शिशु को परेशान कर सकता है डायपर के कारण होने वाले रैशेज, जानें डायपर रैशेज के प्रकार और इसके उपचार

Updated at: May 26, 2020
शिशु को परेशान कर सकता है डायपर के कारण होने वाले रैशेज, जानें डायपर रैशेज के प्रकार और इसके उपचार

छोटे बच्चों की त्वचा बड़ों की तुलना में अधिक संवेदनशील होती है, ऐसे में डायपर को लगाने से स्किन इंफेक्शन होने की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है।

Pallavi Kumari
नवजात की देखभालWritten by: Pallavi KumariPublished at: May 26, 2020

डायपर रैशज (Diaper Rash) शिशु के लिए हमेशा ही तकलीफदेह होते हैं। 'अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स' के अनुसार, एक चौथाई बच्चे डायपर रैश का अनुभव करते हैं। इसमें शिशु के स्किन पर आमतौर पर चकत्ते के रूप में दिखते हैं। डायपर रैशेज डायपर से नमी और जलन के कारण ही होते हैं। हालांकि, कुछ डायपर रैशेज एक मेडिकल कंडीशन की ओर संकेत कर सकते हैं। अधिकांश डायपर चकत्ते अपेक्षाकृत हल्के होते हैं, लेकिन कुछ काफी गंभीर हो सकते हैं, जिससे दर्दनाक लाल धब्बे हो जाते हैं और कभी-कभी त्वचा में दरार आ जाती है। पर क्या आपको पता है कि डायपर रैश के कई प्रकार होते हैं। तो आइए जानते हैं डायपर रैशेज के प्रकार, डायपर रैश के लक्षण और शिशुओं को डायपर रैशेज से राहत दिलाने के तरीके (Effective Home Remedies for Diaper Rash)

insideHomeremediefordiaper rash

डायपर रैशेज के प्रकार (Types of diaper rash)

इरिटेंट डर्मेटाइटिस (Irritant contact dermatitis)

डर्मेटाइटिस डायपर रैशेज के सबसे आम प्रकारों में से एक है। यह तब विकसित होता है जब डायपर में कुछ होता है या कभी-कभी डायपर ही त्वचा को परेशान करता है। इस प्रकार का डर्मेटाइटिस तब और अधिक खराब हो जाता है, जब बच्चा लंबे समय तक गीले या गंदे डायपर में रहता है। इरिटेंट डर्मेटाइटिस की सूजन और गर्मी पैदा होती है, जिससे बच्चे को खुजली महसूस होती है। वहीं अगर इसे खुले तौर पर छोड़ दिया जाए, तो ये त्वचा में फफूंद और बैक्टीरिया को भी आसान बना देता है, जो बच्चे के लिए बहुत संक्रामक हो सकता है। बच्चे के डायपर को बार-बार बदलना और डायपर रैश क्रीम का उपयोग करना, बच्चे के रैशेज को ठीक करने में मदद कर सकता है।

कैंडिडिआसिस या फंगल इंफेक्शन (yeast infections)

कैंडिडा नामक इंफेक्शन शिशु की त्वचा के लिए बेहद खराब हो सकते हैं। जब वे अधिक मात्रा में बढ़ते हैं, शिशु की स्किन पर लाल पानी वाले दिख सकते हैं और सूजन हो सकती है। साथ ही कभी कभार इसमें सफेद, तरल पदार्थ भरे छाले या सफेद पपड़ीदार बाहरी परत के साथ सूजे हुए धब्बे भी हो जाते हैं। कभी-कभी, एक बच्चे को गंभीर डायपर दाने के बाद एक फंगल संक्रमण हो जाता है, जिसमें से खुले रखने पर भी खून बहता है। डायपर रैश क्रीम लगाने से कुछ फंगल इंफेक्शन के इलाज में मदद मिल सकती है। साथ ही खुजली वाले क्षेत्र को साफ और सूखा रखना भी महत्वपूर्ण है।

insidediaperrashes

इसे भी पढ़ें : नवजात शिशु के इम्यून सिस्टम को कैसे दें मजबूती? जानें शिशुओं की इम्यूनिटी बढ़ाने के 5 बेस्ट तरीके

खुजली (Eczema)

एक्जिमा डायपर क्षेत्र के आसपास दर्दनाक स्पॉट के रूप में नजर आते हैं। एक अभिभावक या देखभाल करने वाला देख सकता है कि अगर त्वचा बहुत शुष्क और चिड़चिड़ी दिख रही है या त्वचा के लाल पैच या कठोरता है तो ये एक्जिमा संकेत है। एक्जिमा वाले कई शिशुओं में यह शरीर के अन्य क्षेत्रों में भी फैल सकता है। ऐसे में मॉइस्चराइजिंग करने से एक्जिमा को शांत करने में मदद मिल सकती है, लेकिन यह डायपर क्षेत्र को नम भी रख सकता है, जिससे अन्य प्रकार के डायपर दाने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए डॉक्टर एक्जिमा की गंभीरता के आधार पर स्टेरॉयड क्रीम या किसी अन्य उपचार की सलाह दे सकते हैं।

बैक्टीरियल त्वचा संक्रमण

डायपर क्षेत्र के बैक्टीरियल संक्रमण के कारण लाल, सूजन और दाने वाली त्वचा हो सकती है।उपचार के बिना, ये संक्रमण शरीर के अन्य क्षेत्रों में भी फैल सकते हैं और जीवन के लिए खतरा बन सकते हैं।जीवाणु संक्रमण वाले शिशुओं में बुखार विकसित हो सकता है या बीमार लग सकता है। हालांकि, कुछ डायपर दाने के अलावा कोई अन्य लक्षण नहीं दिखा सकते हैं। ज्यादातर मामलों में, एक डॉक्टर एंटीबायोटिक्स लिखते हैं। 

insidebaby

इसे भी पढ़ें : क्या आपका बच्चा भी बोतल से दूध पीने में करता है नाटक? जानें इसके 4 कारण और बोतल से दूध पिलाने की आसान ट्रिक्स

डायपर रैश के ट्रीटमेंट (Home remedies for diaper rash)

  • -शिशुओं को नमी से बचाने के लिए अधिक बार डायपर बदलें।
  • -ऐसे डायपर चुनें, जो अच्छी तरह से फिट हों और त्वचा से रगड़ें नहीं।
  • -वहीं वो डायपर जो बहुत छोटे होते हैं, डायपर क्षेत्र को परेशान कर सकते हैं, तो बच्चे के हिसाब से हमेशा थोड़ा बड़ा डायपर लें।
  • -नए डायपर पहनाने से पहले और डायपर रैश क्रीम लगाने दें।
  • -जिंक ऑक्साइड या पेट्रोलियम जेली युक्त डायपर रैश क्रीम का उपयोग करें।
  • -डायपर ब्रांड बदलते रहें। कुछ बच्चे खुशबू से मुक्त डायपर या विशिष्ट ब्रांडों के साथ बेहतर रहते हैं।
  • -बच्चे को साफ करने के लिए अनसेन्ट डायपर वाइप्स या वेट वाशक्लॉथ का इस्तेमाल करें।
  • -अगर बच्चे को गंभीर डायपर रैशेज हैं, तो एक कपड़े के साथ दाने को रगड़ने के बजाय डायपर क्षेत्र को साफ करने के लिए एक स्क्वर्ट बोतल का उपयोग करें।
  • -जितना संभव हो सके बच्चे को उनके डायपर से बाहर रखने की कोशिश करें।
  • -बेबी पाउडर के उपयोग से बचें।
  • -डायपर रैश के ज्यादातर मामले इरिटेंट कॉन्टेक्ट डर्मेटाइटिस के कारण होते हैं और अपने आप या घर पर उपचार के साथ ठीक किए जा सकते हैं।
  • - अगर डायपर रैशज बहुत दिनों तक रह जाते हैं, तो डॉक्टर को दिखा लें।

Read more articles on New-Born-Care in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK