• Follow Us

बच्‍चे के गले में फंसा सिक्‍का कैसे निकालें? जानें ये 7 आसान उपाय

Updated at: Jun 21, 2019
बच्‍चे के गले में फंसा सिक्‍का कैसे निकालें? जानें ये 7 आसान उपाय

छोटी उम्र के बच्चे अक्सर शरारती होते हैं उन्हें जैसे ही कोई चीज जमीन या बिस्तर के आस-पास पड़ी मिलती है तो वह तुरंत उसे उठाकर मुंह में डाल लेते हैं, अभिभावकों को इस स्थिति में धैर्य रखना चाहिए और अस्पताल भागने के बजाए इन उपायों के जरिए सिक्का निकाल

Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jul 27, 2017

छोटी उम्र के बच्चे अक्सर शरारती होते हैं उन्हें जैसे ही कोई चीज जमीन या बिस्तर के आस-पास पड़ी मिलती है तो वह तुरंत उसे उठाकर मुंह में डाल लेते हैं, जो माता-पिता के लिए चिंता का सबब बन सकता है। बच्चों को अक्सर जो चीज आकर्षित करती है वे उसे खाने की ओर दौड़ पड़ते हैं। आपने अक्सर देखा होगा कि छोटे बच्चे अनजाने में सिक्का उठाकर अपने मुंह में डाल लेते हैं, जो भोजन या सांस- नली में फंसकर उनके लिए जानलेवा साबित हो सकता हैं।

अभिभावकों को इस स्थिति में धैर्य रखना चाहिए और अस्पताल भागने के बजाए इन उपायों के जरिए सिक्का निकालने की कोशिश करनी चाहिए क्योंकि जरा सी भी देरी बच्चे के लिए खतरनाक साबित हो सकती है। अगर आपका भी बच्चा शरारती है और आपके आस-पास कोई बच्चा इस स्थिति से गुजर रहा है तो आप आसानी से उसे बचा सकते हैं। 

भोजन-नली में सिक्का फंसने के लक्षण

शरारती बच्चे कई बार सिक्के, प्लास्टिक की चीजें या फिर कभी-कभार पेन का ढक्कन निगल लेते हैं, ये चीजें गले में जाकर उनकी भोजन नली में फंस जाती हैं।

  • गले में दर्द।
  • निगलने में तकलीफ।
  • लगातार लार आना।

इसे भी पढ़ेंः चमकी बुखार के ये लक्षण नजरअंदाज करना पड़ सकता है भारी, जानें कैसे बचाएं अपने मासूम की जान

सांस-नली में सिक्का अटकने के लक्षण

अक्सर ऐसा देखा गया है कि पांच साल की उम्र के बच्चे सांस लेते वक्त मूंगफली का दाना, बादाम गिरी, चना, तरबूज-खरबूज के बीज और प्लास्टिक की छोटी मोटी चीजें निगल जाते हैं। यह कभी-कभार हो सकता है क्योंकि खाना-खाने के दौरान एकदम से खाना गले में अकट जाने के कारण ऐसा होता है। ज्यादा दिन बीत जाने तक इसका इलाज न किया जाए तो बार-बार बुखार के साथ सांस लेने में दिक्कत हो सकती है।

  • लगातार खांसी।
  • सांस लेने में तकलीफ।
  • सांस में आवाज व घबराहट।

इन कारणों से सिक्का निगलना है खतरनाक

अगर समय पर और तुरंत इस स्थिति का समाधान नहीं किया गया तो बच्चे का सिक्का निगलना बच्चे की जान को भी जोखिम में डाल सकता है। क्योंकि अमूमन ये सिक्के बच्चों की फूड पाइप में फंसते हैं तो आप थोड़ी देर तक रुक सकते हैं लेकिन अगर ये सिक्का बच्चे की श्वसन नली में अटक जाए तो तुरंत उपचार करना जरूरी हो जाता है। ऐसी स्थिति में माता-पिता को धैर्य से काम लेना चाहिए और निगली हुई वस्तु को बाहर लाने के लिए इन टिप्स को आजमाना चाहिए।

इसे भी पढ़ेंः माता-पिता इन 6 आसान तरीकों से अपने बच्चों को रख सकते हैं खुश, आप भी जाने

इन टिप्स से तुरंत निकालें सिक्का

  • सबसे पहले बच्चे को आगे की तरफ झुकाएं। अब सीने को एक हाथ से दबाएं और दूसरे हाथ से उसकी पीठ पर 5 से 6 बार ठोक मारे। इस प्रक्रिया के 2 से 3 बार दोहराएं। इससे उसके सीने में कफ बनेगा और निगला हुआ सिक्का बाहर आ जाएगा।
  • गले में सिक्का फंसने पर बच्चे के पेट के ऊपरी भाग को दोनों हाथों से कसकर पकड़ें और झटके से दबाव डालते रहें। इससे सीने की सांस नीचे नहीं जाने पर ऊपर जाएगी और सिक्का बाहर निकल जाएगा।
  • गले में सिक्का फंसने पर तेज खांसी होती है। ऐसे में बच्चे को तब तक खांसने बोलें जब तक की कफ न बन जाएं। कफ के साथ निगली हुई वस्तु भी बाहर आ जाएगी।
  • तुरंत डॉक्टर के पास ले जाएं- जब सिक्का नहीं निकल पा रहा हो और बच्चा नीला पड़ने लगे तो उसे तुरंत डॉक्टर के पास ले जाएं।
  • इस स्थिति में अगर बच्चे को छींक आना भी बेहतर साबित हो सकता है क्योंकि छींक आने से श्वास नली में अटकी चीज बाहर आ जाती है।
  • अगर आपका बच्चा आपकी बातें समझने योग्य है तो उसे खांसने को कहें। जब तक कफ ना बन जाए तब तक वह ऐसा करता रहे क्योंकि कफ के साथ श्वास नली में फंसी चीज बाहर आ सकती है।
  • एक तरीका यह भी है कि बच्चे को आगे की तरफ थोड़ा झुकाएं। उसके बाद एक हाथ से उसका सीने जबाएं और पीठ पर लगातार थपकियां दें। थपकियां जोर से दें ताकि बच्चे के गले पर दबाव पड़े। इससे बच्चे को राहत मिल सकती है।

Read More Articles On Parenting Tips In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK