काजल और आई मेकअप के कारण हो रहा है आंखों में सूखापन? ये घरेलू उपाय टिप्स आएंगी काम

Updated at: Jan 19, 2021
काजल और आई मेकअप के कारण हो रहा है आंखों में सूखापन? ये घरेलू उपाय टिप्स आएंगी काम

आंखों में ज्‍यादा मेकअप करने से कई परेशानी हो सकती है। काजल लगाने से अक्‍सर आंखें सूख जाती हैं। जान‍िये इससे बचने के कुछ उपाय। 

Yashaswi Mathur
अन्य़ बीमारियांWritten by: Yashaswi MathurPublished at: Jan 19, 2021

आंखों की खूबसूरती बढ़ाने के ल‍िये हम काजल का इस्‍तेमाल करते हैं। क्‍या आपको पता है काजल से आपकी आंखों में सूखापन हो सकता है? दरअसल काजल और आंखों में लगाने वाले मेकअप प्रोडक्‍ट्स कैम‍िकल से बनते हैं। इनके संपर्क में आने से ड्राय आई स‍िंड्रोम जैसी समस्‍या आंखों में हो सकती है। इस बीमारी में आंखों की नमी धीरे-धीरे खत्‍म होने लगती है और आपको आंखों में जलन या खुजली का अहसास हो सकता है। इससे बचने के ल‍िये आप डॉक्‍टर से संपर्क करें पर कुछ उपायों से आप घर पर भी इस समस्‍या को कुछ समय के ल‍िये दूर कर सकते हैं। 

dry eye syndrome is a eye disease

क्‍या है आंखों का सूख जाना? (Dry eye syndrome)

ड्राय आई स‍िंड्रोम में आंखों में आंसू बनना बंद हो जाते हैं। इस कारण आपकी आंखें सूखने लगती हैं। उनमें जलन, खुजली महसूस होती है। समय के साथ जलन की समस्‍या बढ़ने लगती है। जि‍न लोगों की आंखें पहले से कमजोर हैं उन्‍हें आंखों का सूखापन ज्‍यादा परेशान कर सकता है। ऐसा होने पर क‍िसी भी तरह का मेकअप का इस्‍तेमाल बंद कर दें। अगर आप आंखों में कॉन्‍टेक्‍ट लेंस का इस्‍तेमाल करते हैं तो उसे भी कुछ समय के ल‍िये हटा दें। इसे ठीक करने के ल‍िये आपको डॉक्‍टर द्वारा बताया गया लुब्र‍िकेंट इस्‍तेमाल करना पड़ सकता है। आंखों की नमी जाने से आपकी आंखों में घाव होने का भी खतरा रहता है इसलि‍ये इस समस्‍या को नजरअंदाज न करें।  

इसे भी पढ़ें- ड्राइविंग के समय देखने में परेशानी की वजह हो सकती है विटामिन A की कमी, जानें तेज नजर के लिए कुछ फूड्स और टिप्स

काजल का ज्‍यादा इस्‍तेमाल हानिकारक (Kajal or eye makeup is harmful for eyes)

kajal can be a cause of dry eye

हमारी आंखें बेहद नाजुक होती हैं। इनका ध्‍यान रखना बहुत जरूरी है। आंखों की देखभाल के ल‍िये आपको ध्‍यान रखना है आंखों पर ज्‍यादा मेकअप का इस्‍तेमाल न करें। दरअसल मेकअप प्रोडक्‍ट्स भी कैम‍िकल से बनते हैं। ये आंखों के संपर्क में आते ही आंखों में जलन या तकलीफ पैदा करते हैं। कई लोग अपर ल‍िड पर भी काजल लगाते हैं। ऐसा करने से बचना चाह‍िये। इसके साथ ही आपको इस बात का ध्‍यान रखना है क‍ि मेकअप प्रोडक्‍ट्स एक्‍सपायरी डेट के बाद न यूज हों। पुराना प्रोडक्‍ट्स के इस्‍तेमाल से आपकी आंखों में गंभीर समस्‍या हो सकती है।  मेकअप उतारने के लिये आप ज‍िस मेकअप र‍िमूवर का इस्‍तेमाल कर रही हैं उसमें म‍िले कैम‍िकल की जानकारी पहलें लें। कई बार मेकअप र‍िमूवर से भी आंखों में सूखापन होता है। आपको इस बात का भी ध्‍यान रखना है क‍ि आंखों का मेकअप उतारे ब‍िना आप न सोयें। कुछ लोग मेकअप को लंबे समय तक लगाये रखते हैं। इससे आंखों में सूखापन आ जाता है। ऐसा करने से बचें। 

इसे भी पढ़ें- अपनी खूबसूरत आंखों के लिए इस्तेमाल करें होम मेड काजल, यामी गौतम से जानें घर पर काजल बनाने का तरीका

सूखी आंखों को ठीक करने के घरेलू उपाय (Home remedies to cure dry eye)

  • अगर आपके पास शुद्ध गुलाब जल है तो उसे एक आई ड्रॉपर में भरकर द‍िन में 3 से 4 बार लगायें। इससे आंखों को आराम म‍िलेगा। 
  • खीरे के टुकड़ों को कुछ देर आंखों पर रखें। इससे आंखों को ठंडक म‍िलेगी। 
  • आलू भी आंखों के ल‍िये अच्‍छा माना जाता है। आलू की स्‍लाइस को 15 से 20 म‍िनट आंखों पर रखें। इससे आंखों को नमी म‍िलेगी और आपको ड्रायनेस का अहसास नहीं होगा। 
  • आंवले का रस भी आंखों में बढ़ रहे सूखेपन को कम करती है। आंवले को रात भर पानी में भ‍िगोकर रखें और उसके पानी को छानकर आंखों में डालें। इससे ड्राय आई से न‍िजात म‍िलेगा। 
  • आंखें सूख रही हैं और इंस्‍टेंट उपाय चाहते हैं तो पानी को गरम करें। उसमें रूमाल भिगोकर आंखों पर रखें। इससे आंखों को गरमाहट म‍िलेगी। भाप से आंखों में नमी बरकरार रहेगी। 
  • 1 चम्‍मच शहद को आंवले के रस में म‍िलाकर प‍ियें। इससे भी आपकी आंखों का सूखापन दूर होगा। 

इन उपायों से अगर आराम नहीं म‍िलता है और आंखों में लगातार खुजली और जलन की श‍िकायत होने पर नेत्र रोग व‍िशेषज्ञ को द‍िखाना न भूलें। 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK