सर्दियों के मौसम में महिलाओं में बढ़ जाता है यूटीआई का खतरा, बचाव के लिए जानें जरूरी टिप्स

Updated at: Dec 24, 2019
सर्दियों के मौसम में महिलाओं में बढ़ जाता है यूटीआई का खतरा, बचाव के लिए जानें जरूरी टिप्स

सर्दियों में महिलाओं को होने वाली परेशानियां गर्म कपड़ों के भीतर और गंभीर हो सकती है। जीवनशैली में बदलाव करके रोका जा सकता है।

Pallavi Kumari
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: Pallavi KumariPublished at: Dec 24, 2019

खांसी, सर्दी और फ्लू न केवल सर्दियों की समस्याएं हैं जिनके बारे में आपको चिंता करने की आवश्यकता हो सकती है। जैसे-जैसे तापमान गिरता है, स्वास्थ्य के मुद्दों की संख्या बढ़ जाती है। यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (यूटीआई) आम सर्दियों की स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है।मूत्राशय, गुर्दे, मूत्रवाहिनी या मूत्रमार्ग जैसे मूत्र पथ में कहीं भी यूटीआई एक बैक्टीरिया संक्रमण का कारण हो सकता है। इस तरह के संक्रमण सर्दियों में अधिक बार होते हैं। महिलाओं के लिए ये समस्या और भी बढ़ जाती है क्योंकि गर्म कपड़ों और सर्दी के बीच अक्सर लोगों में पानी की कमी हो जाती है। विशेष रूप से सर्दियों के दौरान, यूरीनरी ट्रेक्ट के संक्रमण और बढ़ने लगते हैं । इससे बचने के लिए हम कई तरह के उपाय कर सकते हैं। पर इसके लिए खासतौर पर आपको शरीर में पानी की मात्रा और साफ-सफाई का खास ख्याल रखना होगा।

inside_WATERINTAKE.jpg

पुरुषों की तुलना में महिलाएं यूटीआई की चपेट में ज्यादा आती हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि महिलाओं का यूरीनरी ट्रेक्ट 4 सेमी लंबा है और बैक्टीरिया आसानी से शरीर के बाहर से मूत्राशय के अंदर तक चले जाते हैं। यूरिनरी ट्रैक्ट में इंफेक्शन होने पर यूरिन पास करने के दौरान जलन या पेट के निचले हिस्से में तकलीफ होती है। अन्य सामान्य लक्षणों में बार-बार यूरिन पास करना आदि शामिल है। दुर्गंधयुक्त मूत्र, मूत्र का रंग में बदलाव, खूनी या गहरा रंग का पेशाब, बार-बार पेसाह करने की इच्छा महसूस करना और बुखार इत्यादि। यूटीआई का इलाज करने के लिए, आपको थोड़ी चिकित्सा सहायता और व्यक्तिगत देखभाल की आवश्यकता है। पर जरूरी ये है कि आप इससे बचने की कोशिश करें।

इसे भी पढ़ें : मेनोपॉज के ऐसे लक्षण जिन्हें जानकर हो जाएंगी हैरान, जानें स्वस्थ रहने के ये 4 तरीके

सर्दियों में यूटीआई से बचने के उपाय

पानी की कमी न होने दें

रोज कम से कम दो लीटर पानी पिएं। पानी आपके मूत्राशय में बैक्टीरिया को बाहर निकालने और संक्रमण को तेज़ी से खत्म करने में मदद करता है। पानी आपके पेशाब को भी पतला करता है और इसके दर्द को कम करता है। पानी की मात्रा बढ़ाकर आप अपने शरीर से बैक्टीरिया को दूर रख सकते हैं।

अंडरगारमेंट को रोज बदलें

चूंकि महिलाओं को संक्रमण होने की अधिक संभावना होती है, इसलिए जब निजी अंगों की बात आती है तो उन्हें अधिक सतर्क रहना चाहिए। आपको अपने अंडरगारमेंट को दिन में दो बार बदलना चाहिए। इसके अलावा, मूत्रमार्ग में प्रवेश करने वाले गुदा से बैक्टीरिया को रोकने के लिए अपने पार्ट्स को ठीक से पोंछ लें।

सूती अंडरवियर चुनें और ढीले-ढाले कपड़े पहनें 

न केवल ये कपड़े आरामदायक हैं, बल्कि सूती अंडरवियर पहनने से वजाइना को सूखा रखने में मदद मिलेगी। दूसरी ओर, सिंथेटिक या नायलॉन अंडरवियर अत्यधिक घर्षण पैदा कर सकते हैं और दर्द का कारण बन सकती हैं। इससे चिड़चिड़ापन हो सकता है। जैसा कि हम जानते हैं कि बैक्टीरिया आमतौर पर गर्म और नम वातावरण में पनपते हैं, टाइट जींस और टाइट-फिटिंग कपड़े पहनने से नमी बढ़ती है और बैक्टीरिया को पनपने में मदद मिलती है। ढीले-ढाले कपड़े पहनें जो आपकी त्वचा को सांस लेने और बैक्टीरिया को पनपने में अनुमति देता है।

पेशाब रो कर न रखें

जैसे ही आपको टॉयलेट महसूस हो आप तुरंत जाएं और इसे रोक कर न रखें। डॉक्टरों का कहना है कि लंबे समय तक पेशाब रोक कर रखने से बैक्टीरिया बढ़ जाता है और संक्रमण का कारण बनता है। वहीं सेक्स के तुरंत बाद उन बैक्टीरिया को दूर करने के लिए इसे धोएं।इस तरह आप इन छोटी-छोटी बातों को ख्याल कर के आप यूटीआई से बच सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : महिलाओं के लिए कई तरह से फायदेमंद हो सकती है वेटलिफ्टिंग, हॉर्मोन्स को भी संतुलित करने में मिलती है मदद

एंटीबायोटिक्स लें

कुछ मामलों में, डॉक्टर मूत्राशय में संक्रमण पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मारने के लिए एंटीबायोटिक्स लिख सकते हैं। हालांकि, एक मामूली संक्रमण व्यक्तिगत ध्यान और देखभाल के साथ अपने दम पर हल कर सकता है। 

Read more articles on Womens in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK