इस तरह पकाएंगे सब्जी तो नहीं होगी कब्ज, विटामिंस का भी मिलेगा लाभ

इस तरह पकाएंगे सब्जी तो नहीं होगी कब्ज, विटामिंस का भी मिलेगा लाभ

तनाव भरे माहौल, अव्यवस्थित जीवनशैली व बढ़ती बीमारियों के बीच स्वयं को सेहतमंद रखना चुनौती है।

तनाव भरे माहौल, अव्यवस्थित जीवनशैली व बढ़ती बीमारियों के बीच स्वयं को सेहतमंद रखना चुनौती है। इसके लिए खानपान पर ध्यान देना है बेहद जरूरी। इस लिहाज से ताजे फल व सब्जियों को भोजन में शामिल करने के साथ ही यह जानना भी आवश्यक है कि उन्हें पकाने व खाने का सही तरीका क्या है, जिससे आपको उनमें पाए जाने वाले पोषक तत्वों का अधिकतम लाभ मिल सके। आइए जानते हैं-

बड़े पीस होते हैं बेहतर

जब सलाद के लिए फल व सब्जियां काटें तो छोटे-छोटे टुकड़े करने के बजाय बड़े पीस करना बेहतर रहता है। इस तरह उनमें मौजूद विटामिन्स बर्बाद नहीं होते। छोटे पीस करने से खाद्य पदार्थ में मौजूद पोषक तत्व जब हवा के संपर्क में आते हैं तो उनका प्रभाव कम होने लगता है। बेहतर होगा कि उन्हें छोटे क्यूब्स में काटने के बजाय लंबाई में काटें। यही नहीं सब्जियां उबालने पर उनमें मौजूद विटामिन सी, बी-1, फोलेट इत्यादि पोषक तत्व पानी में घुल जाते हैं, इसलिए उन्हें भी बड़े पीस में काटना बेहतर रहता है। अच्छा होगा कि सब्जियां उबालने के बाद उसका जो पानी बचता है, उसे सूप स्टाक के रूप में प्रयोग करें।

दिल के लिए टमाटर

एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर टमाटर में लाइकोपीन नामक पोषक तत्व पाया जाता है। विभिन्न अध्ययनों से यह जाहिर हुआ है कि जब टमाटर को पकाते हैं तो उसमें कुछ केमिकल बदलाव होते हैं और उसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व का स्तर बढ़ जाता है, जो हृदय के स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी है। ग्रिल्ड टमाटर पर नमक व कालीमिर्च पाउडर डालकर खाने का आइडिया हेल्दी और टेस्टी है।

इसे भी पढ़ें : ओवरईटिंग यानी ज्‍यादा खाने से होती है ये 9 बीमारियां, ऐसे करें खुद पर कंट्रोल

लहसुन के फायदे

लहसुन में ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो कैंसर से लडऩे में मददगार हैं। इसका सेवन दिल की बीमारियों को दूर रखने व ब्लड प्रेशर संतुलित रखने के लिहाज से भी लाभकारी है। हालांकि तेज आंच के संपर्क में आने पर इसमें पाए जाने वाला सबसे अहम् पोषक तत्व लाइनेस एंजाइम नष्ट होने लगता है। विशेषज्ञों के अनुसार लहसुन के अधिकतम लाभ सुनिश्चित करने के लिए उसकी कलियों को छीलने व काटने के बाद कम से कम 10-15 मिनट तक यूं ही रखा रहने दें। ऐसा करने से लहसुन में ऐसे तत्व उत्पन्न हो जाते हैं, जो तेज आंच में डाले जाने पर भी उसकेपोषक तत्व नष्ट नहीं होने देते। इसलिए जब अगली बार खाना पकाएं तो इसका ख्याल रखें कि लहसुन के पोषक तत्व नष्ट न होने पाएं।

इसे भी पढ़ें : दोपहर के भोजन में शामिल करें ये 5 चीज, वजन होगा कंट्रोल बॉडी रहेगी फिट

लोहे के बर्तनों का प्रयोग

जब आयरन रिच सब्जियां जैसे पालक इत्यादि को पकाना हो तो लोहे के बर्तनों का इस्तेमाल बेहतर रहता है। इससे खाद्य पदार्थ में आयरन की मात्रा बढ़ जाती है जो स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। जब हरी पत्तेदार सब्जियां पकानी हो तो उन्हें धीमी आंच पर पकाना बेहतर रहता है, ताकि उनके पोषक तत्व बरकरार रह सकें।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles on Diet Plan in Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।