• shareIcon

थुलथुली और मोटी कमर के हो सकते हैं ये 6 कारण, जो करते हैं स्ल्मि-ट्रिम रहने का सपना बर्बाद

वज़न प्रबंधन By शीतल बिष्ट , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Sep 20, 2019
थुलथुली और मोटी कमर के हो सकते हैं ये 6 कारण, जो करते हैं स्ल्मि-ट्रिम रहने का सपना बर्बाद

अधिकतर लोग सही डाइट और एक्‍सरसाइज (Healthy Diet and Excercise)के बाद भी अपने बढ़ते बजन के कारण परेशान रहते हैं। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि आपके बैली फैट और वजन बढ़ने (Belly Fat and Weight Gain) के क्‍या कारण हैं, अगर नहीं, तो आइए हम आ

अधिकतर लड़किया अपने थुलथुले पेट या मोटी कमर के कारण परेशान रहती हैं। आपकी मोटी कमर आपके लिए कपड़े चुन-चुनकर पहने के लिए मजबूर कर देती है। अधिकतर लोग जिनका पेट बाहर होता है वह स्किनी या टाइट कपड़े पहनने से बचते हैं। वहीं लडकियों को उनकी पेट की चर्बी की साड़ी पहनते हुए शर्मिंदगी महसूस करवाती है। यही वजह है कि अधिकतर लड़कियां स्लिम-ट्रिम रखने का सपना रखती हैं, जिससे वह अपने मनचाहे कपड़े पहन सके और अपने दोस्‍तो के बीच फिटनेस फ्रीक बन सके। 

लेकिन कई बार आप फिट रहने के लिए सही डाइट और एक्‍सरसाइज भी करते हैं लेकिन आप फिर वजन घटाने में कामियाब नहीं हो पा रहे हैं, तो इसके पीछे ये 6 कारण हो सकते हैं, जो  आपके बैली फैट या पेट की चर्बी बढ़ने के लिए जिम्‍मेदार हैं। 

आनुवांशिक कारण

यदि सही डाइट और एक्‍सरसाइज के बाद भी आपका वजन कम नहीं होता या आपके पेट की चर्बी बढ़ती है, तो यह आपके जीन के कारण हो सकता है। हालांकि जीन सीधे तौर पर बैली फैट से नहीं जुड़े होते हैं, लेकिन इसका आपके मोटापे पर कुछ प्रभाव पड़ता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि पेट में होने वाला फैट, जो फैट का एक प्रकार है, हमारे पेट के पास जमा होता है और लोगों को मोटा या पतला रखने के लिए ज़िम्मेदार आंशिक रूप से आपके आनुवंशिकी द्वारा निर्धारित किया जाता है। इसलिए, यदि आपके परिवार के लोग मोटे हैं या थे, तो आपको इस समस्या का भी शिकार होना पड़ सकता है।

हाइपोथायरायडिज्म

हाइपोथायरायडिज्म भी आपके वजन बढ़ने के कारणों में से एक है। थायराइड रोग मेटाबॉल्जिम को धीमा कर देता है, जिससे आपके पेट की चर्बी के साथ पूरे शरीर का वजन बढ़ने लगता है। थायराइड हार्मोन आपके शरीर के विभिन्न अंगों को प्रभावित करता है और उनके काम करने की गति को कम कर देता है। परिणामस्वरूप, शरीर कम कैलोरी बर्न कर पाता है और वजन बढ़ता है।

स्टेरॉयड टेबलेट

स्टेरॉयड टेबलेट भी पेट की चर्बी बढ़ने का कारण हो सकती हैं। हार्मोनल परिवर्तन से निपटने के लिए स्टेरॉयड टेबलेट लेने वाली ज्यादातर प्रीमेनोपॉजल महिलाओं में वजन बढ़ने का खतरा होता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि स्टेरॉयड हार्मोन रिबैलेंस करता है, जो शरीर के विभिन्न भागों में, विशेष रूप से पेट के आसपास एक्‍सट्रा फैट बढ़ाता है और आपको मोटापे की ओर ले जाता है।

इसे भी पढें: इसे भी पढें: क्‍यों उम्र के साथ बढ़ता है मोटापा, जानें कारण और वजन घटाने के उपाय

फूड एलर्जी 

सभी प्रकार के खाद्य-पदार्थ एलर्जी वाले नहीं होते लेकिन कुछ खाद्य एलर्जी बढ़ाते हैं, जिससे सीलिएक रोग और ग्‍लूटेन संवेदनशीलता भी सूजन और पेट के बढ़ने का कारण बन सकती है। यह सूजन, जोड़ों के दर्द और सिरदर्द का कारण भी बन सकती है।

इसे भी पढें: वजन घटाने से लेकर ब्‍लड प्रेशर कंट्रोल तक, जानें 1 कप केले की चाय पीने के 5 फायदे और बनाने की विधि

इंसुलिन 

जो लोग डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए इंसुलिन लेते हैं, उनके लिए वजन बढ़ना एक सामान्य दुष्प्रभाव है। इंसुलिन आपके ब्‍लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में मदद करता है। इंसुलिन भी आपके शरीर में विभिन्न रासायनिक परिवर्तनों का कारण बन सकता है, जो ग्लूकोज को अवशोषित करने और ब्‍लड शुगर के स्‍तर को प्रबंधित करने में मदद करता है। हार्मोनल परिवर्तन आम तौर पर वजन बढ़ाने के लिए नेतृत्व कर सकते हैं।

एंटीडिप्रेसेंट

लंबे समय तक एंटीडिप्रेसेंट लेने से भी वजन बढ़ सकता है। दवाएं शरीर में इंसुलिन के स्तर को प्रभावित करती हैं जिससे आपके पेट के आसपास फैट जमा हो जाता है। 

Read More Article On Weight Managment In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK