• shareIcon

क्या आपके बच्चे को रात में आते है बुरे सपने, तो इन 6 आसान टिप्स से दिलाएं उसे छुटकारा

नवजात की देखभाल By धीरज सिंह राणा , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 09, 2019
क्या आपके बच्चे को रात में आते है बुरे सपने, तो इन 6 आसान टिप्स से दिलाएं उसे छुटकारा

सपना देखना कोई बुरी बात नही है लेकिन रात में आने वाले बुरे और डरावाने सपने आपके बच्चों के आने वाले कल के लिए अशुभ माना जाता है। बुरे सपने अक्सर बच्चे को बहुत परेशान कर सकते हैं और माता-पिता को असहाय बना देते हैं

माता-पिता पूरी जिंदगी अपने बच्चों के रक्षा और देखभाल करने के लिए क्या कुछ नही करते हैं। बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए पेरेन्टस कठिन से कठिन परिस्थितियों का सामना भी करते हैं ताकि उनके बच्चे को कोई तकलिफ ना हो। लेकिन अक्सर बच्चों का रात में आने वाले बुरे सपने उन्हेें बहुत परेशान कर सकते हैं और माता-पिता को असहाय बना देते हैं। क्या आपके बच्चे को भी रात में डर लगता है या फिर रात में सोते समय उसे बुरे या डरावाने सपने आते हैं। रात में बच्चों का डरना या फिर अचानक चौंक कर उठ जाना एक आम समस्या है। उनका मनोमस्तिष्क बहुत ही कोमल होता है। वे अपने आस-पास जैसी बातें सुनते या देखते हैं उन्हें वैसा ही अहसास होने लगता है। ऐसा माना जाता है कि सपने हमें भविष्य में होने वाली घटनाओं के बारे में सूचित करते हैं। कुछ सपनों का फल शुभ होता है तो कुछ का अशुभ। यह पेरेन्टस और बच्चे दोनों के लिए कठिन समय हो सकता है। अगर आपके बच्चे भी इस समस्या से लड़ रहे हैं तो नीचे दिए गए टिप्स आपके लिए मददगार हो सकते हैं।

बुरे सपने क्या हैं?

छोटे बच्चों में बुरे सपने आना एक आम समस्या है, क्योंकि वे अक्सर रात के अंधेरों में कुछ देखकर काफी डर जाते हैं। हालांकि, बड़े बच्चे भी कभी कभी इन भयानक सपनों से पीड़ित हो सकते हैं। ये बुरे सपने आमतौर पर उनके आस-पास देखी हुई कोई भी चीज हो सकती हैं जिसे देखकर वो डर जाते हैं या उन्हें लगता है कि वो उनको चोट पहुंचा सकते हैं। जैसे कुछ बच्चे ऐसे होते हैं जो अपने आस पड़ोस में रहने वाले लोग जिनकी मूंछे बड़ी-बड़ी होती है और बच्चा उन्हें देखकर हमेशा डर जाता हो। कुत्ते जो लगातार भौंकते रहते हैं बच्चे को उससे भी बहुत डर लगता है। ऐसा नही है कि बच्चे का दिमाग डरावना और खतरनाक होता है।

बच्चों को बुरे सपने क्यों आते हैं?

  • बच्चे अपने आस-पास जैसी बातें सुनते या देखते हैं उन्हें वैसा ही अहसास होने लगता है, जब वे आसपास की दुनिया में हो घटनाओं को समझने लगते हैं। जितना अधिक बच्चे वास्तविक जीवन में दुखद और डरावनी चीजोें को समझते हैं, वैसे चीज ही उनके सपनों में भी प्रकट होने लगते हैं।
  • रात मेें बच्चों को एक वास्तविक जीवन की डरावनी घटनाओं से लेकर वो जो कार्टून देखते हैं उसके सपने आ सकते हैं। उसके सपनों में कभी कभी मॉन्स्टर और बूगीमैन तक आ जाते हैं, जिसे देखकर वो अचानक काफी डर जाता है। बुरे सपने वास्तव में एक निश्चित पैटर्न का पालन नहीं करते हैं।
  • कभी-कभी बच्चों के वर्तमान चिंता जिसे वो अपने जीवन में सामना कर रहा हो, उसके बारे में अधिक सोच कर रात के सपनों में डर जाते हैं।
  • अधिकांश बुरे सपने REM (Rapid Eye Movement) नींद के दौरान आते हैं। नींद के इस हिस्से को सपने देखने के रूप में भी जाना जाता है।
  • अक्सर रात के दूसरे पहर में बुरे सपने आते हैं, इसलिए रात में बच्चों को अपने सपनों से जागते हुए देखना और रात के अंत में मौत का डर होना आम बात है।

इसे भी पढ़ें: क्या आपको पता है? पहली बार अपने बच्चे को डेंटिस्ट के पास कब और क्यों ले जाएं

अगर आपका बच्चा बुरे सपने से जूझ रहा है तो आपको क्या करना चाहिए?

  • सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण बात, अपने बच्चे को विश्वास दिलाएं कि आप वो बिल्कुल सही हैं और उसके साथ कुछ भी बुरा नहीं होने वाला है। ज्यादातर सभी बच्चों को भरोसा, विश्वास और आपकी उपस्थिति की जरूरत होती है।
  • ऐसे परिस्थितियों में अपने बच्चे पर बुरे सपने को लेकर गुस्सा करना ठीेक बात नही है, इसके बजाय उन्हें समझाने और शांत करने की कोशिश करें।
  • अपने गुस्से को शांत रखें और उन्हें बताएं कि सब कुछ ठीक है और वे सुरक्षित हैं।
  • उनके बालों को सहलाएं या उनकी पीठ को रगड़ें इससे बच्चों के मन को शांति मिलेगा।
  • उन्हें बताएं कि वो केवल एक बुरा सपना था और कोई सच्चाई नहीं। उनके ध्यान को शांति और अच्छे चीजों पर केंद्रित करें।
  • अगर जोकर या कोई डरावनी गुड़िया आपके बच्चों को डराता है, तो उसे वास्तविक जीवन से हटा दें।

Read more articles on Parenting in Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK