• shareIcon

तंबाकू उत्पादों पर किसानों ने की कर कम रखने की मांग

लेटेस्ट By ओन्लीमाईहैल्थ लेखक , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Mar 21, 2017
तंबाकू उत्पादों पर किसानों ने की कर कम रखने की मांग

पिछले दिनों तंबाकू उत्पादों पर स्वास्थ्य संगठन द्वारा कर बढ़ाने की मांग के बाद द फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया फार्मर्स एसोसिएशन (एफएआईएफए) ने स्वास्थ्य और वित्त मंत्रालयों से तंबाकू की फसल पर नए वस्तु एवं सेवा कर प्रणाली के तहत कर की दरों को कम रखने की

पिछले दिनों तंबाकू उत्पादों पर स्वास्थ्य संगठन द्वारा कर बढ़ाने की मांग के बाद द फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया फार्मर्स एसोसिएशन (एफएआईएफए) ने स्वास्थ्य और वित्त मंत्रालयों से तंबाकू की फसल पर नए वस्तु एवं सेवा कर प्रणाली के तहत कर की दरों को कम रखने की मांग की है, ताकि किसानों की आर्थिक हालत पर इसका असर न हो।

tobacco tax

तंबाकू की फसल पर करीब 4.6 करोड़ किसान आश्रित हैं, जिन पर तंबाकू उत्पादों के कारण स्वास्थ्य को होने वाले नुकसान के कारण पहले से ही काफी ज्यादा कर लगाया गया है। एफएआईएफए के महासचिव मुरली बाबू ने एक बयान में कहा, "सरकार के लिए जीएसटी तंबाकू किसानों के कराधान की विसंगतियों को दूर करने के लिए एक बड़ा अवसर है ताकि तंबाकू किसानों को राहत मिल सके तथा सरकार भी तंबाकू नियंत्रण के अपने लक्ष्य को पूरा कर सके।" उन्होंने आगे कहा, "अंतिम प्रचलित कराधान ढांचा एफसीवी (फ्लू-क्योर्ड वीरजीनीया/पारंपरिक) तंबाकू किसानों की आजीविका को छीन रहा है। वहीं, सिगरेटों की तस्करी को भी बढ़ावा दे रहा है, जो खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है।"

स्वास्थ्य मंत्री जे. पी. नड्डा और वित्त मंत्री अरुण जेटली के अलावा एफएआईएफए ने प्रधानमंत्री कार्यालय, कृषि मंत्रालय और वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय को भी पत्र भेजा है।

News Source- IANS

Read More Health Related Articles In Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।