World Hand Hygiene Day 2020: आपकी ये 6 गलतिया बना सकती हैं आपको बीमार, जानें क्‍या करें और क्‍या नहीं?

Updated at: May 05, 2020
World Hand Hygiene Day 2020: आपकी ये 6 गलतिया बना सकती हैं आपको बीमार, जानें क्‍या करें और क्‍या नहीं?

अगर आप भी हाइजीन से जुड़ी ये गलतियां कर रहे हैं, तो सावधान हो जाएं क्‍योंकि यह आपको बीमार बना सकती हैं। 

Sheetal Bisht
विविधWritten by: Sheetal BishtPublished at: Mar 12, 2020

स्‍वस्‍थ रहने के लिए सबसे जरूरी है कि आप अपनी स्‍वस्‍च्‍छता या पर्सनल हाइजीन का खास ख्‍याल रखें। क्‍योंकि कई बार आप कुछ ऐसा करते हैं, जो कि आपकी धीरे-धीरे आदत बन जाता है और आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। इसलिए आप न केवल स्वच्छता के नियमों, बल्कि कुछ आदतों में सुधार करें। आइए यहां हम आपको कुछ हाइजीन से जुड़ी ऐसी गलतियां बताते हैं, जिन्‍हें आपको बदलने की सख्‍त जरूरत है। 

1. बहुत ज्‍यादा बार शावर लेना  

Top Much Shower

यह अजीब लग सकता है, लेकिन बहुत बार ज्‍यादा बार नहाना, न नहाने या कम नहाने से ज्‍यादा बुरा हो सकता है। इंफेक्‍शन डिजीज एक्‍सपर्ट मानते हैं कि बहुत अधिक शावर लेने से या बाल धोने से आपकी त्वचा ड्राई और क्रैक हो जाती है, जिससे कि इन घावों के माध्यम से बैक्‍टीरिया आसानी से आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं। इसलिए एक्‍सपर्ट मानते हैं कि दिन में एक बार से अधिक नहाना नहीं धोने की सलाह देते हैं। 

2. शौच के बाद ही नहीं, पहले भी धोएं हाथ 

Hand Wash

आपने सुना होगा कि हमेशा शौच जाने के बाद हाथ जरूर धोने चाहिए, लेकिन क्‍या ये सुना है कि शौच जाने पहले से भी हाथ धोने चाहिए? जी हां न केवल शौचालय में, बल्कि पूरे घर में बैक्टीरिया हो सकते हैं। इसलिए अगर आपने लंबे समय से हाथ नहीं धोए हैं, तो आप आप शौच जाने से पहले हाथ धो लें। क्‍योंकि आपके हाथों में बैक्‍टीरिया हो सकते हैं, जो टॉयलेट करते समय निजी अंगो के लिए खतरनाक हो सकते हैं। इसलिए आपको शौच के बाद ही नहीं, पहले भी हाथ धोना जरूरी है।  

इसे भी पढें: क्‍या बिना किसी भारी काम किए आपको भी महसूस होती है थकान? जानें क्‍या हैं इसके कारण और बचने के उपाय

3. टॉयलेट में उंगलियों से फ्लश करना 

Hygiene Mistakes

टॉयलेट में उंगलियों से फ्लश करना भी खतरनाक हो सकता है। क्‍योंकि आपका टॉयलेट घर के सबसे गंदे हिस्‍सों में से एक होता है और एक फ्लश के 90 मिनट बाद भी उसमें दर्जनों बैक्टीरिया हो सकते हैं। इसलिए, टॉयलेट में फ्लश करते समय उंगलियों से नहीं, बल्कि अपनी उंगली के पीछे की तरफ से फ्लश करने की कोशिश करें। ऐसा इसलिए कि अगर आप टॉयलेट जाने से पहले अपने हाथों को धोना भूल गए हैं, तो उंगली के पीछे के भाग से फ्लश करने से यह आस-पास बैक्टीरिया नहीं फैलाएंगा।

4. बार-बार चेहरे को साबुन से धोना 

कुछ लोगों को लगता है बार-बार चेहरे को साबुन से धोएंगे, तो आपका चेहरा साफ रहेगा। लेकिन ऐसा करना आपकी गलती है क्‍योंकि दिन में दो बार से ज्‍यादा साबुन से अपना चेहरा धोना रोम छिद्रों को बंद कर देता है और ब्रेकआउट का कारण बनता है। यही वजह है कि स्किन एक्‍सपर्ट चेहरे पर साबुन का इस्‍तेमाल न करने की सलाह देते हैं। यह आपकी त्वचा के पीएच स्तर को भी बाधित कर सकता है।

Using Soap in Washing Face

इसे भी पढें: कोरोनावायरस के कहर से बचाने में मददगार है एल्‍कोहॉल बेस्‍ड सैनिटाइजर, जानें कैसे बनाएं

5. लंबे समय तक एक ही तकिए का इस्‍तेमाल 

यह भी सबसे गंदी आदतों में से है, जो कि आप में से अधिकतर लोग करते हैं। आप अपनी बैडसीट बदलना तो याद रखते हैं, लेकिन तकिया बदलना भूल जाते हैं। लंबे समय तक एक तकिये का इस्‍तेमाल करने से आपके तकिये के में और उसके नीचे कई धूल के कण और बैक्‍टीरिया पनप सकते हैं। यह बैक्‍टीरिया आपके चेहरे और मुंह में प्रवेश कर सकते हैं और डेमोडिकोसिस जैसे मुद्दों को भड़का सकते हैं। इसके अलावा, यह त्वचा की समस्याओं, एलर्जी और ऊपरी श्वसन मार्ग की जलन का कारण बन सकते हैं। इसलिए आप हर हफ्ते अपना तकिया पानी से धोएं।

Personal Hygiene Tips

6. पालतू जानवरों को साथ में सुलाना 

यदि आप अपने पालतू जानवरों, बिल्‍ली या कुत्‍ते को अपने पास सुलाते हैं, तो यह आपकी सेहत के लिए नुकसान भरा हो सकता है। क्‍योंकि आपके पालतू जानवर अपने साथ कई बैक्‍टीरिया ला सकते हैं, जो आपके लिए भी नुकसान पहुंचा सकते हैं। यहां तक कि सबसे अच्छी तरह से तैयार किए गए लोग अपने फर पर बहुत सारे बैक्टीरिया ले जाते हैं। पालतू जानवरों आपके लिए बुबोनिक प्लेग का कारण बन सकते हैं। 

Read More Article On Miscellaneous In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK