• shareIcon

जानें क्या होती है एंटी एजिंग और कैसे पहुंचाती है स्किन को नुकसान

फैशन और सौंदर्य By Rashmi Upadhyay , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jun 23, 2018
जानें क्या होती है एंटी एजिंग और कैसे पहुंचाती है स्किन को नुकसान

एजिंग की नार्मल प्रक्रिया से जुड़कर हमारी त्वचा पर समय से पहले उम्र का असर दिखाने लगती है। एंटी एजिंग से जुड़ी खास बातों को जानने के लिए पढ़ें ये विशेष लेख।

इन्ट्रिंसिक एजिंग जैसा कि नाम से जाहिर है यह अंदरूनी कुदरती एजिंग प्रक्रिया से संबंधित है, जो अनिवार्य है और लगातार होती है। यह हमारे 20 के दशक के मध्य से ही शुरू हो जाती है जब हमारे शरीर की कुदरती पुनर्निर्माण (रिजेनेरेटिव) प्रक्रिया धीमी पड़ने लगती है। त्वचा की पुरानी एपिडर्मल सेल्स नयी सेल्स द्वारा बदलने की गति धीमी हो जाती है कोलेजेन और इलास्टिन की कमी होने से त्वचा में शिथिलता शुरू हो जाती है। कोलेजेन और इलास्टिन, प्रोटीनों के प्रकार हैं जो शरीर की त्वचा और टिश्यूज में पाये जाते हैं। ये त्वचा को मज़बूत बनाये रखने में और लचीलेपन में क्रमशः सहायक होते हैं। ये बदलाव वर्षों तक नजर ही नहीं आते क्योंकि ये बहुत धीमी गति से होते हैं। इन्ट्रिंसिक एजिंग पर जेनेटिक्स और अंदरूनी कारणों जैसे हार्मोन स्तरों का असर पड़ता है।

 इसे भी पढ़ें : बढ़ती उम्र के प्रभाव से बचना है, तो इस तरह रखें त्वचा का खयाल

 

क्या है एजिंग और इसका उचार

एक्सट्रिंसिक एजिंग या बाहरी कारणों से होने वाली एजिंग, एजिंग की नार्मल प्रक्रिया से जुड़कर हमारी त्वचा पर समय से पहले उम्र का असर दिखाने लगती है। प्री-मेच्योर एजिंग के सबसे कॉमन बाहरी कारणों में शामिल हैं- सन एक्सपोजर (फोटो-एजिंग) और स्मोकिंग। अन्य बाहरी कारणों में हैं बार-बार दोहराए जाने वाले फेशियल एक्सप्रेशंस, स्लीपिंग पोजिशंस और ग्रेविटी।

जैसे-जैसे हम बडे होते हैं, 50 की उम्र के बाद त्वचा में पतलापन आने लगता है और आंखों के आसपास और माथे पर फाइन लाइन्स (फाइन लाइन्स) बनने लगती हैं जो बार-बार दोहराए जाने वाले फेशियल मूवमेंट्स के कारण बनती हैं। त्वचा और मसल्स के बीच फैटी टिश्यूज कम होते जाते हैं (सबक्यूटानियस सपोर्ट) जो उभरे गालों और आंखों के सॉकेट्स के रूप में मौजूद होते हैं और गर्दन तथा हाथों में भी कसावट कम हो जाती है। घटती रक्त वाहिनियों के कारण त्वचा अपनी आभा खो बैठती है। इन बदलावों के अलावा ग्रेविटी अपनी भूमिका निभाती है और त्वचा शिथिल होती जाती है।

इसे भी पढ़ें : बदल दीजिए मेकअप की ये आदतें नहीं तो उम्र से पहले ही दिखना पड़ सकता है बूढ़ा

यह पतली हो जाने वाली त्वचा नाजुक और असुरक्षित हो जाती है और नार्मल हीलिंग में काफी वक्त लगने लगता है। रिंकल्स, फाइन लाइन्स आदि सभी क्षतिग्रस्त त्वचा की ही विशेषताएं हैं। एजिंग के साथ सीबम तैयार करने वाली ग्रंथियां कम काम करती हैं जिससे त्वचा ड्राइ, संवेदनशील और आसानी से डैमेज हो सकने वाली हो जाती है। आपकी त्वचा पर मोल्स(तिल) को किसी दिखावटी बदलाव जैसे कि आकार-प्रकार में बदलाव, ब्लीडिंग और खराश आदि के लिये जांचना चाहिये। किसी बदलाव के होने पर डॉक्टर से सलाह लें क्योंकि यह त्वचा कैंसर का शुरूआती लक्षण हो सकता है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Article on Anti Aging in Hindi

 

 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK