• shareIcon

कापीकैट डिजीज़ से यूं निपटें

Updated at: Jan 18, 2016
तन मन
Written by: Meera RoyPublished at: Jan 18, 2016
कापीकैट डिजीज़ से यूं निपटें

कुछ बीमारियां ऐसी हैं जिनका व्‍यवहार दूसरी बीमारियों की तरह होता है लेकिन वे वास्‍तव में ये कॉपीकैट बीमारियां हैं, इनके बारे में विस्‍तार से जानने के लिए ये स्‍लाइडशो पढ़ें।

मिसेज बक्शी को हाल ही में ऐसा लगने लगा जैसे कि उन्हें एक रेस्त्रां खोलना चाहिए। वह भी पढ़ी लिखी हैं, लोगों से डील करना जानती हैं। यहां तक कि मेहमान अकसर उनकी मेजमानी की तारीफ करते नहीं थकते। उन्हें एहसास होने लगा कि जिस तरह मिसेज प्रमिला अपना रेस्त्रां बखूबी चला रही हैं, उन्हें भी ठीक वैसा ही करना चाहिए।

 

कापीकैट डिजीज़

दरअसल मिसेज बक्शी को यह समझ नहीं आया कि वह कब कापीकैट डिजीज़ की शिकार हो गई हैं। इन दिनों कापीकैट डिजीज़ तेजी से फैल रहा है। यह एक ऐसी बीमारी है जिसके तहत मरीज किसी दूसरे को कापी करने की कोशिश करता है। वह किसी व्यक्ति विशेष जैसा बनना चाहता है, करना चाहता है यहां तक की उठना, बैठना, खाना पीना तक उसकी कापी करना चाहता है। विशेषज्ञों की मानें कापी करने का भूत इस हद तक सिर चढ़ जाता है कि उसने बालों में कौन सा रंग लगाया है, किस शापिंग सेंटर में शापिंग करने गई है, यह भी आपकी जानकारी में रहता है।

 

 Copycat Disease Syndrome in Hindi

 

प्रसिद्धि

सामान्यतः कापीकैट डिजीज़ दिखने में खासा परेशानी का सबब नहीं प्रतीत होता। कुछ मरीज यहां तक मान बैठते हैं कि ऐसा करने से वे लोगों के बीच प्रसिद्ध हो रहे हैं, उनकी हर जगह वाहवाही हो रही है। जबकि हकीकत इससे इतर होती है। वास्तव में किसी और को कापी करने से होता यह है कि आपको जानने वाले लोग आपको नापसंद करने लगते हैं।

 

खुद को खो देना

कापीकैट डिजीज़ इस हद तक आपको लील जाता है कि आप अपने वजूद तक खो देते हैं। दरअसल इस डिजीज़ के चलते मरीज दूसरों को कापी करने में इतना मशगूल होता है, उसकी जानकारियां एकत्रित करने में इस तरह व्यस्त रहता है कि उसका अपना व्यक्तित्व किसी धुंधलके में छिप जाता है।

 

सफलता से दूर

हो सकता है कि दूसरों को कापी करने के चलते आपको हार का डर न हो। यह भी हो सकता है कि आपको कभी भी किसी तरह का नुकसान न झेलना पड़े। लेकिन यह भी ध्यान रखें कि कापी करने से सफलता भी आपको गले नहीं लगाएगी। अपितु आपसे दूर ही रहेगी।

 

अपनी पहचा बनाएं

जब आपको लगने लगे कि कापीकैट सिंड्रोम आपको घेर रहा है तुरंत खुद को बदलने की कोशिश करें। संभव हो अपने लिए नई पहचान तलाशें। अपने परिचितों के बीच किसी की कार्बन कापी नहीं वरन एक नई वजूद के साथ सामने आएं।

 

अपनों से बातें करें, यदि आपको लगता है कि कापीकैट डिजीज़ आपको पूरी तरह लील रहा है तो जल्द से जल्द किसी अपने से बातें करें। उसे अपनी समस्या बताएं।


Image Source - Getty

Read More Article On Healty Living in Hindi.

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK