Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

क्या है बच्‍चों में निर्जलीकरण और कैसे करें बचाव

परवरिश के तरीके
By जया शुक्‍ला , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / May 23, 2011
 क्या है बच्‍चों में निर्जलीकरण और कैसे करें बचाव

च्चे निर्जलीकरण के प्रति अधिक प्रवण होते हैं क्योंकि वयस्कों की तुलना में उनके शरीर में पानी का प्रतिशत अधिक होता है। यदि तरल पदार्थ का सेवन अपर्याप्त है तो बच्चे को उल्टी, दस्त, बुखार, या पसीने की वजह से निर्जलीकरण हो सकता है।

Quick Bites
  • शरीर में आवश्यकता से कम तरल पदार्थ का मतलब है निर्जलीकरण।
  • वयस्कों की तुलना में बच्चों के शरीर में पानी का प्रतिशत अधिक होता है।
  • घर के इलाज से सुधार न हो रहा हो तो उसे तुरंत अस्पताल ले जाएं।
  • यदि आपका बच्चा बीमार लग रहा हो तो उसे तुरंत अस्पताल ले जाएं।

यदि आपका बच्चा निर्जलित है, इसका मतलब है कि उसके शरीर में आवश्यकता से कम तरल पदार्थ है। बच्चे निर्जलीकरण के प्रति अधिक प्रवण होते हैं क्योंकि वयस्कों की तुलना में उनके शरीर में पानी का प्रतिशत अधिक होता है। यदि तरल पदार्थ का सेवन अपर्याप्त है तो बच्चे को उल्टी, दस्त, बुखार, या पसीने की वजह से निर्जलीकरण हो सकता है। निर्जलीकरण की गंभीरता भिन्न हो सकती है। ये हल्के से गंभीर और जीवन घातक हो सकती है।

 

कुछ संकेत और लक्षण जिनसे आपके बच्चे के निर्जलित होने का पता चल सकता है

  • पिछले आठ घंटे से पेशाब नहीं आना।
  • गहरा पीले रंग, तेज़ महक, थोड़ी मात्रा में मूत्र आना। 
  • सुस्ती या उनींदापन।
  • सूखे, फ़टा मुंह, जीभ और होंठ।
  • रोने पर आंसुओं का अभाव ।

 

 

 

निर्जलीकरण के लिए प्राथमिक उपचार

  • यदि आपका बच्चा निर्जलित है तो उसे पानी, ओआरएस, या अन्य तरल पदार्थ जैसे नारियल पानी, नींबू पानी बार-बार दें। हर 5-10 मिनट में घूंट में पीने के लिए प्रोत्साहित करें। बहुत अधिक फलों का रस न दें।
  • निर्जलीकरण को रोकने के लिए सुनिश्चित करें कि आपका प्रीस्कूल का बच्चा खूब तरल पदार्थ का सेवन करे विशेष रूप से जिस दिन बहुत गर्मी हो, या जब उसे उल्टी, दस्त, या बुखार हो।
  • यदि आपका बच्चा बीमार लग रहा हो तो उसे तुरंत अस्पताल ले जाएं। गंभीर निर्जलीकरण की स्थिति में, बच्चे को एक अंतःशिरा (चतुर्थ) तरल पदार्थ दिया जा सकता है जब तक वह पुनर्जलीकृत न हो जाए।

 

सौभाग्य से, अधिकांश बच्चों में घर पर ही सुधार हो जाता है और पुनर्जलीकृत हो जाते हैं। लेकिन यदि आपके प्रीस्कूल के बच्चे को लगातार उल्टी, दस्त या घर के इलाज से सुधार न हो रहा हो तो उसे तुरंत अस्पताल ले जाएं।

 

Image Source - Getty Images

 

 

Written by
जया शुक्‍ला
Source: ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभागMay 23, 2011

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK