सुचेता पाल कहती हैं, काम, परिवार और व्यक्तिगत समय को संभालने से ही आप सफल बनते हैं

अगर आप भी जुम्बा को सिर्फ आनंद लेने के लिए ही करते हैं तो जान लें कैसे आप इसे अपने करियर के लिए चुन सकते हैं। 

 
सुचेता पाल
तन मनWritten by: सुचेता पालPublished at: Feb 04, 2020
Updated at: Feb 04, 2020
सुचेता पाल कहती हैं, काम, परिवार और व्यक्तिगत समय को संभालने से ही आप सफल बनते हैं

हम में से कई लोगों ने जुम्बा के बारे में सोचा है या उसका आनंद लिया होगा। कुछ लोग जुम्बा इसलिए करते हैं कि वो अपने आपको फिट रख सके और वो उसका आनंद ले सके, लेकिन सुचेता पाल के लिए जुम्बा जीवन का एक मोड़ था। कोलंबियाई डांसर और कोरियोग्राफर अल्बर्टो बेटो पेरेज ने जुम्बा डांस को बनाया है जो दुनियाभर में काफी पॉपुलर हो गया है। दुनियाभर की तरह अब भारत में भी फिटनेस के जगत में जुम्बा काफी तेजी से फैलता जा रहा है। सुचेता को एक बेहतर करियर दिया है जुम्बा ने और उन्हें खास बनाया है। 

मुंबई में 25 साल की उम्र में 9 से 9 की नौकरी करने के साथ एक तनावपूर्ण जीवन का अहसास हुआ। इसके साथ ही नौकरी के तनाव से वह काफी दुखी थी। जिसकी वजह से उनके स्वास्थ्य पर काफी बुरा असर पड़ा और चिंता विकार की ओर धकेल दिया। आपको बता दें कि सुचेता पाल की परेशानी चिड़चिड़ेपन से शुरू हुई थी जिसकी वजह से उनके काम पर इसका सीधा असर पड़ा। इसके साथ ही इसका असर ना केवल उनके काम पर पड़ा बल्कि उनके आत्मविश्वास को बहुत प्रभावित किया है। 

sucheta pal

सुचेता के मुताबिक, इस परेशानी से वो लोगों का सामना भी नहीं कर पा रहे थे। इस स्थिति में वो काफी परेशान रहने लगी थी। यहां तक की वो अपनी मीटिंग में करीब 4 बार ब्रेक लिया करती थी। लेकिन अब मैं उन सभी परेशानी और तनाव से बाहर आ गई हूं और मैं आज दुनिया में बिना किसी डर और तनाव के घूम रही हूं। 

इसे भी पढ़ें: प्रेगनेंसी के दौरान फिट रहने के लिए जुम्बा से ऐसे लें प्रेरणा

'मैनें तीन साल के लिए, जुम्बा के हर संभव चीजों को सीखा, जहां मैने जुम्बा की खोज की और कनेक्टिकट राज्य में एक लाइसेंस प्राप्त प्रशिक्षक के रूप में पढ़ाया। जिसके बाद मुझे एक फोन आया था, जो कि साल 2012 अप्रेल में जुम्बा मियामी मुख्यालय भारत में जुम्बा एजुकेशन स्पेशलिस्ट की भूमिका के लिए ऑडिशन के लिए आया था, जो मेरे जीवन में एक खास मोड़ बना था। फिर से मैनें साल 2012 में मई में जुम्बा को रिलॉन्च किया और तब से मैंने इस काम में बहुत आनंद लिया और बहुत मजा आया। अब सुचेता के पास 4 हजार से ज्यादा जुम्बा के इंस्ट्रकटर हैं। 

महिला और फिटनेस 

 
 
 
View this post on Instagram

Woohoo 3rd trimester & I can't even begin to express how excited I am for my #BabyShower this Sunday in Mumbai with 25 of my dearest girls....and the best part it's on my birthday...yayyyy! You know my #instastories will be 🔥 on 13th October!!! . . My talented sis @pushpitagaur has planned the entire thing for months now and I have no clue except how the invite looks like!! Swipe ⏩( isn't it cute... my 7 and 13 year old nephews handpainted and handmade it❤️) I also have a customised #babyshower 👗 from @si.ta.ra (And I thought I wasn't the #babyshower kinds😂....but I totally ammmm...bring it on🔥) . . I kept getting doses of #babyshower expereinces in Delhi, Jaipur, Pune and Chennai on the #pregantandperfect tour and blessed for that ❤️ but the first mini celebration happened in Hyderabad months back by a dear friend @abhilasharathi ( Swipe extreme ⏩Check out the last video on this post) It was my 1st trimester and I felt and looked washed out but that lil gesture truly is etched in my memory🙏 Thankyou Abhi & was so needed. @aparajetadas hugs for being there. . . Grateful for lovely friends and family! #babyshower #onmybirthday #sundayfunday #pregnancylife #suchetapal #pregantandperfect #preggerlife #preggo #babybump #babyshowertheme #friendslikefamily

A post shared by Sucheta Pal (@suchetapal) onOct 8, 2019 at 7:19pm PDT

आजकल, भारत में भी महिलाएं अपनी फिटनेस को लेकर काफी जागरुक हो गई है और उन्हें इसका महत्व पता है। फिटनेस लोगों के लिए एक अच्छा और बेहतर विकल्प बना है खासकर महिलाओं के लिए। 

मुझे जम्मू-कश्मीर में सैन्य छावनी का दौरा करने का सौभाग्य मिला, जहां मैंने सेना में मौजूद जवानों की पत्नियों को सिखाया। इसके साथ ही मैंने गुजरात में महिलाओं को सिखाया जहां वो अपने परिवार में भी बोल कर नहीं आती थी कि वो जुम्बा के ट्रेनिंग के लिए आए हैं। जहां से मैंने ये सब शुरू किया ये मेरे लिए एक दूसरी जिंदगी की तरह लगता है। ये सब मुझे एक भारी आत्मविश्वास देने का काम करता है। ये चीजें मुझे ये समझाने की कोशिश करती हैं कि मैं अब किसी भी चीज से परेशान या डरती नहीं हूं और मैं ठीक हूं। 

इसे भी पढ़ें: नए वर्किंग पैरेंट्स बच्चों का कैसे रखें ध्यान? एक्सपर्ट सुचेता से जानें आसान तरीके

सुचेता ये मानती हैं कि जुम्बा करने से ना सिर्फ ये हमे फिट रखने का काम करता है बल्कि ये हमे मानसिक रूप से भी स्वस्थ रखने का काम करता है। इसके साथ ही सभी तरह के तनाव से भी दूर करने में मदद की है। 

Read more articles on Mind & Body

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK