Type 2 diabetes : टाइप 2 डायबिटीज के खतरे को कम करते हैं ये 5 फूड्स, रोज के खानपान में करें इन्हें शामिल

Updated at: Jul 17, 2020
Type 2 diabetes : टाइप 2 डायबिटीज के खतरे को कम करते हैं ये 5 फूड्स, रोज के खानपान में करें इन्हें शामिल

टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों के लिए भी कैरोटीनोइड से भरे ये फूड्स फायदेमंद है। इसलिए अपने रोजमर्जा के आहार में इन्हें शामिल करें।

Pallavi Kumari
डायबिटीज़Written by: Pallavi KumariPublished at: Jul 17, 2020

टाइप 2 डायबिटीज, आमतौर पर तब विकसित होता है, जब आपका शरीर ठीक से चीनी को पचाने में सक्षम न हो। इसके कारण बहुत अधिक ब्लड शुगर का होना गुर्दे, तंत्रिका तंत्र और आंख को नुकसान पहुंचा सकता है, और हृदय रोग और स्ट्रोक का कारण बन सकता है। स्वस्थ आहार, व्यायाम और संभवतः दवा या इंसुलिन नियंत्रण टाइप 2 डायबिटीज को रोकने में मदद कर सकते हैं। पर सबसे ज्यादा जरूरी ब्लड शुगर पर कंट्रोल करना है, क्योंकि इसका बढ़ना टाइप 2 डायबिटीज के खतरे को भी तेजी से बढ़ाता है। डायबिटीज से जुड़े कई अध्ययनों की मानें, तो फलों और सब्जियों से भरे हाई डाइट लेने से टाइप-2 डायबिटीज के जोखिम में 50 प्रतिशत तक कमी आ सकती है।

insidesugar

वहीं ध्यान देने वाली बात ये है कि आपको अपने डाइट में प्रोटीन, हेल्दी कार्बोहाइड्रेट्स और फैट को सही तरीके से संतुलित करते हुए आहार में अधिक फल, सब्जियां और साबुत अनाज जैसे खाद्य पदार्थों को लेना होगा। साथ में विटामिन सी और कैरोटीनोइड टाइप 2 मधुमेह के विकास में तेजी से कमी ला सकते हैं। तो आइए जानते हैं कैरोटीनोइड से भरे ऐसी 5 चीजें, जिन्हें हमें अपने खानपान में जरूर शामिल करना चाहिए।

टाइप 2 डायबिटीज के खतरे को कम करने वाले आहार (Foods that help in Type 2 diabetes)

1. गाजर

गाजर उन सब्जियों में से एक है जो कैरोटीनॉयड से सबसे ज्यादा भरा हुआ है। ये टाइप 2 मधुमेह के जोखिम को आसानी से कम कर सकता है। मधुमेह वाले लोगों को भी सब्जियां खाने की सलाह दी जाती है, जैसे कि गाजर जैसे कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) स्कोर के वाले फूड्स को ज्यादा से ज्यादा खाएं। ये ब्लड शुगर के बढ़ने-घटने की प्रक्रिया को संतुलित करता है। इसके साथ ही ये बैड कोलेस्ट्रॉल को भी कम करने में मदद करता है।

2. पालक 

पालक एक पत्तेदार हरी सब्जी है, जो हाई आयरन देने वाले फूड्स के रूप में जाना जाता है। ये स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद माने जाता रहा है। खास बात ये है कि कैरोटीनॉयड से भरपूर होने के अलावा यह अन्य पोषक तत्वों और एंटीऑक्सिडेंट से भरा हुआ है, जो ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रोल दोनों में कमी लाता है। इस तरह से टाइप-2 डायबिटीज के खतरे को भी कम कर सकता है।

insidetomatoandcarrots

इसे भी पढ़ें : Tips for Prediabetes: प्री डायबिटीज के शुरुआती लक्षणों से हैं आप पेरशान? सुबह खाली पेट पिएं मूंग का पानी

3.टमाटर

टमाटर में अल्फा-और बीटा-कैरोटीन, ल्यूटिन और लाइकोपेन जैसे प्रमुख कैरोटेनॉयड्स होते हैं, जो कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकते हैं। 2011 के एक अध्ययन में टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों को ब्लड प्रेशर में कमी के लिए प्रत्येक दिन 200 ग्राम कच्चे टमाटर का सेवन करना चाहिए।

4.ब्लूबेरी

शोध से पता चला है कि जो लोग अधिक ब्लूबेरी खाते हैं उनमें डायबिटीज का खतरा कम होता है। आप इसे दिन भर में कई बार खा सकते हैं। साथ ही इस जैसा कैरोटीनॉयड ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने के लिए एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करते हैं। जो शरीर में विभिन्न प्रकार के सूजन और दिल से जुड़ी बीमारियों को भी ठीक कर सकते हैं।

insidepalm

इसे भी पढ़ें : Diabetes Emergency Tips: ब्लड शुगर बढ़ने पर इन 5 तरीकों से तुरंत करें कंट्रोल, 10 मिनट में घटेगा ग्लूकोज

5. प्लम

प्लम में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। ये पदार्थ शरीर को कोशिका और ऊतक क्षति से बचाते हैं जो मधुमेह, अल्जाइमर रोग और पार्किंसंस रोग को ठीत करने में हमारी मदद कर सकते गहैं। प्लम में पाए जाने वाला पोटेशियम दो तरह से रक्तचाप नियंत्रण करने के लिए अच्छा है। पहला ये कि जब आप पेशाब करते हैं तो यह आपके शरीर को सोडियम से छुटकारा पाने में मदद करता है, और यह आपकी रक्त वाहिकाओं की दीवारों में तनाव को कम करता है। जब आपका रक्तचाप कम होता है, तो स्ट्रोक होने की संभावना कम हो जाती है। 

इन सबके अलावा आप अंगूर, सेब, नाशपाती, आड़ू और खुबानी जैसे फल भी अपने डाइट में शामिल कर सकते हैं। ये फाइबर, विटामिन ए और सी, पोटेशियम और अनगिनत एंटीऑक्सिडेंट से समृद्ध हैं ये सभी मधुमेह के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं।

Read more articles on Diabetes in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK