सुसाइड करने से पहले व्यक्ति में दिखते हैं ये 5 संकेत, समय रहते जान लें लक्षण नहीं तो हो सकता है नुकसान

Updated at: Sep 10, 2020
सुसाइड करने से पहले व्यक्ति में दिखते हैं ये 5 संकेत, समय रहते जान लें लक्षण नहीं तो हो सकता है नुकसान

सुसाइड करना या अत्‍महत्‍या करना एक मानसिक परेशानी है। अक्‍सर लोग सुसाइड तभी करते हैं जब वे डिप्रेशन या किसी मानसिक विकार से जूझ रहे होते हैं।

सम्‍पादकीय विभाग
अन्य़ बीमारियांWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Jun 17, 2020

दिमाग में सुसाइड थॉट काफी हद तक डिप्रेशन के कारण आते हैं। जो लोग डिप्रेशन की चपेट में होते हैं वह धीरे-धीरे दुनिया से और खुद से इतनी दूर चले जाते हैं कि वहां से वापिस आना उन्हें नामुमकिन लगता है। ऐसे लोग अंदर ही अंदर घुटने लगते हैं और सुसाइड करना ही उन्हें एकमात्र उपाय लगता है। जबकि ऐसा नहीं है कि सुसाइड थॉट को रोका नहीं जा सकता है। बस, हमें जरूरत है उन संकेतों और लक्षणों को पहचानने की जो सुसाइड करने वाले व्यक्ति में दिखती हैं।

जो व्यक्ति डिप्रेशन में होता है या जिसके दिमाग में सुसाइड थॉट आते हैं वह व्यक्ति काफी समय पहले से ही अंदर-अंदर परेशान, आशाहीन, फेलियर और पैनिक जैसी चीजें फील करता है। यह जरूरी नहीं है कि आपको ये लक्षण उस व्यक्ति के चेहरे या पर्सनेलिटी में दिखे। ऐसे लोग अंदर ही अंदर घुटते रहते हैं और उनके साथ रहने के बावजूद आपको इसका आभास तक नहीं होता है। इसका ताजा उदाहरण बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत हैं। आज इस आर्टिकल में हम आपको 5 ऐसे संकेत बता रहे हैं जिन्हें आप किसी व्यक्ति में देखकर उसकी स्थिति का जायजा ले सकते हैं और समय रहते उसकी मदद कर सकते हैं।

Suicidal-Behaviour

1. सोने और खाने के पैटर्न मे बदलाव

डॉक्टर बर्मी कहती हैं कि सोने और खाने के पैटर्न में आया बदलाव भी काफी हद तक डिप्रेशन की ओर संकेत करता है। यदि आप खुद या फिर आपके आसपास कोई व्यक्ति अपने रेगुलर पैटर्न से ज्यादा या कम खा रहा है या ज्यादा या कम सो रहा है तो आपको सतर्क हो जाना चाहिए। ऐसे व्यक्ति के साथ बैठकर आपको आराम से बात करनी चाहिए और उसकी मानसिक स्थिति को समझने का प्रयास करना चाहिए। हो सकता है आपकी ये हरकत उसे मौत के मुंह में जाने से रोक सके।

इसे भी पढ़ें: लोग आत्‍महत्‍या क्‍यों करते हैं? एक्‍सपर्ट से जानें सही वजह और बचाव

2. ड्रग्स या शराब का अधिक सेवन

जरूरत से ज्यादा ड्रग्स या शराब का सेवन शरीर को बहुत बुरी तरह से प्रभावित करता है। इनके सेवन से शरीर के कार्य करने की क्षमता तो कम होती है साथ ही पुरुषों की सेक्स क्षमता भी प्रभावित होती है। डॉक्टर बर्मी कहती हैं कि पहले की तुलना में अधिक शराब का सेवन डिप्रेशन की ओर इंगित करता है। ऐसे व्यक्ति यदि समय रहते खुद पर काबू नहीं पाते हैं तो सुसाइड भी कर सकते हैं। यदि आपके आसपास का कोई व्यक्ति ऐसा करता है तो जितना हो सकता है उसकी मदद करें।

Suicidal-Behaviour

3. उम्मीद का टूट जाना

अगर कोई आपको बताता है कि वह ऐसी स्थिति में फंस गया है जहां वह आशाहीन महसूस कर रहा/रही है तो ये संकेत देता है कि वह व्यक्ति डिप्रेशन में है और उसके दिमाग में सुसाइड थॉट आ सकते हैं। ऐसे व्यक्ति से आप खुद बात करें और पता करें कि उसकी स्थिति कितनी गंभीर है। ऐसे व्यक्ति को भरोसा दें कि सब कुछ ठीक हो जाएगा और वह जल्दबाजी या आशाहीन होकर कोई गलत फैसला न लें। अगर जरूरत पड़े तो मनोवैज्ञानिक डॉक्टर से मिलकर जांच करें।

इसे भी पढ़ें: लंबे समय तक डिप्रेशन भी बन सकती है आत्‍महत्‍या की वजह, जानें बचाव के तरीके 

4. हद से ज्यादा मूड स्विंग होना

बहुत तेजी से मूड स्विंग होना अच्छा संकेत नहीं है। जिन लोगों को मूड रोजाना बदलता रहता है उन्हें खुद पर ध्यान देने की जरूरत होती है। कुछ लोग ऐसे होते हैं जो एक दिन बहुत इमोशनल हो जाते हैं और दूसरे ही दिन बहुत सीरियस हो जाते हैं, ऐसे लोग यदि आपके आसपास हैं तो उन पर ध्यान दें और उनके साथ बैठकर वक्त बिताएं। डॉक्टर कहते हैं कि इस मिजाज से व्यक्तित्व में बदलाव आता है और व्यक्ति गंभीर रूप से चिंतित या उत्तेजित हो सकता है। यानि कि मूड स्विंग भी डिप्रेशन सा सुसाइड थॉट का संकेत हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य का भी होता है प्राथमिक उपचार, जानें कब और किसे होती है इसकी जरूरत

5. सोशल कनेक्शन टूटना

डिप्रेस्ड व्यक्ति धीरे धीरे अपने आसपास के लोगों से दूर होने लगता है। जिन लोगों के साथ वह पहले घंटों वक्त बिताया करता था उन्हीं लोगों से वह कटने लगता है। यह भी एक संकेत है।

Read More Articles On Other Disease In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK