• shareIcon

ज्यादा टूथपेस्ट भी दांतों के लिए है खतरनाक, जानें कितना और कैसे करना चाहिए टूथपेस्ट का प्रयोग

विविध By Anurag Gupta , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / May 29, 2019
ज्यादा टूथपेस्ट भी दांतों के लिए है खतरनाक, जानें कितना और कैसे करना चाहिए टूथपेस्ट का प्रयोग

ज्यादातर लोग बहुत अधिक मात्रा में टूथपेस्ट का प्रयोग करते हैं। ज्यादा टूथपेस्ट की मात्रा दांतों के लिए खतरनाक होती है। जानें टूथपेस्ट का कितना और कैसे करें प्रयोग, ताकि लंबे समय तक स्वस्थ रहें आपके दांत और मुंह।

 

ब्रश करते समय आप कितना टूथपेस्ट लेते हैं? ज्यादातर लोग ब्रश की लंबाई के बराबर टूथपेस्ट निकाल लेते हैं, ताकि दांत अच्छी तरह साफ हों और मुंह में ज्यादा झाग बने। मगर क्या आप जानते हैं कि इतनी मात्रा में टूथपेस्ट का प्रयोग आपके दांतों को उल्टा नुकसान पहुंचाता है। जी हां, टूथपेस्ट आपके मुंह और दांतों को स्वस्थ रखने के लिए किया जाता है, मगर इसकी ज्यादा मात्रा दांतों के लिए नुकसानदायक होती है।

सभी डेंटिस्ट ये मानते हैं कि ब्रश करते समय मटर के दाने के बराबर ही टूथपेस्ट का इस्तेमाल करना चाहिए। मगर टीवी पर दिखने वाले टूथपेस्ट के एडवरटाइजमेंट में अक्सर दिखाया जाता है कि व्यक्ति ब्रश भरकर टूथपेस्ट निकाल रहा है और फिर दांत साफ कर रहा है। ज्यादा मात्रा में टूथपेस्ट वयस्कों से ज्यादा बच्चों के लिए खतरनाक है। आइए आपको बताते हैं इसके खतरों के बारे में और टूथपेस्ट के सही इस्तेमाल के बारे में जरूरी बातें।

कितना लेना चाहिए टूथपेस्ट?

आमतौर पर डेंटिस्ट यही सलाह देते हैं कि आपको मटर के दाने के बराबर टूथपेस्ट लेना चाहिए। मगर छोटे बच्चों के लिए इतना पेस्ट भी खतरनाक हो सकता है। इसका कारण यह है कि बाजार में मिलने वाले ज्यादातर टूथपेस्ट में फ्लोराइड की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। छोटे बच्चों के लिए इतनी मात्रा में फ्लोराइड वाला टूथपेस्ट खतरनाक होता है। इसलिए या तो आप अपने बच्चे को चावल के दाने के बराबर टूथपेस्ट लगाकर ब्रश करवाएं या बाजार से बच्चों के लिए बनाया जाने वाला विशेष टूथपेस्ट खरीदें, जिसमें फ्लोराइड की मात्रा कम हो।

इसे भी पढ़ें:- इन 5 तरह के लोगों को नहीं खाना चाहिए अदरक, जानें क्या हैं अदरक के नुकसान

कैसे करना चाहिए टूथपेस्ट का प्रयोग?

ज्यादातर लोग समझते हैं कि टूथपेस्ट जितना ज्यादा झाग बनाता है, आपके दांत और मुंह उतने ज्यादा साफ होते हैं। ये बात पूरी तरह सच नहीं है। दरअसल आपके दांतों को साफ करने का मुख्य काम टूथ ब्रश करता है। टूथपेस्ट का झाग केवल मुंह में बनने वाले जर्म्स को दूर करता है, मुंह का पीएच लेवल घटाता है और सांसों की बदबू आदि को मिटाता है। टूथपेस्ट में मौजूद फ्लोराइड दांतों को मजबूती देता है। मगर दांतों पर लगे प्लाक और गंदगी को टूथब्रश ही साफ करता है। इसलिए आपके दांतों को साफ और मुंह को स्वस्थ रखने के लिए बहुत ज्यादा टूथपेस्ट नहीं, बल्कि ब्रश करने का सही तरीका जानना जरूरी है।

क्या है ब्रश करने का सही तरीका?

ब्रश करते समय आपको पूरे मुंह की अच्छी तरह सफाई करनी चाहिए। सबसे पहले ब्रश पर थोड़ी मात्रा में टूथपेस्ट लें और फिर इन्हें दांतों के आगे के हिस्से पर मुंह के दोनों ओर रगड़ें। इसके बाद दांतों के ऊपरी हिस्से पर ब्रश चलाकर इसे साफ करें और फिर पिछले हिस्से पर ब्रश चलाकर इसे साफ करें। इसके बाद सादे पानी से कुल्ला करें और फिर टंग क्लीनर (जीभ साफ करने का उपकरण) की मदद से अपनी जबान पर जमी गंदगी को साफ करें।

इसे भी पढ़ें:- इन 5 तरीकों से बढ़ाएं अपना मेटाबॉलिज्म, हमेशा फिट रहेगा आपका शरीर

कितनी देर तक करना चाहिए ब्रश?

आमतौर पर इसका कोई सीधा जवाब नहीं है कि आपको कितनी देर ब्रश करना चाहिए। मगर ये जरूर जान लें कि दांतों को ज्यादा रगड़ने से इसके ऊपर लगी सुरक्षा पर्त, जिसे इनेमल कहते हैं, उसको नुकसान पहुंचता है। इसलिए वयस्कों के लिए 2 या ढाई मिनट और बच्चों के लिए 1 मिनट तक ब्रश करना पर्याप्त होता है।

हल्के हाथों से करें ब्रश का प्रयोग

ब्रश करते समय अगर आप दांतों को ज्यादा रगड़ देंगे, तो इससे आपके दांतों पर जमे इनेमल की पर्त हट जाएगी और सेंसिटिव दांतों या दांतों में दर्द की समस्या हो सकती है। इसके अलावा तेज ब्रश रगड़ने से कई बार मसूड़े कट जाते हैं, जिससे खाने-पीने में भी आपको तकलीफ होती है। इसलिए ब्रश करते समय यह ध्यान रखें कि आप बिल्कुल हल्के हाथों से ब्रश करें। ब्रश के रेशे (ब्रिसल्स) कोनों में पहुंचकर अपने आप सफाई कर लेंगे।

Read More Articles On Miscellaneous in Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।