2019 में टॉप ट्रेंड पर रहा वेजिटेरियन डाइट, 2020 में हेल्‍दी रहने के लिए फॉलो करें इसे

Updated at: Dec 27, 2019
2019 में टॉप ट्रेंड पर रहा वेजिटेरियन डाइट, 2020 में हेल्‍दी रहने के लिए फॉलो करें इसे

स्वस्थ और पौष्टिक खाद्य पदार्थ हेल्‍दी लाइफ के लिए बेहद जरूरी है यह आपकी डाइट आपकी फिटनेस में अहम रोल निभाती है। जानें 2019 की बेस्ट डाईट के बारे में!

सम्‍पादकीय विभाग
स्वस्थ आहारWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Dec 27, 2019

जो भोजन हम खाते हैं वह हमें स्वस्थ रखने में बहुत अहम भूमिका निभाता है। लोग जब स्वास्थ्य के प्रति अधिक जागरूक होने लगते हैं तो वे एक निश्चित डाइट को फॉलो करने की कोशिश करते हैं, जिनमें कुछ विशिष्ट आहार शामिल होते हैं जो उनके लिए तथा उनके स्वास्थ्य के लिए उपयुक्त हों और कुछ खाद्य पदार्थों को अपने डाइट चार्ट से दूर रखने की कोशिश करते हैं। 2019 में भी हमें कई तरह की डाइट देखने को मिली जिनमें से कई डाइट स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी साबित हुए लेकिन उनमें कई डाइट सेहत के लिए कुछ खास साबित नहीं हुए। इस आर्टिकल में न्यट्रीनिष्ट द्वारा सबसे अच्छे और बुरे डाइट की सूची दी गई है जिससे आप आने वाले नए वर्ष (2020) में एक बेहतर डाइट प्लान को फॉलो कर सकें। जानें 2020 में तक जारी रखने के लिए कौन सी डाइट लिए बेस्ट है-

एटकिंस डाइट

न्यूट्रीनिष्ट रॉबर्ट एटकिंस द्वारा तैयार यह डाइट एक कम कार्बोहाइड्रेट वाली फीकी डाइट है। जो वजन कम करने के लिए एक महत्वपूर्ण कारक के रूप में कार्य करती है। यह कार्बोहाइड्रेट के सेवन को प्रतिबंधित करने के साथ ही शरीर में इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित करने का काम भी करती है। चूंकि शरीर के इंसुलिन का स्तर तेजी से बढ़ता-घटता रहता है और जब हम काफी मात्रा में रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट का सेवन करते हैं तो वह हमारे शरीर को उसके द्वारा उपभोग किए जाने वाले भोजन से ऊर्जा एकत्र करने के लिए प्रेरित करता है और ऊर्जा के स्रोत के रूप में संग्रहित वसा के इस्तेमाल को रोकता है।

यह डाइट कैलोरी के प्राथमिक डाइट्री स्रोतों और सब्जियों से नियंत्रित कार्बोहाइड्रेट के रूप में प्रोटीन और वसा पर अधिक जोर देता है। हालांकि यह डाइट थोड़े समय इस्तेमाल के लिए ही पोपुलर है। ज्यादा समय तक इसका इस्तेमाल शरीर के लिए नुकसानदायक भी साबित हो सकता है, क्योंकि यह पौधों के स्रोतों से मिलने वाले जरूरी कार्बोहाइड्रेट को प्रतिबंधित करता है। जिससे शरीर में कुछ पोषक तत्वों की कमी हो सकती है और फैट से अधिक कैलोरी मिलने की वजह से यह जटिलताएं भी पैदा कर सकता है। चूंकि एटकिंस डाइट फॉलो करने पर विचार करने से पहले एक्‍सपर्ट से परामर्श लेना बहुत जरूरी है। इसलिए यह 2019 बेस्ट डाइट में सातवें (7th) स्थान पर है।

diet

जोन डाइट

जोन डाइट में संतुलन शामिल है। इस डाइट में आपको प्रत्येक मील में 3 सूक्ष्म पोषक तत्वों के साथ 40 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट, 30 प्रतिशत वसा और 30 प्रतिशत प्रोटीन लेना होता है। इस डाइट में फाइबर और फेट के साथ के साथ उच्च गुणवत्ता वाले अनरिफाइंड कार्बोहाइड्रेट के सेवन पर अधिक जोर दिया जाता है जैसे- जैतून का तेल (Olive oil), एवोकैडो (avocados), बीज और नट्स।

एटकिंस डाइट की तरह इस डाइट में भी शरीर के इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित करना शामिल है जिसके परिणामस्वरूप यह वजन घटाने और शरीर के वजन को नियंत्रित रखने में यह अधिक फायदेमंद साबित हो सकता है। चूंकि इस तरह के डाइट में विभिन्न पोषक तत्वों के सेवन और न्यूट्रीनिष्ट द्वारा बताई गई एक अच्छी डाइट की आवश्यकता होती है। इसलिए यह 2019 की बेस्ट डाइट में छठे (6th) स्थान पर है।

इसे भी पढ़ें: क्या वजन घटाने के लिए डाइटिंग करने वालों को फल नहीं खाने चाहिए? क्या फल में मौजूद शुगर बढ़ाता है वजन?

कीटोजेनिक डाइट

कीटोजेनिक डाइट में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा को कम किया जाता है। जबकि वसा के सेवन को बढ़ाया जाता है। जिससे शरीर कार्बोहाइड्रेट की बजाए वसा को ईंधन के रूप में इस्तेमाल करके शरीर से वसा को कम कर सके। मिर्गी और डायबिटीज के रोगियों के इलाज के लिए इसका इस्तेमाल दशकों से किया जा रहा है। कीटोजेनिक डाइट में हेल्दी फैट को शामिल किया जाता है जैसे एवोकाडो, नारियल, बीज, ऑयली फिश और जैतून का तेल। जिसे फैट पर जोर बनाए रखने के लिए भोजन में शामिल किया जाता है।

जब शरीर वसा को ईंधन के रूप में इस्तेमाल करता है तो शरीर में कीटोसिस प्रक्रिया के माध्यम से कीटोंस बनना शुरू हो जाते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि फीका आहार का लंबे समय तक सेवन करने से टाइप 1 डायबिटीज वाले लोगों में केटोएसिडोसिस के जोखिम बढ़ता है। जिसकी कारण उन्हें डायबिटिक कोमा या मृत्यु होने का खतरा होता है। हालांकि अधिकांश अध्ययन 2 साल से कम समय के हैं जिनमें इस डाइट के डायबिटीज मैनेजमेंट, मैटाबॉलिक हेल्थ, शरीर की संरचना में परिवर्तन और वजन घटाने के संबंध में कुछ आशाजनक परिणाम भी दिखाए हैं। इस डाइट का इस्तेमाल ज्यादातर चिकित्सीय उद्देश्य के लिए या फिर फिटनेस पेशेवर और मशहूर हस्तियों द्वारा किया जा रहा है।

यह डाइट आम लोगों के लिए बहुत सुविधाजनक नहीं होती है साथ ही कार्बोहाइड्रेट का सेवेन कम करने के कारण शुरूआत में आपको शरीर में ऊर्जा की कमी महसूस होती है। इसलिए यह 2019 की बेस्ट डाइट में पांचवे (5th) स्थान पर है।

diet

आयुर्वेदिक डाइट

दुनिया भर में वजन कम करने के लिए आयुर्वेदिक डाइट इन दिनों काफी चलन में है।चूंकि तनाव वजन बढ़ने के सबसे महत्वपूर्ण कारणों में से एक है ऐसे में आयुर्वेदिक डाइट को फॉलो करना काफी फायेदमंद होता है। क्योंकि यह आयुर्वेदिक चिकित्सा के सिद्धांतों पर आधारित है जो शरीर और मस्तिष्क दोनों के स्वास्थ्य में संतुलन को बनाए रखती है। साथ ही शरीर की विभिन्न ऊर्जाओं को संतुलित करने का काम करती है।

आयुर्वेदिक डाइट छह स्वाद (रस) को पहचानता है मीठा, खट्टा, नमकीन, तीखे, कड़वा और कसैले के लाभ और प्रभाव को भी स्पष्ट करता है। हमें अच्छी तरह से पोषित और संतुष्ट रखने के लिए दैनिक आहार में सभी छह स्वाद होना आवश्यक है। उदाहरण के लिए तीखे, कड़वे और कसैले स्वादों का सेवन करने से मीठे, खट्टे और नमकीन खाद्य पदार्थों का मुकाबला करने में मदद मिलती है और खाने की इच्छा पर अंकुश लगता है।

इसके विपरीत यदि हम अपनी रोजाना की डाइट में सभी छह स्वादों को शामिल करने में विफल रहते हैं तो हम सेहत के लिए नुकसानदायक पदार्थों का सेवन करते हैं ये ज्यादातर फास्ट फूड या प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ हैं। जो स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनते हैं और हमारे शरीर को संतुलन से बाहर कर देते हैं। हालांकि इस डाइट को लोकप्रियता प्राप्त करने के लिए सामग्री चुनने और खाद्य पदार्थों की तैयारी को लेकर बहुत प्रतिबंध है जिससे यह जीवन भर के लिए कठिन कार्य बन जाता है। इसलिए यह 2019 की बेस्ट डाइट में चौथे (4th) स्थान पर है।

इसे भी पढ़ें: सेहत की थाली: सर्दियों में आपकी सेहत के लिए कितना फायदेमंद है गाजर का हलवा? जानें इसकी न्यूट्रिशनल वैल्यू

वेगन डाइट

शाकाहार का मूल वेगन डाइट (शाकाहारी आहार) सिद्धांतों से है। हम कह सकते हैं कि यह शाकाहार के रूपों में से एक है और जो लोग इसे फॉलो करते हैं वे शुद्ध शाकाहारी हैं जो किसी भी पशु-आधारित खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करते हैं यहां तक कि वे अंडे, डेयरी और शहद भी नहीं खाते हैं। 

शाकाहार का अर्थ डाइट की अपेक्षा जीवन यापन और दर्शन अधिक होता है क्योंकि इसका सेवन करने वाले लोग बेहतर स्वास्थ्य के लिए ही सिर्फ शाकाहार को ही नहीं लेते बल्कि इसके साथ ही पर्यावरण और अन्य जीवों के प्रति करुणा और उत्तरदायित्व को भी स्वीकार करते हैं। क्योंकि यह डाइट केवल पौधे-आधारित खाद्य पदार्थों के सेवन की अनुमति देता है इसकी वजह से यह अपने अनुयायियों में कुछ पोषक तत्वों की कमी पैदा कर सकता है। इसलिए यह डाइट सभी के लिए नहीं है। यह आहार 2019 के बेस्ट डाइट की सूची में तीसरे (3rd) स्थान पर है।

diet

मेडिटेरेनियन डाइट

मेडिटेरेनियन डाइड मशूहर हस्तियों और बेहतर फिटनेस की चाहत रखने वाले लोगों के बीज सबसे ज्यादा पोपुलर है। यह डाइट दक्षिणी यूरोपीय भोजन खाने की आदतों पर आधारित है विशेष रूप से क्रेते, ग्रीस, स्पेन, दक्षिणी फ्रांस और इटली की आबादी जो मेडिटेरेनियन सागर के आसपास स्थित हैं।

यह डाइट पेड़-पौधों पर आधारित खाद्य पदार्थों जैसे सब्जी, सलाद, ताजे फल, बीन्स, नट्स और साबुत अनाज, पनीर, बीज और जैतून के तेल के सेवन पर अधिक जोर देता है। यह डाइट फेट के मुख्य स्रोत के रूप में कार्य करती है। इसमें पनीर और योगर्ट मुख्य खाद्य पदार्थ हैं। इसके अलावा मेडिटेरेनियन समुद्री मछली में मौजूद प्रोटीन की व्यापक विविधता इस डाइट में अहम भूमिका निभाती है। इसमें दैनिक भोजन में कम मात्रा में शराब के साथ मध्यम मात्रा में मछली, मुर्गी और या लाल मांस का सेवन शामिल है।

रिसर्च से पता चलता है कि यदि अनुशासन के साथ नियमित  रूप से कैलोरी सेवन को बनाए रखा जाए तो यह डाइट व्यक्ति के जीवन की गुणवत्ता में सुधार कर सकती है साथ ही बीमारियों का खतरे को भी कम कर सकती है। यह आहार 2019 के बेस्ट डाइट की सूची में दूसरे (2nd) स्थान पर है।

वेजिटेरियन डाइट

वेजिटेरियन डाइट सभी डाइट प्लान में सबसे पुरानी डाइट है। जिसे ज्यादातर भारतीय उपमहाद्वीपों में लोग आयुर्वेदिक डाइट सिद्धांतों के साथ फॉलो करते हैं। समय और विभिन्न संस्कृतियों के समावेश तथा सामग्री की उपलब्धता के साथ यह आहार अपने शुद्घ शाकाहार से परे चला गया है जिसमें तक्छ-शाकाहारी, फलित शाकाहारी, मांसाहारी तथा अर्ध-शाकाहारी शामिल हैं। शाकाहारियों की अधिकांश संख्या लैक्टो ओवो शाकाहारी हैं जो अंडे, दूध, शहद के अलावा किसी भी जानवर पर आधारित भोजन का सेवन नहीं करते हैं।

यह सबसे पसंदीदा डाइट में से एक है क्योंकि यह पर्यावरण के अनुकूल है और बेहतर जीवन के लिए इसे आसानी से फॉलो किया जा सकता है। शाकाहार के शरीर पर लाभकारी प्रभाव देखने को मिलते हैं यदि पूरी तरह से कैलोरी के सेवन को समझदारी से रोका जा सके। क्योंकि शाकाहारियों के शरीर का वजन कम होता है और वह हृदय रोगों से कम पीड़ित होते है। साथ ही मांस और पशु उत्पादों का सेवन करने वाले लोगों की तुलना में शाकाहारी लंबे समय तक जीवित रह सकते हैं। इसलिए शाकाहारी डायट शायद 2019 का सबसे अच्छी डाइट है और इसे 2020 तक जारी रखा जा सकता है।

Read More Articles On Diet And Fitness In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK