अवसाद का कारण है शरीर में विटामिन डी की कमीं, सूर्य के अलावा भी हैं कई स्‍त्रोत

अवसाद का कारण है शरीर में विटामिन डी की कमीं, सूर्य के अलावा भी हैं कई स्‍त्रोत

विटामिन डी की कमी होने के कई कारण होते हैं। इसका ताल्‍लुक हमारी जीवनशैली से सबसे ज्‍यादा है। यानी, खराब जीवन शैली शरीर में विटामिन डी का कारण हो सकता है

अगर आप विटामिन डी के सेवन को गंभीरता से नहीं लेते तो सतर्क हो जाइए। एक नवीनतम अध्ययन के मुताबिक, वृद्धों में विटामिन डी की कमी अवसाद के जोखिम को बढ़ाती है। जिसके परिणामस्वरूप मृत्यु भी हो सकती है। 'द जर्नल ऑफ़ पोस्ट-एक्यूट एंड लॉन्ग-टर्म केयर मेडिसिन' में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, विटामिन डी की कमी अवसाद विकसित करने के जोखिम में 75 प्रतिशत की वृद्धि करता है। 

"इस अध्ययन से पता चलता है कि विटामिन डी हड्डी के स्वास्थ्य के अलावा स्वास्थ्य की अलग-अलग कई स्थितियों से जुड़ा हुआ है। इसका अवसाद पर बड़ा प्रभाव है," आयरलैंड में डबलिन विश्वविद्यालय के शोधकर्ता ईमन लेयर के मुताबिक "विटामिन डी का निर्धारित मात्रा में सेवन सुरक्षित है और अपेक्षाकृत सस्ता है, यह अध्ययन स्वास्थ्य के लिए विटामिन डी के लाभों पर बढ़ते साक्ष्य को जोड़ता है," यह अध्‍ययन 50 वर्ष से अधिक उम्र के 4000 लोगों पर अध्‍ययन किया गया, जिसके बाद ये रिपोर्ट सामने आई। 

 

क्‍यों होती है शरीर में विटामिन डी की कमी 

विटामिन डी की कमी होने के कई कारण होते हैं। इसका ताल्‍लुक हमारी जीवनशैली से सबसे ज्‍यादा है। यानी, खराब जीवन शैली शरीर में विटामिन डी का कारण हो सकता है, मसलन सुबह देर से उठना, आलस्‍य, शराब और धूम्रपान की लत, जंकफूड का ज्‍यादा सेवन, संतुलित आहार की कमी, मिलावटी खानपान आदि विटामिन डी की कमी का कारण है।  

विटामिन डी की कमी को दूर करने के क्‍या उपाए हैं? 

आमतौर पर विटामिन डी वह तत्‍व है जिसे आप नेचुरल तरीके से रोजाना ग्रहण कर सकते हैं। अगर आप नियमित रूप से सुबह 30 मिनट धूप लें तो शरीर में विटामिन डी की कमी नहीं होगी। सुर्य विटामिन डी का सबसे बड़ा स्‍त्रोत है। 

इसके अलावा जो सबसे जरूरी बात है वह है स्‍वस्‍थ जीवनशैली, अगर आप नियमित और संयमित जीवन जीते हैं तो आपको किसी प्रकार की समस्‍या नहीं होगी। आप जो भोजन लेते हैं उसमें जरूरी अनाज और सब्जियों का होना जरूरी है। निष्‍क्रिय जीवनशैली को सक्रिय बनाकर विटामिन डी की कमी को दूर किया जा सकता है।  

विटामिन डी युक्‍त फूड 

अगर आप किसी कारणवश सुबह की धूप नहीं ले पाते हैं तो यहां हम आपको कुछ ऐसे फूड के बारे में बता रहे हैं जिनके सेवन से काफी हद तक आप विटामिन डी की कमी को पूरा कर सकते हैं।  

मशरूम

मशरूम में भी विटामिन डी प्रचुर मात्रा में होता है, लेकिन यह मशरूम के प्रकार पर भी निर्भर करता है। शीटेक मशरूम में सफेद मशरूम के तुलना में अधिक विटामिन डी होता है। अगर आप अपने आहार में विटामिन डी को जोड़ना चाहते है तो उसमें शीटेक मशरूम को शामिल करें।

ऑइस्टर (कस्तूरी)

ऑइस्‍टर विटामिन डी का एक और महान स्रोत है। ऑइस्‍टर एक स्‍वस्‍थ भोजन है इसलिए नहीं कि इसमें विटामिन डी भरपूर मात्रा में होता है बल्कि इसमें विटामिन बी 12, आयरन, जिंक, कॉपर और सेलेनियम भी प्रचुर मात्रा में होता है। लेकिन ऑइस्‍टर में कोलेस्ट्रॉल ज्‍यादा होने के कारण इसे सही मात्रा में खाया जाना चाहिए। 

अंडे

अंडों को स्‍वस्‍थ भोजन माना जाता है, जो विटामिन डी से भरपूर होते हैं। हालांकि विटामिन डी ज्‍यादा अंडे की जर्दी में पाया जाता है। लेकिन फिर भी हमें इसको पूरा खाना चाहिए। अंडे का सफेद हिस्‍सा खाने से विटामिन डी की पर्याप्‍त आपूर्ति नहीं होती।

इसे भी पढ़ें: मामूली रोग नहीं है गले में खराश, गंभीर बीमारियों के साथ आती है ये समस्‍या, जानें उपचार

दूध 

दूध विटामिन डी का एक और महान स्रोत है। हमें दिन भर में जितना विटामिन डी चाहिए होता है, उसका 20 फीसदी हिस्‍सा दूध पूरा कर देता है। जबकि अनफॉर्टफाइड डेयरी उत्‍पादों में आमतौर पर विटामिन डी कम मात्रा में पाया जाता है। 

इसे भी पढ़ें: सोते वक्त मुंह से बहती है लार, तो हो सकती है ये गंभीर बीमारियां

मछली

विभिन्‍न प्रकार की मछली जैसे सालमोन और ट्यूना 'विटामिन डी' की उच्‍च स्रोत होती हैं। सालमोन विटामिन डी की हमारी रोजाना जरूरत का एक तिहाई हिस्‍सा पूरा करने के लिए काफी होती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Other Diseases In Hindi 

  

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।