• shareIcon

जानें क्‍या है साइबर रिलेशनशिप

डेटिंग टिप्स By Rahul Sharma , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jun 06, 2012
जानें क्‍या है साइबर रिलेशनशिप

साइबर संबंध यानी कि सोशल नेटवर्किंग के जरिए अपने संबंधों को बनाए रखना। सोशल साइटों पर कुछ लोग तो अपने लिए पार्टनर भी तलाश लेते हैं। साइबर संबंध के जरिए आप अपने दोस्तों से रोज मिलते भी हैं और बात भी करते हैं।

साइबर संबंध क्या है
 
साइबर संबंध यानी कि सोशल नेटवर्किंग के जरिए अपने संबंधों को बनाए रखना। इंटरनेट के बढते प्रयोग ने साइबर संबंधों को और मजबूत बना दिया  है। सोशल नेटवर्किंग के जरिए आप अपने दोस्तो, रिश्तेदारों और कई लोगों से जुडे होते हैं जिनसे आप मिल नहीं सकते या जिनको आप हर रोज फोन नहीं कर सकते हैं। अगर आप अपने घर से बहुत दूर रहते हैं तो इंटरनेट के जरिए और वीडियो चैट के जरिए अपने घरवालों को देखकर बात कर सकते हैं। सोशल साइटों के प्रयोग ने साइबर संबंध को और भी मजबूत बनाया है। सोशल साइटों पर कुछ लोग तो अपने लिए पार्टनर भी तलाश लेते हैं। साइबर संबंध के जरिए आप अपने दोस्तों से रोज मिलते भी हैं और बात भी करते हैं। 
 
 
साइबर संबंध के फायदे – 
 
संपर्क में रहना – 
इंटरनेट और सोशल नेटवर्किंग के जरिए आप पूरी दुनिया में अपने दोस्तों के साथ संपर्क में रहते हैं। इंटरनेट ने कई देशों की दूरियों को समाप्त कर दिया है। वीडियो कॉलिंग के जरिए ऐसा लगता है जैसे की आपका दोस्त आपके साथ हो। 
 
शिकायत नहीं होती – 
व्यस्त रहने और फोन का बिल बढने के कारण आप अपने हर दोस्त को फोन नहीं कर सकते। आजकल लगभग सभी लोग किसी न किसी तरीके से इंटरनेट का प्रयोग करते हैं। अक्सर आपके दोस्तों की शिकायत होती है कि आप उनको भूल गए हैं। लेकिन इंटरनेट के जरिए दोस्तों की शिकायत समाप्त हो जाती है। 
 
बिछडे लोग मिलते हैं – 
सोशल साइटों पर आपको कई पुराने दोस्त मिल जाते हैं। आपको ऐसे लोग भी मिल जाते हैं जिनके साथ आपने अपना बचपन बिताया हो और वे कहीं दूर रहने चले गए हों। कॉलेज समाप्त होने के बाद दोस्तों में आपसी तालमेल समाप्त हो जाता है। लेकिन इंटरनेट इस तालमेल को फिर से जोडता है। सोशल नेटवर्किंग पर बनी कम्यूनिटी से आपके दोस्त जुडे होते हैं जिनको आप ढूंढ लेते हैं। 
 
पार्टनर की खोज – 
आज सोशल साइटें केवल बिजनेस और काम के लिए ही प्रयोग नहीं की जाती हैं बल्कि इनके माध्यम से अच्छे पार्टनर की भी तलाश की जा रही  हैं। इंटरनेट आज के जमाने में मैरेज काउंसलर हो गया है। कई लोग तो इन साइटों के जरिए अपने लिए एक अच्छे पार्टनर की तलाश कर लेते हैं। 
 
ऑनलाइन डेटिंग – 
सोशल साइटों ने ऑनलाइन डेटिंग को बढावा दिया है। दूरी ज्यादा होने के कारण आप अगर अपने पार्टनर से मिल नही पाते हैं तो आपके लिए ऑनलाइन डेटिंग अच्छा विकल्प है। ऑनलाइन डेटिंग करके आप अपने पार्टनर की शिकायत भी दूर कर सकते हैं। 
 
बिजनेस के लिए फायदेमंद – 
साइबर संबंध न केवल दोस्तों और रिश्तेदारों के लिए हैं बल्कि कई लोगों को इसके जरिए बिजनेस में फायदा होता है। कई लोग तो सोशल नेटवर्किंग के जरिए नौकरी भी पा रहे हैं। गूगल जैसे सर्च इंजन में हर प्रकार की जरूरतों का हल मिल जाता है। 
 
बदलते जमाने में पारंपरिक संबंधो से ज्यादा अहमियत साइबर संबंधों की हो गई है। पश्चिमी देशों की तुलना में भारत में साइबर संबंध बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। लोग सोशल नेटवर्किंग के दीवाने हो गए हैं। 

साइबर संबंध यानी कि सोशल नेटवर्किंग के जरिए अपने संबंधों को बनाए रखना। इंटरनेट के बढते प्रयोग ने साइबर संबंधों को और मजबूत बना दिया है। सोशल नेटवर्किंग के जरिए आप अपने दोस्तो, रिश्तेदारों और कई लोगों से जुडे होते हैं जिनसे आप मिल नहीं सकते या जिनको आप हर रोज फोन नहीं कर सकते हैं। अगर आप अपने घर से बहुत दूर रहते हैं तो इंटरनेट के जरिए और वीडियो चैट के जरिए अपने घरवालों को देखकर बात कर सकते हैं। सोशल साइटों के प्रयोग ने साइबर संबंध को और भी मजबूत बनाया है। सोशल साइटों पर कुछ लोग तो अपने लिए पार्टनर भी तलाश लेते हैं। साइबर संबंध के जरिए आप अपने दोस्तों से रोज मिलते भी हैं और बात भी करते हैं। 

 

साइबर संबंध के फायदे


संपर्क में रहना

इंटरनेट और सोशल नेटवर्किंग के जरिए आप पूरी दुनिया में अपने दोस्तों के साथ संपर्क में रहते हैं। इंटरनेट ने कई देशों की दूरियों को समाप्त कर दिया है। वीडियो कॉलिंग के जरिए ऐसा लगता है जैसे की आपका दोस्त आपके साथ हो। 

 

शिकायत नहीं होती

व्यस्त रहने और फोन का बिल बढने के कारण आप अपने हर दोस्त को फोन नहीं कर सकते। आजकल लगभग सभी लोग किसी न किसी तरीके से इंटरनेट का प्रयोग करते हैं। अक्सर आपके दोस्तों की शिकायत होती है कि आप उनको भूल गए हैं। लेकिन इंटरनेट के जरिए दोस्तों की शिकायत समाप्त हो जाती है। 

 

 

बिछडे लोग मिलते हैं

सोशल साइटों पर आपको कई पुराने दोस्त मिल जाते हैं। आपको ऐसे लोग भी मिल जाते हैं जिनके साथ आपने अपना बचपन बिताया हो और वे कहीं दूर रहने चले गए हों। कॉलेज समाप्त होने के बाद दोस्तों में आपसी तालमेल समाप्त हो जाता है। लेकिन इंटरनेट इस तालमेल को फिर से जोडता है। सोशल नेटवर्किंग पर बनी कम्यूनिटी से आपके दोस्त जुडे होते हैं जिनको आप ढूंढ लेते हैं। 

 

पार्टनर की खोज

आज सोशल साइटें केवल बिजनेस और काम के लिए ही प्रयोग नहीं की जाती हैं बल्कि इनके माध्यम से अच्छे पार्टनर की भी तलाश की जा रही  हैं। इंटरनेट आज के जमाने में मैरेज काउंसलर हो गया है। कई लोग तो इन साइटों के जरिए अपने लिए एक अच्छे पार्टनर की तलाश कर लेते हैं। 

 

ऑनलाइन डेटिंग

सोशल साइटों ने ऑनलाइन डेटिंग को बढावा दिया है। दूरी ज्यादा होने के कारण आप अगर अपने पार्टनर से मिल नही पाते हैं तो आपके लिए ऑनलाइन डेटिंग अच्छा विकल्प है। ऑनलाइन डेटिंग करके आप अपने पार्टनर की शिकायत भी दूर कर सकते हैं। 

 

बिजनेस के लिए फायदेमंद

साइबर संबंध न केवल दोस्तों और रिश्तेदारों के लिए हैं बल्कि कई लोगों को इसके जरिए बिजनेस में फायदा होता है। कई लोग तो सोशल नेटवर्किंग के जरिए नौकरी भी पा रहे हैं। गूगल जैसे सर्च इंजन में हर प्रकार की जरूरतों का हल मिल जाता है। 

 

बदलते जमाने में पारंपरिक संबंधो से ज्यादा अहमियत साइबर संबंधों की हो गई है। पश्चिमी देशों की तुलना में भारत में साइबर संबंध बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। लोग सोशल नेटवर्किंग के दीवाने हो गए हैं। 

 

Image Source - Getty Images

Read More Articles On Relationship in Hindi.

 

 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK