एंटीसोशल पर्सनालिटी डिसार्डर से चिकित्सा

Updated at: Oct 27, 2015
एंटीसोशल पर्सनालिटी डिसार्डर से चिकित्सा

एंटीसोशल पर्सनैलिटी डिस्‍ऑर्डर के उपचार के लिए कई साइकोथेरेपी तकनीकों का उपयोग किया जाता रहा है। छोटी उम्र के लोगों में, परिवार या समूह साइकोथेरेपी से इस प्रवृति पर नियंत्रण पाया जा सकता है।

Rahul Sharma
मानसिक स्‍वास्‍थ्‍यWritten by: Rahul SharmaPublished at: Apr 29, 2013

सामाजिक व्यवस्था वा सुरक्षा की द्रष्टी से एंटीसोशल पर्सनैलिटी डिस्‍ऑर्डर के मरीज़ों का चिकित्सकीय या कानूनी उपचार अति आवश्यक है। एंटीसोशल पर्सनैलिटी डिस्‍ऑर्डर के उपचार के लिए कई साइकोथेरेपी तकनीकों का उपयोग किया जाता रहा है। छोटी उम्र के लोगों में, परिवार या समूह साइकोथेरेपी से इस प्रवृति पर नियंत्रण पाया जा सकता है। रोजगार-परक और संबंधपरक शिक्षा, और सामाजिक समर्थन को प्रोत्साहन करने से कुछ लाभ हो सकता है। साइकोथेरेपी इस रोग के शिकार लोगों को दूसरों की भावनाओं के प्रति अधिक संवेदनशील होना सिखाती है और अपने लक्ष्यों और उद्देश्यों के प्रति एक नए, सामाजिक तौर पर स्वीकार्य एवं रचनात्मक सोच के लिए प्रोत्साहित करती है।

[इसे भी पढ़ें: 10 आसान रास्ते तनाव मुक्ति के]

 

इन थेरेपी से होता है इलाज

कोग्निटिव थेरेपी सोच के सोशियोपैथिक तरीके को बदलने की कोशिश करता है। बिहेवियर थेरेपी में प्रशंसा एवं दंड के उपयोग के द्वारा अच्छे व्यवहार को प्रोत्साहित किया जाता है। सामान्य आबादी में यह रोग पुरुषों में लगभग तीन प्रतिशत और महिलाओं में एक प्रतिशत पाया जाता है। जबकि मोनोरोगियों में इस रॊग का अनुपात तीन से तीस प्रतिशत पाया जाता है। सामान्यतः युवा अवस्था में इस बीमारी का गंभीर रूप देखा गया है। लकिन यह रोग मध्य आयु वाले लोगों को भी होता है। इस रोग के उपचार की बहुत नई वा आदर्श तकनीक  फिलहाल मोजूद नहीं है। इस रोग से बचाव का कोई प्रमाणिक उपाय नहीं है। किन्तु व्यक्ति के सामाजिक वातावरण में सुधार से समस्या की गंभीरता में कमी लाई  जा सकती है। खासकर अगर ये सुधार जीवन के शुरुआती दौर में हो।

 

 

 

 

 

[इसे भी पढ़ें:भरपूर नींद के फायदे]

उपचार के अन्य विकल्प

कुछ मामलों में, रोग के उपचार के लिए दवाओं का सहारा लिया जाता है। सेलेक्टिव सेरेटोनिन रिअपटेक इनहिबिटर(एसएसआरआईज), जैसे-फ्लुक्सेटाइन(प्रोजैक) और सेर्ट्रालाइन(जोलोफ्ट), आक्रामकता और चिड़चिड़ापन को कम कर सकती हैं। जिन लोगों को यह समस्या होती है, वे ये नहीं समझ सकते कि उनके साथ कुछ समस्या है, इसलिए इनमें से किसी भी उपाय का आजमाना कठिन होता है। अगर जीवन के प्रारंभिक दौर में ही इसकी चिकित्सा शुरू हो गई तो इसके सफल होने की संभावना अधिक होती है, लेकिन लंबे समय तक ऐसी सोच औऱ व्यवहार रहने के बाद इसे बदलना कठिन होता है। इसके अलावा, जितने अधिक दिनों तक व्यक्ति इस व्यक्तित्व शैली या समस्या के साथ जीता है, वह बदलाव के लिए प्रयत्न करने में उतना ही कम रुचि रखता है। कुछ लोगों में, उग्रता या चिड़चिड़ापन उम्र बढने के साथ घटता है, लेकिन कुछ व्यक्तित्वपरक विशेषताएं बनी रह सकती हैं।



प्रायः एंटीसोशल बिहेवियर के पीड़ितों को आपराधिक न्याय प्रणाली के माध्यम से ही सुरक्षा मिल पाती है। कुछ विरले मामलों में, सुधार तंत्र (जेल और कैद) इलाज या रिअबिलिटेशन(पुनर्वास) का अवसर उपलब्ध कराता है, लेकिन प्रायः ऐसा वातावरण, जिसमें असामाजिक लोग बड़ी संख्या में होते हैं, असामाजिक व्यवहार को बढ़ावा ही मिलता है।

 

Image Source - Getty Images

Read More Articles On Mental Health In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK