अधिक टेलीविजन देखने से बढ़ता है मोटापा

अधिक टेलीविजन देखने से बढ़ता है मोटापा

जो लोग टीवी अधिक देखते हैं उनका वजन बढ़ने का खतरा अधिक होता है। अधिक जानने के लिए इस लेख को पढ़ें।

वजन बढ़ने के लिए सबसे ज्‍यादा जिम्‍मेदार लाइफस्‍टाइल होती है। यदि आप अपनी लाइफस्‍टाइल में एक्टिव नहीं हैं तो मोटापे के शिकार हो सकते हैं। बढ़ते वजन को लेकर बहुत शोध हुए हैं और इससे बचाव के लिए तरीके भी ईजाद किये जा रहे हैं, क्‍योंकि मोटापा के कारण कई प्रकार की बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है।

जो लोग टीवी अधिक देखते हैं उनका वजन बढ़ने का खतरा अधिक होता है। एक शोध में यह बात सामने आयी है कि हफ्ते में 5 घंटे टीवी देखने वालों की अपेक्षा 21 घंटे देखने वालों में मोटापा का खतरा दो गुना ज्यादा होता है। आइए हम आपको इसके बारे में विस्‍तार से जानकारी देते हैं।

इसे भी पढ़ें : जिम करने के बाद जरूर खाएं ये 5 चीजें

TV

क्‍या कहता है शोध

ज्यादा टीवी देखने को आंखों के लिए नुकसानदेह बताया जाता रहा है। लेकिन यह मोटापा भी बढ़ाता है। एक हालिया शोध में ज्यादा टीवी देखने को सुस्ती और मोटापा बढ़ाने के लिए जिम्मेदार बताया गया है। 'सीडेंटरी बिहेवियर एंड ओबेसिटी' (सुस्त व्यवहार और मोटापा) नामक शोध में मोटापे की समस्या को टीवी के सामने ज्यादा घंटे गुजारने का परिणाम बताया गया है।

इसके लिए कनाडा में 20 से 64 साल तक के 42,600 लोगों पर किए गए शोध में ज्यादा टीवी देखने वाले स्त्री-पुरुषों के मोटापे में वृद्धि देखी गई। शोध के मुताबिक हफ्ते में 5 घंटे या उससे कम टीवी देखने वाले लोगों की अपेक्षा 21 घंटे या उससे ज्यादा टीवी देखने वाले लोगों के मोटापे में दोगुनी वृद्धि पाई गई। साथ ही हफ्ते में औसतन 5 घंटे कंप्यूटर पर काम करने वाले लोगों की अपेक्षा 11 घंटे या उससे ज्यादा काम करने वाले लोगों में भी मोटापे का स्तर बढ़ा पाया गया।

इसे भी पढ़ें : कौन सा चॉकलेट है हेल्‍दी ? वाइट, मिल्‍क या डार्क !

मोटापे के अन्‍य कारण

  • आजकल लोग शारीरिक रूप से सक्रिय नहीं होते हैं, खासकर बच्चे, जो बाहर खेलने-कूदने के बजाय कंप्यू्टर, मोबाइल और वीडियो गेम खेलना अधिक पसंद करते हैं। जिससे कारण वे मोटापे का शिकार हो रहे हैं। सिर्फ बच्चे ही नहीं, ऑफिस जाने वाले युवा भी आज निष्क्रिय जीवनशैली जी रहे हैं, जिससे मोटापे की समस्‍या बढ़ रही है।
  • फास्‍ट फूड और जंक फूड के सेवन के कारण भी वजन बढ रहा है। आजकल लोग घर के स्वादिष्ट  व्यंजन और पौष्टिक खाना खाने के बजाय जंकफूड खाना पसंद करते हैं जो कि मोटापे के प्रमुख कारणों में से एक हैं। जंकफूड से ना सिर्फ मोटापा बढ़ता है बल्कि कई बीमारियां होने का खतरा भी रहता है।
  • आजकल लोग व्‍यस्‍त दिनचर्या के कारण व्‍यायाम के लिए समय नहीं निकाल पाते हैं, यह भी मोटापे की प्रमुख वजहों में से एक है। यदि नियमित व्‍यायाम न किया जाये तो शरीर ऊर्जावान भी नहीं रहता और वजन भी बढ़ता है।
  • कुछ लोग फिट होने के लिए डायटिंग जैसी आदतों को अपनाते हैं, नतीजन वे डायटिंग ठीक तरह से नहीं कर पाते जिससे उनका मोटापा कम होने के बजाय बढ़ जाता हैं।
  • कुछ लोगों को हर समय खाने की आदत होती है फिर चाहे उन्होंने थोड़ी देर पहले ही खाना क्यों ना खाया हो। ऐसे में हर समय खाने की आदत भी मोटापे का कारण बनती हैं।
  • कई बार मोटापे के कारणों में आनुवांशिकता भी छिपी होती हैं यानी घर का कोई सदस्य या माता-पिता में से कोई मोटापे का शिकार है तो बच्चे को भी मोटापे की शिकायत होती है।
  • तनाव लेने से भी वजन बढ़ता है। कई बार लोग जरूरत से ज्यादा तनाव ले लेते हैं। तनाव, डिप्रेशन और अवसाद जैसी चीजें मोटापे को जन्म देती हैं।
  • दवाइयों और अन्‍य बीमारियों के कारण भी वजन बढ़ सकता है। किसी बीमारी के चलते लंबे समय तक दवाईयों का सेवन भी मोटापे का कारण बन सकता है। दरअसल दवाओं का साइड-इफेक्ट भी मोटापे के कारणों में से एक हैं।

मोटापे से बचने के लिए जरूरी है स्‍वस्‍थ दिनचर्या का पालन करना, पौष्टिक आहार के सेवन के साथ-साथ नियमित व्‍यायाम के द्वारा वजन को बढ़ने से रोका जा सकता है।

 

Image Source : Getty

Read More Articles on Weight Management in Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।