Health Tips: 40 की उम्र में आते हैं महिलाओं में कई बदलाव, जानें इन बदलावों और समस्‍याओं से निपटने के उपाय

Updated at: Jul 27, 2020
Health Tips: 40 की उम्र में आते हैं महिलाओं में कई बदलाव, जानें इन बदलावों और समस्‍याओं से निपटने के उपाय

महिलाओं का 40 की उम्र के पास पहुंचने पर उनमें कई शारीरिक और मानसिक बदलाव आ सकते हैं। आइए यहां जानें इस उम्र में कैसे स्‍वस्‍थ रहें। 

Sheetal Bisht
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: Sheetal BishtPublished at: Jul 27, 2020

समय और उम्र दो ऐसी चीजें हैं, जिन्‍हें रोका नहीं जा सकता है। लेकिन हां, समय का सही उपयोग कर उसे कीमती और बढ़ती उम्र में हेल्‍दी लाइफस्‍टाइल से जीवन को आनंदमय और सुखदायक बनाया जा सकता है। हम सबके जीवन में उम्र बढ़ने के साथ-साथ कुछ बदलाव भी आते हैं। बचपन में आने वाले बदलाव हमारे विकास के कारण होते हैं लेकिन वहीं उम्र बढ़ने पर आने वाले बदलाव कमजोरी और बुढ़ापे की निशानी होते हैं। यहां हम महिलाओं की बात करें, तो उनके जीवन में लगभग 40 की उम्र में भारी बदलाव आ सकते हैं, जो उनके स्‍वास्‍थ्‍य को बुरी तरह प्रभावित कर सकते हैं। यह बदलाव शारीरिक और मानसिक दोनों तरह के हो सकते हैं। इसलिए उम्र के इस पड़ाव पर आने वाली महिलाओं को अपनी सेहत का विशेष ध्‍यान रखना चाहिए। इस उम्र में आप सुनिश्चित करें कि आपका खानपान और रहन-सहन दोनों अच्‍छे हों।। आइए यहां हम आपको कुछ हेल्‍थ टिप्‍स दे रहें हैं, जो आपको उम्र के इस पड़ाव में आने वाली परेशानियों से निपटने में मदद करेंगे।   

1. प्‍लांट बेस्‍ड डाइट लें  

अब आप उस उम्र मे नहीं हैं, जब आप कुछ भी खाएं और आपका शरीर उसे आसानी से पचा ले। 40 की उम्र ऐसी है, जब आपको स्‍वस्‍थ खानपान के साथ परहेज करने की आवश्‍यकता होती है। कहते हैं, परहेज से बड़ी कोई दवा नहीं होती है। इसलिए महिलाओं को अपनी बढ़ती उम्र में ज्‍यादा मसालेदार, ऑयली, जंक, फास्‍ट और प्रोसेस्‍ड फूड्स के सेवन से बचना चाहिए। आप इन सब चीजों के बजाय ताजे फल, फलों का जूस, सब्जियां, फलियां और साबुत अनाज खाएं। आप प्‍लांट बेस्‍ड डाइट ले सकते हैं, ये आपको स्‍वस्‍थ और बीमारियों से दूर रखने में मदद करेगी। इसके अलावा, यदि आप कोई नशा करते हैं, तो उसे भी छोड़ दें।  

2. खूब पानी पिएं 

यदि आप रोजाना खूब सारा पानी पीते हैं, तो आप स्‍वस्‍थ्‍ा रह सकते हैं। पानी पीने से आपका शरीर हाइड्रेट रहेगा और आपको स्‍वस्‍थ रहने में मदद मिलेगी। पानी को अपने शरीर का ईंधन समझें। पुरुषों के लिए रोजाना 15.5 कप और महिलाओं के लिए 11.5 कप पानी पीना एक पर्याप्‍त मात्रा है। लेकिन अगर आप व्यायाम कर रहे हैं या बहुत पसीना बहा रहे हैं तो यह मात्रा आप बढ़ा सकते हैं।पर्याप्त तरल पदार्थ प्राप्त करने से आपके शरीर के तापमान को नियंत्रित करने और संवेदनशील ऊतकों की रक्षा करने में भी मदद मिलती है। यह आपके जोड़ों के दर्द को कम करने और पाचन में सहायता करने में मदद करता है।   

इसे भी पढ़ें: हरियाली तीज व्रत के दौरान सावधानी बरतें गर्भवती महिलाएं, ध्यान रखें ये 5 बातें

3. रोजाना 30 मिनट करें व्यायाम 

व्‍यायाम करना न केवल 40 की उम्र में फायदेमंद है, बल्कि बच्‍चों से लेकर बूढ़े लोगों को रोजाना व्‍यायाम करना चाहिए। ऐसा करने से आप फिट और एक्टिव रह पाएंगे। महिलाओं में 40 की उम्र के बाद उनकी मांसपेशियां और हड्डियां कमजोर पड़ने लगती हैं, ऐसे में उनके जोड़ों में दर्द की समस्‍या होती है। लेकिन यदि आप इस उम्र में रोजाना 30 मिनट का व्‍यायाम या एक्‍सरसाइज करेंगे, तो आप फिट और स्‍वस्‍थ रहेंगे। आप ज़ुम्बा, वॉकिंग, एरोबिक्स, स्विमिंग, जॉगिंग या ब्रिस्‍क वॉकिंग जैसी कुछ एक्‍सरसाइज कर सकते हैं। 

Daily Exercise

5. स्‍ट्रेस-फ्री रहें 

अगर आप तनाव लेते हैं, तो यह आपको खोखला कर सकता है। जिसकी वजह से कई गंभीर बीमारियों का खतरा भी बढ़ सकता है। आप अपने तन-मन को शांत रखने की कोशिश करें। कभी तनाव महसूस हो, तो ध्‍यान या कुछ अन्‍य उपायों की मदद से तनाव से निपटें। यदि स्थिति गंभीर लगे, तो मनोरोग विशेषज्ञ या किसी कांउसलर से मिलें। 

इसे भी पढ़ें: गर्भवती महिलाओं में हो सकता है हर्निया का खतरा, जानें क्‍या हैं इसके जोखिम कारक और बचाव के टिप्‍स

4. हर 6 से 12 महीने में जरूर कराएं चेकअप 

उम्र बढ़ने के साथ-साथ आपको बीमारियों का खतरा भी बढ़ सकता है। ऐसे में आप हर 6 या 12 महीने में एक बार अपना फुलबॉडी चेकअप जरूर कराएं। ऐसा करने से आपको यदि कोई भी समस्‍या या बीमारी होगी, तो उसका पता लगाने और इलाज में मदद मिलेगी। आप यहां दिए कुछ सामान्य टेस्‍ट करवा सकते हैं, जैसे- ब्‍लड प्रेशर, थायराइड, ब्‍लड शुगर, कोलेस्ट्रॉल आदि।

Meet Doctor For Regular Checkup

6. हड्डियों और मांसपेशियों को रखें मजबूत 

पुरूषों के मुकाबलें महिलाओं में ऑस्टियोपेनिया या ऑस्टियोपोरोसिस की समस्‍या होती है, जो अधिकांश महिलओं में 40 से 50 की उम्र के बाद होती है। महिलाएं अपनी बढ़ती उम्र में ऑस्टियोपेनिया (हड्डी का कमजोर होना लेकिन फिर भी सामान्य सीमा के भीतर) और ऑस्टियोपोरोसिस (हड्डी की मजबूती से पैथोलॉजिकल लेवल में कमी) से पीड़ित हो सकती हैं। ये स्थितियां फ्रैक्चर का कारण बन सकती हैं। इसलिए आप अपनी हडि्डयों को मजबूत बनाए रखने और इन समस्‍याओं से बचने के लिए कैल्शियम का नियमित सेवन करें और विटामिन डी की खुराक या इससे भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करें। 

Read More Article On Women's Health In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK