• shareIcon

शरीर पर फैले हैं सफेद-गुलाबी धब्बे तो इन आसान तरीकों से पाएं छुटकारा

अन्य़ बीमारियां By जितेंद्र गुप्ता , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / May 20, 2019
शरीर पर फैले हैं सफेद-गुलाबी धब्बे तो इन आसान तरीकों से पाएं छुटकारा

टीनिया वर्सीकोलर से सामान्य तौर पर गर्मियों के दौरान लोग प्रभावित होते हैं। इस संक्रमण से  पीठ, गर्दन, छाती और ऊपरी बाहों की त्वचा पर लाल व सफेद धब्बे हो जाते हैं, जिसके कारण लोगों को शर्मिंदगी का कारण बनना पड़ता है।

 

टीनिया वर्सीकोलर एक फंगल इंफेक्शन है, जिसे रिंगवर्म संक्रमण या डर्मेटोफायटोसिस के रूप में भी जाना जाता है। इस संक्रमण से सामान्य तौर पर गर्मियों के दौरान लोग प्रभावित होते हैं। इस संक्रमण से  पीठ, गर्दन, छाती और ऊपरी बाहों की त्वचा पर लाल व सफेद धब्बे हो जाते हैं, जिसके कारण लोगों को शर्मिंदगी का कारण बनना पड़ता है, हालांकि यह शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकते हैं। ये धब्बे संक्रामक, हानिकारक या दर्दनाक नहीं होते हैं।

उपचार नहीं कराने पर फैलना स्वभाविक

इन धब्बों पर आपको हल्की खुजली भी हो सकती है। ये शुरुआत में छोटे आकार के होते हैं लेकिन अगर इनका उपचार वक्त पर नहीं कराया जाए तो इनका आकार बढ़ता चला जाता है। आप भी इस स्थिति से परेशान हैं तो आप एंटीफंगल क्रीम, लोशन और शैंपू का उपयोग कर इसका इलाज किया जा सकता है लेकिन इस संक्रमण के ज्यादा फैलने पर आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

इसे भी पढ़ेंः लगातार तनाव में रहते हैं तो हो जाइए सावधान, दस्तक दे सकती हैं ये गंभीर बीमारियां

गर्मी के मौसम में सामान्य

मुंहासे के विपरीत, टीनिया वर्सीकोलर फंगल संक्रमण के कारण होता है। यह अनिवार्य रूप से आपकी त्वचा पर खमीर की अत्याधिक मौजूदगी हो सकती है। टीनिया वर्सीकोलर विशेष रूप से गर्मियों के मौसम में आम हैं। इस विशेष खमीर को  मालेससेजिया के नाम से जाना जाता है और यह आमतौर पर पर बिना किसी वजह के हमारी त्वचा पर बना रहता है। कभी-कभार यह बढ़ सकता है विशेषकर गर्म और आर्द्र मौसम के दौरान।

Buy Online- Lotus Herbals Safe Sun UV Screen Matte Gel, SPF 50, 100g, Offer Price- Rs. 330.00/-

उपचार के तरीके

  • प्रभावित क्षेत्र और धब्बों की गंभीरता को देखते हुए डॉक्टर से लें दवा।
  • सिसिलोइरोक्स क्रीम, जेल या शैम्पू, फ्लुकोनाजोल, इट्राकोनाजोल टैबलेट, सेलेनियम सल्फाइड 2.5 प्रतिशत लोशन, केटोकोनाजोल क्रीम, जेल या शैम्पू। 
  • क्रीम या लोशन लगाने से पहले उस जगह को धोएं और सूखने दें।
  • दिन में एक या दो बार क्रीम या लोशन लगाएं। 
  • शैम्पू को कम से कम पांच मिनट तक लगाकर रखें और उसके बाद धोएं। 
  • क्रीम और ऑइन्टमेंट का प्रयोग करने वाले पुरुष कम से कम दो सप्ताह तक दिन में एक बार या दो बार एक पतली परत जरूर बनाएं। 
  • अधिक गंभीर मामलों में डॉक्टर खमीर को मारने के लिए एंटी-फंगल गोलियां भी लिख सकते हैं।

इसे भी पढ़ेंः जानें एसिडिटी के 6 असामान्य लक्षण और इससे बचाव के आसान घरेलू उपाय

टीनिया वर्सीकोलर को रोकने के तरीके 

  • ढीले कपड़े पहनें क्योंकि चुस्त कपड़े खमीर के लिए ब्रीडिंग स्थान पैद कर सकते हैं। इसलिए ढीलों कपड़ों का प्रयोग करें। 
  • वर्कआउट के बाद तुरंत नहाना चाहिए क्योंकि गर्म शरीर पर यीस्ट के लिए जगह बनाता है। 
  • सूर्य की रोशनी से दूर रहने का प्रयास करें लेकिन फिर भी अगर आप धूप में निकलते हैं तो सनस्क्रीन का प्रयोग करें। 
  • शरीर पर धब्बे दिखाई देने के बाद से धूप से अपनी त्वचा को बचाने का प्रयास करें।
  • हाथों पर हमेशा एंटी-फंगल शैम्पू या क्रीम का प्रयोग करें। 
  • गर्मियों के मौसम में विशेषकर एंटी-फंगल शैम्पू या क्रीम का इस्तेमाल करें।

Read More Articles On Other Diseases in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK