फिटनेस के चक्कर में बहुत कम कैलोरीज खाने के भुगतने पड़ सकते हैं परिणाम, कई गंभीर रोगों का बढ़ता है खतरा

Updated at: Jul 10, 2020
फिटनेस के चक्कर में बहुत कम कैलोरीज खाने के भुगतने पड़ सकते हैं परिणाम, कई गंभीर रोगों का बढ़ता है खतरा

Low Calorie Diet: आजकल युवाओं में फिटनेस के चक्कर में लो-कैलोरी फूड्स खाने और भूखे रहने का चलन बढ़ गया है, जिसके कई गंभीर परिणाम हो सकते हैं।

Anurag Anubhav
वज़न प्रबंधनWritten by: Anurag AnubhavPublished at: Jul 10, 2020

आजकल लोग अपनी फिटनेस को लेकर ज्यादा ही परेशान रहने लगे हैं। खासकर युवाओं में लो-कैलोरी फूड्स का चलन काफी बढ़ गया है। यही कारण है कि पैकेटबंद फूड्स से लेकर रेस्टोरेंट्स तक अब आपको लो-कैलोरी फूड्स के विकल्प देने लगे हैं। वजन न बढ़ने देना और शरीर को फिट रखना अच्छी बात है और इसके लिए हर संभव प्रयास भी करना चाहिए। लेकिन अगर आप फिटनेस के चक्कर में बहुत कम कैलोरीज खा रहे हैं, तो ये आपके शरीर और सेहत के लिए खतरनाक भी हो सकता है। शरीर के हेल्दी रहने के लिए और सभी फंक्शन्स के ठीक तरह से चलने के लिए एक निश्चित मात्रा में कैलोरीज की जरूरत पड़ती है। ऐसे में बहुत लो-कैलोरी डाइट लेने से आप का शरीर तो देखने में पतला लगेगा, मगर अंदर ही अंदर कई समस्याएं बढ़ सकती हैं।

low calorie diet side effects

कैसे नुकसान पहुंचाती है लो-कैलोरी डाइट?

आपके शरीर के लिए कैलोरीज उतनी महत्वपूर्ण नहीं हैं, जितना कि शरीर के फंक्शन्स के लिए जरूरी पोषक तत्व हैं। इसलिए अगर आप अपने खाने को एकदम से घटा देते हैं, तो इससे आपके शरीर को सभी जरूर पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं। इससे भले आपको अपना वजन घटता हुआ महसूस हो, लेकिन असल में आपका शरीर अंदर से खोखला और कमजोर हो रहा होता है, जिसके कारण वजन कम लगने लगता है। कम कैलोरीज लेने से आपका मेटाबॉलिज्म भी कमजोर होने लगता है और कई तरह की परेशानियां शुरू हो जाती हैं।

इसे भी पढ़ें: वजन घटाने की शुरुआत कर रहे हैं तो पहले जान लें 6 जरूरी नियम, ताकि बेकार न जाए आपकी मेहनत

कमजोर हो सकती हैं हड्डियां

रोजाना अपने शरीर की जरूरत से कम कैलोरीज का सेवन करने से आपकी हड्डियां कमजोर हो सकती हैं। बहुत लो-कैलोरीज डाइट से हड्डियों की सघनता (Bone Density) कम होने लगती है, फिर चाहे व्यक्ति सामान्य वजन वाला हो या बढ़े हुए वजन वाला हो। अगर किसी व्यक्ति की उम्र ज्यादा है, तो उसके लिए ये स्थिति और भी खतरनाक हो सकती है। इसका कारण यह है कि बढ़ी हुई उम्र में, खासकर महिलाओं में हड्डियां पहले ही कमजोर होना शुरू हो जाती हैं। ऐसे में लो-कैलोरी डाइट की वजह से उनमें ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा बढ़ जाता है।

1000 कैलोरीज से कम रोजाना खाना है खतरनाक

आमतौर पर हमारे शरीर को एक दिन में 1500 से 2000 कैलोरीज की जरूरत होती है। अगर कोई व्यक्ति एक दिन में 1000 कैलोरीज से भी कम लेता है, तो उसे कुछ समय में ही गंभीर परेशानियां हो सकती हैं। इसी विषय पर एक स्टडी प्रकाशित की गई, जिसमें मोटापे से ग्रस्त महिलाओं ने रोजाना 925 कैलोरीज वाली डाइट को 4 महीने तक फॉलो किया। 4 महीने बाद पाया गया कि उन सभी की हिप्स (कूल्हे), जांघ और कंधे की हड्डियां बहुत कमजोर हो गई थीं। इसलिए आप समझ सकते हैं कि कम कैलोरीज खाना कितना खतरनाक हो सकता है।

weight loss mistakes

वजन घटाने का क्या है सही तरीका?

अगर आप वजन घटाना चाहते हैं, तो आपको अपना खाना नहीं कम करना चाहिए, बल्कि खाने की चीजें बदलनी चाहिए। आपको ज्यादा से ज्यादा ऐसे फूड्स खाने चाहिए, जो पोषक तत्वों से भरपूर हों और ज्यादा कैलोरीज बर्न करते हों। किसी भी स्थिति में एक दिन में 1200 कैलोरीज से कम का सेवन नहीं करना चाहिए। खाने में बैलेंस रखना बहुत जरूरी है। आपके शरीर की कैलोरीज की जरूरत आपके वजन और आपके शरीर की लंबाई पर भी निर्भर करती है, इसलिए इस बारे में सटीक जानकारी के लिए किसी डायटीशियन से संपर्क करें। आपके खाने में कॉम्पलेक्स कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और फैट का सही बैलेंस होना चाहिए और खाना विटामिन्स और मिनरल्स से भरपूर होना चाहिए। इससे हड्डियां मजबूत बनी रहती हैं।

इसे भी पढ़ें: 80% मोटे लोग इन 3 गलतियों के कारण नहीं घटा पाते हैं वजन, जानें वजन घटाने का सबसे भरोसेमंद तरीका

खाना कम करने के बजाय एक्सरसाइज पर ध्यान दें

दूसरी सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि आपको अपनी डाइट कम करने से ज्यादा ध्यान वर्कआउट यानी एक्सरसाइज पर लगाना चाहिए। एक्सरसाइज के द्वारा शरीर में जमे हुए फैट को बर्न किया जा सकता है। अगर आप सिर्फ डाइटिंग पर जोर देंगे, एक्सरसाइज नहीं करेंगे या कम करेंगे, तो आपका शरीर कमजोर होगा साथ ही हड्डियां टूटने से कई तरह की समस्याएं भी हो सकती हैं।

Read More Articles on Weight Management in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK