• shareIcon

ज्यादा देर घुटने के बल बैठने से हो सकती हैं बच्चों को ये गंभीर समस्याएं, इन तरीकों से बचाएं अपने बच्चे

बच्‍चे का स्‍वास्‍थ्‍य By जितेंद्र गुप्ता , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jul 17, 2019
ज्यादा देर घुटने के बल बैठने से हो सकती हैं बच्चों को ये गंभीर समस्याएं, इन तरीकों से बचाएं अपने बच्चे

बच्चों को घुटने के बल बैठना बेहद पसंद होता है, जिसमें वह अपनी टांगों को पीछे ओर मोड़कर दोनों ओर फैलाकर बैठते हैं। इस स्थिति को अंग्रेजी में 'डब्लू' की स्थिति कहते हैं। 

माता-पिता अक्सर अपने बच्चों को ज्यादातर एक ही अवस्था में बैठे हुए पाते हैं, विशेषकर जब बच्चे काफी छोटी उम्र के होते हैं। बच्चों को घुटने के बल बैठना बेहद पसंद होता है, जिसमें वह अपनी टांगों को पीछे ओर मोड़कर दोनों ओर फैलाकर बैठते हैं। इस स्थिति को अंग्रेजी में 'डब्लू' की स्थिति कहते हैं। हालांकि कई लोग इस अवस्था को नुकसानदेह मानते हैं लेकिन अभिभावकों को इससे डरने की जरूरत नहीं है लेकिन उन्हें बच्चों की आदतों में सुधार जरूर करना चाहिए।

आखिर क्यों घुटने के बल बैठना है खराब

बैठने को एक नई स्वास्थ्य बीमारी के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। हालांकि बहुत देर तक घुटने के बल बैठने से रीढ और कमर के निचले हिस्से में दर्द हो सकता है, जिसके कारण बैठने में परेशानी और कई प्रकार की परेशानियां हो सकती हैं। लगातार एक अवस्था में बैठने से आपकी बॉडी के निचले हिस्से जैसे हिप्स और घुटने के जोड़ों पर दबाव बन सकता है।

घुटने के बल बैठने से हो सकता है जोड़ो में दर्द

बच्चों के लगातार घुटने के बल बैठे रहने से हाइपरमोबाइल की स्थिति पैदा हो सकती है, जिसके कारण उनके जोड़ों में दर्द और ट्रंक की मांसपेशियां कमजोर हो सकती है। दरअसल ऐसा उस स्थिति में होता है जब वह लगातार घुटने के बल बैठे रहते हैं और इस दौना वह उतने सक्रिय नहीं हो पाते, जितनी की आवश्यकता होती है।

इसे भी पढ़ेंः क्या सच है गौमूत्र से कैंसर का इलाज? जानें इससे जुड़े मिथ और तथ्य

शरीर के कई हिस्सों पर पड़ता है दबाव

बहुत देर तक घुटने के बल बैठे रहने से गर्दन, कंधे और पीठ के ऊपरी हिस्सों पर दबाव पड़ता है। इसके साथ ही अगर आपका बच्चा लगातार घुटने के बल बैठकर टीवी देखता रहता है या फिर  उसके कंधे पर अधिक भार डाला हुआ है तो उसकी इन जगहों पर दर्द होना शुरू हो जाएगा और उसे परेशानी का सामना करना पड़ेगा।

जहां तक संभव हो बच्चों को ऐसा न बैठने दे क्योंकि अगर बच्चा ज्यादा देर तक इसी अवस्था में बैठा रहेगा तो उसकी बॉडी की अलाइनमेंट में असंतुलन हो सकता है।

इसे भी पढ़ेंः  खड़े होकर पानी पीने से किडनी और ह्रदय रोग का बढ़ जाता है खतरा, जानें पानी पीने का सही तरीका

अपने बच्चों को इन चीजों के लिए प्रोत्साहित करें

  • बच्चों को ज्यादा से ज्यादा देर तक मैदान में समय बिताने को कहें और बाहर घूमने के लिए भेजें।
  • इससे उनके हिप्स और रीढ में प्राकृतिक लचीलापन बरकरार रखने में मदद मिलेगी, जिससे उनकी बॉडी का संतुलन बरकरार रहेगा।
  • मैदान पर समय बिताने से उन्हें बॉडी कनेक्शन में भी मदद मिलेगी। इसके कारण वह गैजेट और घर के अंदर फालतू काम करने से बचे रहेंगे। 
  • उन्हें  बैठने के लिए एक आरामदायक कुशन दें ताकि वह आराम से आलती-पालती या फिर सीधे बैठें। इससे उनके घुटने मुड़ेंगे भी नहीं और शरीर में भी कोई दिक्कत नहीं होगी।
  • आर्ट और होमवर्क के लिए एक छोटी टेबल का प्रयोग करें। इसके अलावा बैठने के वक्त में संतुलन बनाएं और परीक्षा के लिए पढ़ाई के बाद उन्हें बाहर खेलने के लिए जरूर भेजें।

Read More Articles On Miscellaneous in Hindi

 

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।