• shareIcon

हर रोज 1000 बीड़ियां बनाने वाली महिलाओं का क्यों बिगड़ रहा स्वास्थ्य, पढ़ें ये ग्राउंड रिपोर्ट

विविध By जितेंद्र गुप्ता , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Oct 30, 2019
हर रोज 1000 बीड़ियां बनाने वाली महिलाओं का क्यों बिगड़ रहा स्वास्थ्य, पढ़ें ये ग्राउंड रिपोर्ट

स्मोक फ्री वर्ल्ड के प्रेसीडेंट डॉ. डेरेक येच ने बीड़ी बनाने के एक केंद्र का दौरा किया जहां उन्होंने बीड़ी बनाने वाली महिलाओं के स्वास्थ्य के खतरे को देखा और अब वह लोगों के सामने अपनी आंखों देखी बयां कर रहे हैं। इन महिलाओं की सच्ची कहानी जानने के

महाराष्ट्र का एक छोटा सा नगर सोलापुर बीड़ियां बनाने का केंद्र है। यहां बड़ी संख्या में महिलाएं आजीविका के लिए बीड़ी बनाने का काम करती हैं। लोग सोचते हैं कि बीड़ी पीना सिगरेट की तुलना में कम हानिकारक है लेकिन ऐसा नहीं है। यह भी हमारे शरीर को उतना ही नुकसान पहुंचाती है, जितना कि सिगरेट। बीड़ी बनाने वाली ये महिलाएं, जिस तंगहाली से गुजर रही हैं उस पर ध्यान देना काफी जरूरी है। दरअसल बीड़ियां बनाने वाली महिलाएं एक कमरे में बैठकर पूरे दिन इसी काम में लगी रहती हैं ताकि वह अपना और अपने परिवार का पेट भर सकें। इसके लिए उन्हें दिन में 1000 बीड़ियां बनानी होती है। इतना ही नहीं बीड़ी बनाने वाली महिलाएं तंबाकू की तेज गंध के बीच दिन भर तंबाकू चबाते हुए बीड़ी बनाती हैं, जिससे उनके स्वास्थ्य को भारी नुकसान पहुंच रहा है। सोलापुर की महिलाओं की इस सच्ची कहानी को आपको बताने जा रहे हैं स्मोक फ्री वर्ल्ड के प्रेसीडेंट डॉ. डेरेक येच। डॉ. डेरेक ने सोलापुर में बीड़ी बनाने के एक केंद्र का दौरा किया और वहां मौजूद परिस्थितयों के बारे में बताया।

हर दिन एक महिला बनाती है 1000 बीड़ियां

सोलापुर में कमरे का सर्वेक्षण करते हुए जिस बात ने सबसे पहले मेरा ध्यान खींचा वह थी, महिलाओं की साड़ियों की सुंदरता और दूसरी चीज थी, आईपैड। चेहरे की पहचान करने वाले उन्नत सॉफ्टवेयर से सज्जित, मशीन का परिष्कार बाकी दृश्य के एक दम विपरीत था, जिसमें तेंदू के पत्ते, प्रसंस्कृत तम्बाकू, धागा और खतरनाक रूप से तेज गंध शामिल थी। दिन के दौरान, मुझे बताया गया है, प्रत्येक महिला को इन घटकों का उपयोग करके अपने हाथों से 1,000 सिगरेट बनानी होगी, जिसे बीड़ी के रूप में जाना जाता है। यदि कोई महिला अपने कोटे को पूरा करने में विफल रहती है, तो आईपैड यह बात नोट करेगा।

बीड़ी से भी स्वास्थ्य को कई खतरे

पूरे भारत के कस्बों और शहरों में, यह दृश्य आम है। देश में दहनशील तम्बाकू के सबसे लोकप्रिय रूप, बीड़ी का उपयोग 75 से 100 मिलियन लोग करते हैं, जो सालाना 500 बिलियन बीड़ियां पीते हैं। इस प्रकार, कुछ हद तक बीड़ी बहुत बड़ा नुकसानदायक उद्योग है। सिगरेट की तरह, बीड़ी सभी तरह के स्वास्थ्य खतरों से जुड़ी हुई है, जिसमें फेफड़े का कैंसर, हृदय रोग और तपेदिक के खतरे में वृद्धि शामिल है। और बीड़ी बनाने वाले स्वयं अपने को जोखिम में डालते हैं।

इसे भी पढ़ेंः दिवाली के बाद शरीर से शुगर और फैट निकालने के लिए अपनाएं ये 6 तरीके, बॉडी आसानी से होगी डिटॉक्स

बीड़ी कमाई का एकमात्र तरीका

परिवेशी तंबाकू श्रमिकों की आंखों और फेफड़ों को नुकसान पहुंचा सकती है–-और दर्द के बारे में तथा निरंतर शारीरिक श्रम करने के लिए बैठने से होने वाली समस्याओं का क्या कहना।

फिर भी, इन महिलाओं में से कई के लिए, बीड़ी बनाना जीविका के लिए सबसे अच्छा और एकमात्र तरीका है। इस नौकरी में अर्जित अल्पमजदूरी के अनुपूरण के लिए, कुछ महिलाऐं सेक्स कार्य में भी संलग्न हैं - एक और खतरनाक व्यवसाय जो रोजगार के विकल्पों की कमी को दिखाता है।

तंबाकू चबाते हुए बीतता है दिन

पिछले महीने सोलापुर की यात्रा के दौरान, मुझे बीड़ी बनाने वालों के समूहों के साथ बातचीत करने का अवसर मिला।मुझे पता चला कि, उनमें से कई के लिए, एक साथ कई तरह के जहरीले धूम्ररहित तंबाकू उत्पादों को चबाते हुए बीड़ी बनाने में दिन बीतता है। वे  जानते हैं कि इस आदत से गंभीर बीमारियों का जोखिम होता है, जिसमें विशेष रूप से मुंह का कैंसर भी शामिल हैं; लेकिन निकोटीन एक प्रभावी उत्तेजक है और, उनका कहना है कि वह काम के लंबे दिन के दौरान चुस्त बने रहने में उनकी मदद करता है। इन महिलाओं का अनुभव उन जटिल तरीकों को रेखांकित करता है जिनमें बहुत से भारतीय लोगों–-विशेष रूप से गरीबी में रहने वाले लोगों का जीवन तम्बाकू के जाल में फंस गया है।

सामने आए दो सवाल

मेरी यात्राज्ञानवर्धक थी, मेरे मन में बहुत से सवाल उठे, जिनमें सबसे मूल भूत ये थे:  वर्तमान में इस उद्योग पर निर्भर लोगों की आजीविका को नष्ट किए बिना हम भारत में बीड़ी के धूम्रपान को कैसे कम कर सकते हैं? इस प्रश्न पर विचार करने पर, हमें दो सच्चाइयों का सामना करना पड़ रहा है: 

  • बीड़ी का उपयोग भारत में होने वाली मौतों और बीमारियों की एक बड़ी संख्या के लिए जिम्मेदार है 
  • कई समुदायों के लोग खुद और अपने परिवार को जिन्दा रखने के लिए बीड़ी बनाने के काम पर निर्भर हैं।

इसे भी पढ़ेंः बलगम ज्यादा बन रहा है तो इन 5 फूड को सेवन कर दें बंद, नहीं तो नाक और गला हो जाएगा जाम

4 कारणों से इस समस्या को हल करना मुश्किल

इन दो तथ्यों का जोड़ एक भयंकर समस्या की ओर इशारा करता है: "एक सामाजिक या सांस्कृतिक समस्या जो चार कारणों से हल करना मुश्किल या असंभव है: अधूरा या विरोधाभासी ज्ञान, इसमें शामिल लोगों की संख्या और राय, बड़ा आर्थिक बोझ, और अन्य समस्याओं के साथ इन समस्याओं का परस्पर संबंध।"

सरल उपाय ढूंढने के बजाए काम करने की जरूरत

भारत की भयंकर बीड़ी समस्या का कोई स्पष्ट समाधान नहीं है।हालांकि, निश्चित रूप से ऐसे कदम हैं जिनसे हम इसके असंख्य घटकों को बेहतर ढंग से समझ सकते हैं। वास्तव में, हमें सरल उपाय सुझाने के प्रलोभन से बचाना चाहिए जब तक कि हम बीड़ी के उत्पादन और खपत तथा बड़े पैमाने पर भारत के तंबाकू पारिस्थितिकी तंत्र की समृद्ध, साक्ष्य-आधारित समझ विकसित नहीं कर लेते।

सिगरेट से कहीं ज्यादा बिकती है बीड़ी

अक्सर, "तंबाकू की समस्या" का अर्थ "सिगरेट की समस्या" से लिया जाता है। फिर भी, अगर भारत में सभी सिगरेटों को अचानक गायब कर दिया जाए, तो भी तंबाकू की बड़ी समस्या का समाधान शायद ही होगा। सिगरेट देश की तंबाकू खपत का केवल 10 प्रतिशत है; बीड़ी, और विशेषरूप से धुआंरहित तंबाकू का उपयोग कहीं अधिक प्रचलित है। फिर भी, चौंकाने वाली बात यह है कि देश की तंबाकू नीतियों का प्रमुख लक्ष्य सिगरेट है।

बीड़ी परलभी कर लगाने की जरूरत

उदाहरण के लिए, सरकार नियमित रूप से सिगरेट पर कर बढ़ाती है, जो केवल यह सुनिश्चित करता है कि गरीबी में रहने वाले लोग बीड़ी का उपयोग करना जारी रखें। यहां, यह स्पष्ट है कि तंबाकू नियंत्रण के लिए हर हल हर जगह काम नहीं करता है।  दरअसल, सोलापुर में रहते हुए मैं इस कठोर सच्चाई से रूबरू हुआ कि हमारी कई मौजूदा तंबाकू रणनीतियाँ काम नहीं कर रही हैं। उदाहरण के  लिए, WHO फ्रेमवर्क कन्वेंशनऑन टोबैको कंट्रोल भारत और अन्य देशों की जटिलताओं के लिए सिफारिशों को कैसेअनुकूलित किया जाए इस पर अपर्याप्त रूप से विचार नहीं करता है, जहां तंबाकू की समस्याएं समान रूप से भयंकर हैं।

सरकार को करने चाहिए ये काम

भारत में और इसके बाहर सार्थक बदलाव लाने के लिए हमें ऊपर से उद्घोषणाओं जारी करके काम शुरू नहीं करना चाहिए बल्कि प्रभावित लोगों की बात सुनकर निर्णय लेना चाहिए।

हमें शहरों और गांव से मिलने वाले डेटा और तंबाकू से सबसेअधिक प्रभावित लोगों के विचारों को सुनना चाहिए।

(Dr Derek Yach, President, Foundation for a Smoke Free World)

Read More Articles On Miscellaneous in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK