• shareIcon

Navratri 2019: नवरात्र व्रत में राजगिरा के पराठे खाने से बनी रहेगी शरीर की उर्जा, जानें बनाने का तरीका

स्वस्थ आहार By Atul Modi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Apr 08, 2016
Navratri 2019: नवरात्र व्रत में राजगिरा के पराठे खाने से बनी रहेगी शरीर की उर्जा, जानें बनाने का तरीका

नवरात्र आस्था का तो विषय है ही साथ में स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी है। ऐसे में राजगिरा के पराठे एक समय खाकर रखिए नवरात्रि का व्रत। इसे बनाने की विधि यहां है।

राजगिरा (अमरनाथ) या रामदाना, जैसा कि उत्तरी भारत में लोकप्रिय है, पोषक तत्वों का एक पावर हाउस है। यह अनाज अमेरिका से भारत में चला आया, और हमारे उपवास अनुष्ठान का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया। राजगिरा कैल्शियम, प्रोटीन और अमीनो एसिड का अच्छा स्रोत है और यह आयरन, मैग्नीशियम और विटामिन ए, बी और सी से भी भरपूर है। यह अनाज, जिसे केवल नवरात्रि और गणेश चतुर्थी के दौरान याद किया जाता है, इसे हमारे कई लाभों के लिए नियमित आहार में शामिल किया जाना चाहिए।

नवरात्र का व्रत अपनी-अपनी आस्था का विषय तो है ही साथ में स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी है। इस कारण अधिकतर लोग नवरात्र का व्रत जरूर करते हैं। व्रत में सात्विक भोजन शरीर और मन दोनों के लिए काफी लाभदायक माना जाता है। नवरात्रि के व्रत में राजगिरा के पराठे खाने का बेहतर विकल्प है। ये खाने में काफी स्वादिष्ट लगते है और अगर परांठा खाने मन ना करे तो राजगीरा की पूरी, राजगिरा का हलवा या उसके लड्डू बना सकते हैं। फिलहाल हम आपको बताने वाले हैं की राजगिरा के पराठे बनाने का तरीका। इसके आटे में नमक की जगह सेंधा नमक का इस्तेमाल करें।


राजगीरा के परांठा

जरूरी सामग्री 

  • राजगिरा      1 कप
  • आलू        4
  • अदरक       1 चम्मच कसा हुआ
  • हरी मिर्च     1 चम्मच
  • तेल         1 1/2 चम्मच
  • नमक        2 चम्मच या स्वादानुसार
  • हरा धनिया    1/4 कप बारीक कटे हुए 

बनाने का तरीका 

  • सबसे पहले आलू को उबाल लें। जब आलू ठंडे हो जाएं तो उन्हें छीलकर अच्छी तरह से मसल लें।
  • अब एक बाउल में राजगिरा का आटा, उबले और मसले हुए आलू, अदरक की पेस्ट, बारीक कटा धनिया, हरी मिर्च की पेस्ट, सेंधा नमक और थोड़ा सा तेल मिलाकर अच्छे से गूंथ लीजिए।
  • आटे को ज्यादा नरम ना गूंथे, नहीं तो पराठा बनाने में मुश्किल होगी।
  • अब इसकी छोटी-छोटी लोई बना लें। अब इसे बेलें।
  • अब चुल्हे पर तवा गर्म करने रखें। तवा गर्म हो जाए तो उसमें तेल डालें।
  • जब तवा का तेल गर्म हो जाए तो उसमें बिला हुआ पराठा डालें।
  • अब पराठे को अच्छे से सेक लें।
  • अब इस गर्मा-गर्म स्वादिष्ठ परांठे को आलू सब्जी के साथ खाएं। 

राजगिरा के फायदे 

  • राजगिरा एकमात्र अनाज है जिसमें विटामिक सी होता है। इसके साथ ही इसमें दूध के रूप में कैल्शियम की मात्रा भी दोगुनी होती है, जो ऑस्टियोपोरोसिस के जोखिम को कम करने में मदद करता है। इसे अपने परिवार के दैनिक आहार में शामिल करें और सभी के स्वास्थ्य को बरकरार रखें। 
  • अनाज में बायोएक्टिव यौगिक होते हैं जो इसे एंटी-एलर्जी बनाते हैं। साथ ही, यह मधुमेह रोगियों के लिए उपयुक्त है क्योंकि यह हाइपरग्लेसेमिया को कम करने में मदद करता है। राजगीरा एक अद्भुत औषधि के रूप में भी काम करता है! 
  • राजगिरा माइग्रेन वाले लोगों के लिए फायदेमंद है, क्योंकि इसमें मौजूद मैग्नीशियम धमनियों और रक्त वाहिकाओं के बाधित करने से रोकता है। 
  • राजगिरा में असंतृप्त फैटी एसिड और घुलनशील फाइबर भी होते हैं, जो रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करते हैं, और यह दिल को स्वस्थ बनाते हैं।

Read more articles on healthy recipe in hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK