World Sight Day: आंखों की रोशनी हमेशा रहेगी बरकरार अगर आदतों में लाएंगे ये 6 बदलाव

Updated at: Sep 23, 2020
World Sight Day: आंखों की रोशनी हमेशा रहेगी बरकरार अगर आदतों में लाएंगे ये 6 बदलाव

World Sight Day: खूबसूरत आंखें दुनिया की खूबसूरती को दिखाती हैं, इसलिए इनका स्‍वस्‍थ रहना बहुत जरूरी है। इस लेख में नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉक्‍टर स्‍वर्णिमा अग्रहरि, आंखों की देखभाल के कुछ जरूरी उपायों के बारे में बता रही हैं।

Atul Modi
अन्य़ बीमारियांReviewed by: डॉ स्वर्णिमा अग्रहरी, नेत्र रोग विशेषज्ञPublished at: Oct 13, 2018Written by: Atul Modi

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) के मुताबिक, दुनिया भर में करीब 2.2 अरब लोग आंखों के विकार से जूझ रहे हैं। इनमें एक अरब मामले ऐसे हैं, जिनकी रोकथाम की जा सकती है, मगर इन्‍हें अनुपचारित छोड़ दिया गया है। 

दुनियाभर में 10 अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय दृष्टि दिवस (World Sight Day) के रूप में मनाया जाता है। इस मौके पर जारी WHO की रिपोर्ट में एक चेतावनी दी गई है, जिसमें कहा गया है कि, जैसे-जैसे लोगों की उम्र बढ़ रही है वैसे-वैसे देखने की क्षमता में और अंधेपन से पीड़ित लोगों की संख्या बढ़ती जाएगी।

हालांकि, यदि समय-समय पर आंखों की भी देखभाल की जाए तो काफी हद तक इसमें पैदा होने वाली समस्याओं पर रोक लगाई जा सकती है। साथ ही आंखों को बीमारियों से बचाने के लिए आंखों की सफाई और आंखों का व्या‍याम करना जरूरी है। आंखों की देखभाल के लिए विटामिन-ए युक्त भोजन भी करना चाहिए जो आंखों की रोशनी तेज करता है और आंखों की समस्याओं से व्यक्ति को बचाता है।

eyes care in hindi

नियमित रूप से करें आंखों की सफाई

आंखों के प्रति लापरवाही बरतने से आंखों से पानी आना, जलन, खुजली, आंखों का लाल होना, पीलापन आना, सूजना, धुंधला दिखने जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इन समस्याओं से आंखों को बचाने के लिए नियमित रूप से आंखों की सफाई करनी चाहिए। इसके लिए आप आंखों को दिन में 3-4 बार ठंडे पानी से अच्छीं तरह से धोएं। 

आहार में लें पोषक तत्‍व

आंखों को बीमारी से बचाने के लिए विटामिन-ए और विटामिन के से भरपूर भोजन लेना चाहिए। दूध, मक्खन, गाजर, टमाटर, पपीता, अंडे, शुद्ध घी और हरी साग-सब्जियों इत्यादि का सेवन करना चाहिए। इसके सुबह उठकर पानी पीना, पूरे दिन में 8-9 गिलास पानी—पीना आंखों के लिए हितकर होता है जो शरीर में बढ़ते हुए विषैले पदार्थों को नष्ट करता है।

पर्याप्त नींद

आंखों को आराम देने के लिए पर्याप्त आठ घंटे की नींद लेनी चाहिए। और साथ ही आंखों के आसपास की त्वचा को पुष्ट करने के लिए बादाम के तेल से आंखों के नीचे हल्के हाथ से मालिश करनी चाहिए। इससे आंखों के नीचे काले घेरे भी दूर होते हैं। इसके अलावा आंखों के नीचे एंटी रिंकल क्रीम लगानी चाहिए। एंटी रिंकल क्रीम में मौजूद तत्व होते है विटामिन सी और ग्रीन टी, जो आंखों के काले घेरे बनने से रोकने में लाभकारी है!

कंप्‍यूटर से उचित दूरी

आंखों की सेहत के लिए जरूरी है कि उचित प्रकाश में ही बैठकर काम किया जाएं, फिर चाहे आप कंप्यूटर पर काम कर रहे हो या फिर पढ़ाई। बहुत नजदीक से निरंतर किसी चीज को देखने या ज्यादा देर तक कम्यूटर के सामने बैठने के कारण आंखों में दर्द की शिकायत हो सकती है। इसलिए निरंतर आंखों पर जोर न डालें। बीच-बीच में अवकाश लेते रहें।

eye checkup in hindi  

समय-समय पर आंखों का चेकअप करायें  

आंखों में कोई समस्या, हो या न हो लेकिन समय-समय पर आंखों का चेकअप कराना चाहिए। खासकर डायबिटीज के रोगियों को समय-समय पर आंखों का चेकअप जरूर करवाना चाहिए क्योंकि डायबिटीज से आंखों पर नकारात्मक असर पड़ता है और लंबे समय तक डायबिटीज रहने पर अंधापन भी हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें: गर्मियों में आंखों के संक्रमण का अचूक इलाज है ये 11 सस्‍ते उपाय

अच्छी क्वालिटी के उत्पादों का इस्‍तेमाल

आंखों को धूल-मिट्टी और धूप से बचाने के लिए बाहर निकलते समय आंखों पर शेड्स या चश्में का इस्तेमाल करना चाहिए। साथ ही आंखों के मेकअप के लिए अच्छी क्वालिटी के उत्पादों का ही इस्तेमाल करें। आंखों पर जरूरत के हिसाब से मेकअप करना चाहिए, यानी काजल, सुरमा जैसी चीजें लगाने से बचना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: मामूली न समझे आंखों का अचानक लाल होना, हो सकता है 'कंजक्टिवाइटिस' रोग

अन्‍य उपाय

  • आंखों में थकान होने पर गुलाब जल में रूई भिगोकर आंखों पर रखने से आंखों को राहत मिलती है।
  • आंखों में दर्द होने पर दोनों हथेलियों को रगड़कर कुछ देर आंखों पर मलना अच्छा रहता है।
  • कंप्यूटर पर काम करते समय अपनी कुर्सी को कंप्यूटर की ऊंचाई के हिसाब से रखें। जिससे आंखों पर बहुत अधिक जोर न पड़े और टीवी कभी अंधेरे में न देखें, इससे आंखों पर बहुत जोर पड़ता है।
  • रात को सोने से पहले आंखों का मेकअप ध्यानपूर्वक हटाएं।
यह लेख डॉक्‍टर स्वर्णिमा अग्रहरी- एमबीबीएस, एमएस ऑप्थल्मोलॉजी, मोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज, प्रयागराज से हुई बातचीत पर आधारित है।

Read More Articles on Eye Disorders in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK