• shareIcon

सोशल मीडिया के हानिकारक प्रभावों को कम करने के लिए अपनाएं ये 5 आसान तरीके

तन मन By धीरज सिंह राणा , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 19, 2019
सोशल मीडिया के हानिकारक प्रभावों को कम करने के लिए अपनाएं ये 5 आसान तरीके

हाल में ही हुए एक अध्ययन के अनुसार, सोशल मीडिया की लत आपके मानसिेक स्वास्थ्य पर बुड़ा प्रभाव डालता है। इसके अधिक इस्तेमाल से चिंता या तनाव जैसी समस्याएं बढ़ सकती है। इसके हानिकारक प्रभावों से निपटने के लिए अपनाएं ये आस

क्या आप हमेशा अपने फोन का इस्तेमाल करते रहते हैं? क्या आपके लिए खुद को सोशल मीडिया अकाउंट से थोड़े समय के लिए भी दूर रखना काफी मुश्किल हो गया है? अगर आपके इन सारे सवालों का जवाब हां है, तो आप शायद सोशल मीडिया के लत से पीड़ित हैं। इनका अत्यधिक उपयोग आसानी से आपकी लत बन सकता है, जो आपके मानसिेक स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह हो सकता है। 2018 में डिजिटल एल्बम के अनुसार सोशल मीडिया का उपयोग करने वाले लोगों की संख्या लगभग 3.1 बिलियन था, जो कि पूरे विश्व की आबादी के एक तिहाई के आसपास है। वैज्ञानिक और चिकित्सा अनुसंधान के एक ऑनलाइन डेटाबेस के अनुसार वर्ष 2017 में पूरे विश्व में लगभग 210 मिलियन लोग सोशल मीडिया और इंटरनेट की लत से पीड़ित थे।

सोशल मीडिया की लत बच्चों पर बुरा प्रभाव डालते हैं: रिसर्च

द लैंसेट नामक पत्रिका में हाल ही में प्रकाशित एक शोध में बताया गया है कि पूरे दिन फोन का इस्तेमाल करने से आप डिप्रेशन का शिकार हो सकते हैं। लड़कियों को लड़कों की तुलना में अधिक दुष्प्रभाव होने की संभावना होती है। इसका मतलब यह है कि अगर आप लड़की हैं और फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर आदि जैसी सोशल मीडिया साइटों का अत्यधिक उपयोग करती हैं, तो आप लड़को की तुलना में जल्दी डिप्रेशन का शिकार हो सकती हैं। शोधकर्ताओं ने पाया कि अध्ययन में भाग लेने वाली 60 प्रतिशत लड़कियों की नींद में खलल और सोशल मीडिया की लत के कारण मानसिक समस्याएं थी। जबकि, 12 प्रतिशत लड़के इन समस्याओं के कारण मानसिक अशांति से गुजर रहे थे।

कैसे सोशल मीडिया आपके दिमाग को प्रभावित करता है?

सोशल मीडिया का उपयोग चिंता और तनाव के साथ जुड़ा हुआ है। जब आप सोशल नेटवर्किंग साइटों पर किसी व्यक्ति द्वारा टेक्स्ट मैसेज या टिप्पणी प्राप्त करते हैं, तो इससे आपको असहजता महसूस होती है जिसके कारण आप तनावग्रस्त हो जाते हैं। आपके लिए सोशल मीडिया का लत छोड़ना या इसका इस्तेमाल कम करना मुश्किल हो सकता है, क्योंकि आपके दिमाग में एक डोपामाइन नामक रसायन मौजूद होते है जो आपको सोशल मीडिया के सुखद अनुभूति का अहसास कराता है और आपको उनसे दूर होने नही देता है।

इन टिप्स के मदद से आपके दिमाग पर सोशल मीडिया के उपयोग के हानिकारक प्रभावों को कम किया जा सकता है।

खुद पर प्रतिबंध लगाएं

सोशल मीडिया का उपयोग करने के बजाय, खुद को किसी अन्य कामों में व्यस्त रखना शुरू कर दें जैसे कि पढ़ना, खाना बनाना या अपनी पसंद का कोई और काम करने में। अपनी ऑफलाइन बातचीत बढ़ाने का ज्यादा प्रयास करें। यह संभावित रूप से आपके सोशल मीडिया की लत को कम करने में मदद करेगा। इसके अलावा आप अपने फोन से सोशल एप्लिकेशन्स को कुछ समय के लिए हटा भी सकते हैं।

अनुकूलन सुविधाओं का उपयोग करें

अनुकूलन सुविधाओं में से एक फीड को म्यूट कर दें,  उन अकाउंट या समूहों के सूचनाएं को भी म्यूट कर दें जिनमें आपको दिलचस्पी नहीं है या जो आपको मानसिक तनाव को बढ़ावा देते हैं, इससे आपके दिमाग को बहुत आराम महसूस होगा। ऐसे अकाउंट को आप ब्लॉक भी कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: सोशल मीडिया के ज्‍यादा इस्‍तेमाल से कमजोर हो रही है याद्दाश्‍त

इसे भी पढ़ें: रात को नींद नहीं आती तो इंटरनेट पर देखें ये 6 चीजें, सोने में होगी आसानी

ब्रेकिंग न्यूज के दौरान सोशल मीडिया से कटऑफ

ब्रेकिंग न्यूज की स्थिति जैसे आतंकवादी हमले, बलात्कार, या किसी अन्य सनसनीखेज विषय की खबरों के दौरान फेसबुक या व्हाट्सएप पर प्रसारित होने वाली झूठी या बनावटरी खबरें भी हो सकती है जो आपको गहरी चिंता में डाल सकती है।

इसे भी पढ़ें: ई-बुक्स के बजाय पेपर बुक्स पढ़ना है सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद, जानें 5 फायदे

जो आपको हंसाते हैं उन्हें फॉलो करें

फेसबुक और ट्विटर पर कई ऐसे पेज मौजूद हैं जो सिर्फ मनोरंजन के लिए हैं। कई बच्चे और जानवरों के वीडियो इंटरनेट पर उपलब्ध हैं, जो आपके दिमाग को शांत कर सकते हैं। इसके अलावा आप खाना पकाने के वीडियो भी देख सकते हैं। ये सारे आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकते हैं। सोशल मीडिया के हानिकारक प्रभावों को कम करने का यह एक अच्छा तरीका है।

Read more articles on Alternative Therapies in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK