

डायबिटीज के मरीजों में स्किन से जुड़ी परेशानियां काफी गंभीर हो सकती हैं। तो, आइए जानते हैं स्किन को शुगर से होने वाले नुकसान और बचाव का उपाय।

Pallavi Kumari
डायबिटीज़Written by: Pallavi KumariPublished at: Jan 21, 2021

डायबिटीज (diabetes) एक पुरानी बीमारी है जो कि त्वचा संबंधी कई परेशानियों का कारण बन सकती है। ये त्वचा पर घावों या पैरों पर दानों का कारण बनता है। दरअसल, इन परेशानियों का कारण है ब्लड में शुगर की मात्रा का बढ़ जाना (Sugar Harmful Effects On Skin), जो कि ब्लड वेसेल्स और ब्लड सर्कुलेशन को प्रभावित करता है। होता ये है कि खून में शुगर की मात्रा के बढ़ जाने से ब्लड वेसेल्स संकुचित हो जाते हैं और त्वचा तक खून सही ढंग से पहुंच नहीं पाता है। डायबिटीज के कारण रक्त वाहिकाओं में परिवर्तन भी कई गंभीर त्वचा की स्थिति पैदा कर सकता है। जैसे कि संकीर्ण रक्त वहिकाओं में ऑक्सीजन की कमी कोलेजन स्तर में परिवर्तन लाता है, जिससे त्वचा से जुड़ी परेशानियां बढ़ती जाती हैं। डायबिटीज में त्वचा से जुड़ी इन्हीं परेशानियों  (skin issues in diabetes) के बारे में हमने डॉक्टर अजय राणा (Ajay Rana), डर्मेटोलॉजिस्ट एंड एस्थेटिक मेडिसीन फिजिशियन से बात की।

inside4sugar

डायबिटीज में त्वचा संबंधी रोग - Skin Issues In Diabetes

1.त्वचा पर लाल या गहरे रंग के धब्बे (Red or Dark Patches On The Skin)

त्वचा पर लाल या गहरे रंग के धब्बे जैसी त्वचा की स्थिति को नेक्रोबायोसिस लिपोइडिका के रूप में भी जाना जाता है। यह दाने के रूप में शुरू होता है पर बाद में कठोर होने लगता है। कुछ दिनों के बाद, ये धब्बे कठोर और सूजी हुई त्वचा के पैच में बदल जाते हैं। ये पैच लाल, पीले या भूरे रंग के हो सकते हैं। पैच परेशान करने वाले, दर्दनाक और खुजली भरे भी हो सकते हैं। इन काले पैच के आसपास की त्वचा चमकदार दिखती है, रक्त वाहिकाओं को आसानी से देखा जा सकता है।

2.फफोले (Blisters)

फफोले त्वचा की सबसे आम समस्या है जो मधुमेह से पीड़ित किसी भी व्यक्ति पर दिखाई देती है। फफोले ज्यादातर हाथ, पैर, या अग्रभाग पर दिखाई देते हैं। ये फफोले की तरह दिखते हैं जो कि गंभीर जलन का कारण बन सकते हैं। 

3.बैक्टीरियल संक्रमण (Bacterial infections)

बैक्टीरियल संक्रमण विशेष रूप से मधुमेह वाले लोगों के लिए त्वचा की समस्याएं हैं। बैक्टीरियल संक्रमण अक्सर दर्दनाक और स्पर्श करने पर बढ़ सकते हैं। सूजन और लालिमा के साथ ये बड़ी तेजी से बढ़ता है। जब शरीर के ब्लड शुगर का स्तर कालानुक्रम में बढ़ता है, तो यह बैक्टीरियल संक्रमण के आकार, संख्या और आवृत्ति में वृद्धि कर सकता है।

4.डायबिटिक डर्मोपैथी (diabetic dermopathy)

डायबिटिक डर्मोपैथी एक त्वचा की स्थिति है जो गहरे धब्बों के रूप में होते हैं। डायबेटिक डर्मोपैथी का लक्षण हल्का भूरा, त्वचा पर पपड़ीदार पैच, अक्सर पिंडलियों पर होता है। ये पैच आकार में अंडाकार या गोलाकार हो सकते हैं। डायबिटीज डर्मोपैथी आमतौर पर पोषण और ऑक्सीजन के साथ ऊतकों की आपूर्ति करने वाली छोटी रक्त वाहिकाओं को नुकसान के कारण होती है। यह हानिरहित है और इसमें किसी भी उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। ब्लड शुगर कंट्रोल होने से ये सही हो जाता है।

inside1skinrash

इसे भी पढ़ें : डायबिटीज हो सकता है महिला-पुरुष में इनफर्टिलिटी (निःसंतानता) का कारण, डॉक्टर से जानें आयुर्वेद में इसका इलाज

5. कमर और गर्दन के आस पास खुजली (Acanthosis Nigricans)

Acanthosis nigricans गाढ़े, मखमली त्वचा का एक गहरा बैंड होता है, विशेषकर कमर के पास के क्षेत्रों में, गर्दन के पीछे, या बगल में। यह त्वचा की स्थिति प्रीडायबिटीज का संकेत है, लेकिन वे हार्मोनल समस्या या बर्थ कंट्रोल पिल्स, कॉर्टिकोस्टेरॉइड और नियासिन जैसी कुछ दवाओं के प्रभाव के परिणामस्वरूप भी हो सकते हैं। Acanthosis nigrican आनुवंशिक रूप से उन लोगों को प्रभावित करता है जो मोटे हैं और यह इंसुलिन प्रतिरोध का एक मार्कर है। कई मामलों में, रोगी के वजन कम होने पर ये अपने आप सही हो जाता है।

6.डायबिटीज रैश (Diabetic Rash)

डायबिटीज से पीड़ित लोगों को खुजली वाली त्वचा का अनुभव होता है जो बिना किसी कारण के हो सकता हैष लगातार खुजली असहज हो सकती है और अत्यधिक खरोंच हो सकती है, जिससे संक्रमण, बेचैनी और दर्द हो सकता है। खुजली अक्सर डायबिटीज के बढ़ने का एक लक्षण है, जो एक ऐसी स्थिति है जो तब विकसित होती है जब मधुमेह तंत्रिका क्षति की ओर जाता है। मधुमेह के परिणामस्वरूप विकसित होने वाली कुछ त्वचा की स्थिति भी खुजली वाली त्वचा का कारण हो सकती है। मधुमेह वाले व्यक्ति को खुजली वाली त्वचा को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। इन्हें सूखी, या खुजली वाली त्वचा संक्रमित होने की अधिक संभावना होती है इसलिए जरूरी है कि आप अपना ब्लड शुगर कंट्रोल करें।

डायबिटीज रोगियों के लिए स्किन से जुड़ी परेशानियों का इलाज

  • -मधुमेह को सावधानी से प्रबंधित करें और ब्लड शुगर के स्तर को बहुत अधिक होने से रोकें।
  • -बहुत गर्म पानी से नहाने से बचें। गर्म पानी त्वचा से नमी को दूर कर सकता है।
  • -स्नान या शॉवर के बाद त्वचा नम रहे इसके लिए त्वचा पर लोशन (diabetes itching skin treatment) लगाएं। हालांकि, मधुमेह वाले व्यक्ति को पैर की उंगलियों के बीच लोशन नहीं लगाना चाहिए, क्योंकि यह हानिकारक फंगस को आकर्षित करने के लिए नमी के साथ काम करके संक्रमण पैदा करता है।
  • -ऐसे मॉइश्चराइजर से बचें जिनमें कठोर परफ्यूम या डाईज हों। ऐसे उत्पाद की तलाश करें जिसका लेबल बताता है कि लोशन "कोमल" या "हाइपोएलर्जेनिक" ह
  • -आप अपने डर्मेटोलॉजिस्ट की सिफारिश पर टाइप 2 डायबिटीज से जुड़े कुछ प्रकार के त्वचा विकारों के लिए ओटीसी उपचार ले सकते हैं जैसे कि नॉन प्रिस्क्रिप्शन एंटीफंगल, क्लोट्रिमेज़ोल, सामयिक स्टेरॉयड दवाएं जिनमें 1 प्रतिशत हाइड्रोकार्टिसोन होता है।
insidedermopathy

इसे भी पढ़ें : डायबिटीज रोगी इमरजेंसी स्थिति में इन 5 तरीकों से तुरंत कंट्रोल करें अपना ब्लड शुगर

टाइप 2 मधुमेह के कारण कुछ त्वचा की स्थिति इतनी गंभीर है कि इसके लिए दवाओं की आवश्यकता होती है। आप इन त्वचा संक्रमणों, मजबूत एंटिफंगल दवाओं, इंसुलिन थेरेपी का इलाज करने के लिए एंटीबायोटिक्स ले सकते हैं जो त्वचा की स्थिति को कम करने में मदद करते हैं लेकिन ये केवल त्वचा विशेषज्ञ से परामर्श करने के बाद ही लें। आप कई जीवनशैली युक्तियों का पालन कर सकते हैं जैसे कि स्वस्थ आहार का पालन, नियमित व्यायाम, एक स्वस्थ वजन बनाए रखना जो ब्लड के स्तर को संतुलित बनाए रखने में मदद करता है।

हमेशा सूखी त्वचा से बचने और ड्राईनेस रोकने की कोशिश करें जो इन त्वचा समस्याओं की उपस्थिति की संभावना को बढ़ा सकते हैं। अगर आपके पास सूखी त्वचा है, तो इसे खरोंच न करें। यह घाव  बना सकता है और त्वचा के संक्रमण के जोखिम को बढ़ा सकता है। त्वचा पर किसी भी परेशानी के मामले में, तुरंत इसका इलाज करें क्योंकि इससे संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है। तो, स्किन से जुड़ी इन सभी परेशानियों को ध्यान में रखते हुए अपना डायबिटीज कंट्रोल करें और अगर आपको लगता है कि आपके कुछ भी करने से स्थिति नियंत्रण में नहीं है, तो अपने डॉक्टर की मदद लें।

Read more articles on Diabetes in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK