स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है 'वॉकिंग मेडिटेशन', हेल्थ से जुड़ी ऐसी ही नई चीजों को जानने के लिए खेलें ये क्विज

Updated at: Apr 08, 2020
स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है 'वॉकिंग मेडिटेशन', हेल्थ से जुड़ी ऐसी ही नई चीजों को जानने के लिए खेलें ये क्विज

2018 के एक अध्ययन के अनुसार, जो लोग हर रोज 15 मिनट तक वॉकिंग मेडिटेशन करते हैं, उनके मनोदशा, चिंता के स्तर और रक्तचाप में सुधार दिखा है।

Pallavi Kumari
तन मनWritten by: Pallavi KumariPublished at: Apr 08, 2020

वॉकिंग मेडिटेशन (walking meditation) एक माइंडफुलनेस प्रैक्टिस है, जिसकी उत्पत्ति बौद्ध धर्म में हुई है। इसका अभ्यास कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकता है। 'यूनिवर्सिटी ऑफ विस्कॉन्सिन-मैडिसन' के एक अध्ययन के अनुसार, गठिया, सूजन आंत्र रोग और अस्थमा जैसी पुरानी बीमारियों से पीड़ित लोगों को इस तरह की माइंडफुलनेस मेडिटेशन तकनीकों से लाभ हो सकता है। वहींजर्नल 'ब्रेन, बिहेवियर एंड इम्यूनिटी' ने अध्ययन में भी बताया गया है कि कैसे वॉकिंग मेडिटेशन आपके मानसिक स्वास्थ्य को भी बढ़ावा दे सकता है। तो आइए जानते हैं क्या है ये मेडिटेशन और हम इसे कैसे कर सकते हैं।

insidewalkingmeditationbenefits

क्या है वॉकिंग मेडिटेशन (walking meditation)?

वॉकिंग मेडिटेशन की बात करें, तो आमतौर पर इसमें व्यक्ति को एक सर्कल में, एक सीधी रेखा में या एक भूलभुलैया में लगातार चलना होता है। इस तरह एक ही जगह पर शरीर और मस्तिष्क को एक साथ केंद्रित करते हुए चलने से ये आपको कंस्ट्रक्टेड बनाता है और आपको ध्यान की मुद्रा में ले जाता है। इस तरह मेडिटेशन के साथ आप एक लंबी सैर कर आते हैं, जो आपकी शारीरिक समेत मानसिक स्वास्थ्य को भी बढ़ावा देता है।

अब खेलें ये क्विज और परखें अपना हेल्थ ज्ञान:

Loading...

कैसे करें वॉकिंग मेडिटेशन

वॉकिंग मेडिटेशन को करने के लिए आपको अपनी गति धीमी रखनी होगी। इस तरह के ध्यान में आप कई तकनीकों का पालन कर सकते हैं। आप इत्मीनान से टहल सकते हैं या आप प्रत्येक चरण को छह भागों में तोड़ सकते हैं या चलते समय एक मंत्र पढ़ सकते हैं। विचार आपके मन में लगातार आते जाते रहेंगे पर कुछ दूरी चलने के बाद आपका शरीर शांत होने लगेगा और मन भी एक जगह केंद्रित हो जाएगा। आइए अब जानते हैं इनके अन्य स्वास्थ्य लाभ के बारे में।

इसे भी पढ़ें : World Health Day 2020: ध्यान (मेडिटेशन) करने के हैं 5 तरीके, जानिए आपके लिए कौन सा तरीका है सही

वॉकिंग मेडिटेशन के फायदे (benefits of walking meditation)

ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाता है

चलने वाले ध्यान का उपयोग अक्सर उन लोगों द्वारा किया जाता है जो लंबे समय तक बैठते हैं। चलने का अभ्यास रक्त प्रवाह को बेहतर बनाने में मदद करता है, विशेष रूप से पैरों को। यह सुस्ती या स्थिरता की भावनाओं को कम करने में मदद करता है। अगर आप विस्तारित अवधि के लिए बैठने का काम कर रहे हैं तो माइंडफुल घूमना भी रक्त परिसंचरण को बढ़ावा देने और अपनी ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने का एक शानदार तरीका है।

पाचन में सुधार

खाने के बाद चलना पाचन को बढ़ावा देने का एक शानदार तरीका है, खासकर अगर आप भारी या भरा हुआ महसूस कर रहे हैं। इस तरह एक ही जगह पर इस तरह से चलते रहना आपके पाचन तंत्र के माध्यम से भोजन को स्थानांतरित करने में मदद करता है। वहीं ये कब्ज जैसी पेट की परेशानियों को भी ठीक करने में मदद करता है।

insidemeditation

इसे भी पढ़ें: अपने आपको तनावमुक्त रखने के लिए लें मेडिटेशन का सहारा, घर पर ऐसे लगाएं ध्यान

स्ट्रेस कम करता है

अगर आप अपने तनाव के स्तर को कम करना चाहते हैं, तो आपको काम करने से पहले या बाद में एक ध्यान का अभ्यास जरूर करना चाहिए। खसकर युवा वयस्कों को, जिनमें आज मानसिक बीमारियों की शिकायत बढ़ती ही जा रही है। वहीं 2017 के एक अध्ययन से पता चलता है कि ध्यान के साथ जुड़ने पर चिंता के लक्षणों को कम करने में चलना अधिक प्रभावी है।जिन प्रतिभागियों ने अपनी चिंता के स्तरों में सबसे महत्वपूर्ण परिवर्तन दिखाया, उन्होंने या तो ध्यान किया, चलने से पहले ध्यान लगाया, या ध्यान करने से पहले चले। यानी कि प्रत्येक ध्यान से चलने का सत्र अगर आपने 10 मिनट का तय किया है तो ये आपके लिए जरूर फायदेमंद होगा।

ब्लड शुगर के स्तर और इसके सर्कुलेशन में सुधार करता है

2016 के एक छोटे से अध्ययन ने निष्कर्ष निकाला कि एक बौद्ध-आधारित चलने वाले ध्यान अभ्यास का रक्त शर्करा के स्तर और टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों में परिसंचरण पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। लोगों ने 12 मिनट के लिए सप्ताह में 3 बार 30 मिनट के लिए दिमागदार या पारंपरिक चलने का अभ्यास किया। ऐस में इस तरह से चलने का अभ्यास करने वाले समूह ने पारंपरिक चलने वाले समूह की तुलना में अधिक लाभ पाया।

नींद की गुणवत्ता में सुधार करता है

व्यायाम के लाभों को प्राप्त करने के लिए, गहन कसरत करना आवश्यक नहीं है। 2019 के शोध से पता चला कि नियमित व्यायाम नींद की गुणवत्ता पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। ऐसे में चलने से लचीलेपन में सुधार और मांसपेशियों में तनाव को कम करने में मदद मिलती है और शारीरिक बेहतर महसूस करता है। साथ ही, ये आपके तनाव और चिंता की भावनाओं को भी कम करने में मदद करता है, खासकर जब आप सुबह के वक्त चलते हैं। इन सभी चिंता से जुड़े मन के भावों को आप एक शांत, स्पष्ट मन के साथ छोड़ देते हैं, इस तरह हर रात आपको एक गहरी नींद आती है।

Read more articles on Mind-Body in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK