1 साल तक के बच्चे को ना दें ये 4 चीजें, सेहत के लिए हो सकती हैं हानिकारक

Updated at: Jan 06, 2020
1 साल तक के बच्चे को ना दें ये 4 चीजें, सेहत के लिए हो सकती हैं हानिकारक

अगर आप भी हाल ही में नए पैरेंट्स बने हैं तो जान लें आपके बच्चे के सेहत के लिए 1 साल तक क्या हो सकता है हानिकारक। 

Vishal Singh
नवजात की देखभालWritten by: Vishal SinghPublished at: Jan 06, 2020

अक्सर बच्चों का ख्याल रखना बहुत मुश्किल भरा हो जाता है। खासकर उन बच्चों के लिए जो नवजात हो, उन्हें करीब 3 साल तक बहुत ही नाजुक तरीके से रखने के जरूरत होती है। ऐसे में सबसे ज्यादा जरूरी होता है कि बच्चे को क्या खिलाया या  पिलाया जा सके जिससे ना तो उसे किसी तरह का कोई नुकसान हो और वह स्वस्थ रह सके। 

शुरूआती एक साल तक बच्चे के माता-पिता को बच्चे की सेहत को लेकर काफी सतर्क रहना पड़ता है। ऐसे में सबसे ज्यादा बच्चे के माता-पिता को इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि वह अपने बच्चे को क्या ना दे जिसकी वजह से उसे किसी तरह का कोई नुकसान ना हो। हम आपको बताएंगे कि आप अपने बच्चे को शुरूआती एक साल तक खाने के लिए क्या नहीं देना चाहिए। 

baby

इस में कोई शक नहीं है कि बच्चे का एक साल तक ध्यान रखना उनके माता-पिता के लिए काफी मुश्किल भरा होता है। जिसमें बच्चे के पैरेंट्स को काफी दिक्कतों का भी सामना करना पड़ता है। लेकिन कई बार माता-पिता अपने बच्चे की सेहत को लेकर कुछ गलतियां कर देते हैं। 

शुगर(Sugar)

हाल ही में नए पैरेंट्स बने हैं तो इस बात का जरूर ध्यान दें कि बच्चे को एक साल तक रिफाइंड शुगर ना दें। रिफाइंड शुगर बच्चे के शरीर को कमजोर करने का काम करती है। अगर आप बच्चे को बचपन से ही शुगर या फिर मीठा खाने की आदत लगाते हैं तो इससे उसकी बॉडी में कई तरह की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। इससे आपके बच्चे का मोटापा बढ़ सकता है, बच्चे के दांतों में परेशानी हो सकती है और इससे आपका बच्चा एक्टिव रहने में पीछे रहता है। 

नमक(Salt)

कई हेल्थ सेंटर के मुताबिक, बच्चे को करीब शुरूआती 6 महीने तक नमक नहीं देना चाहिए। बल्कि मां के दूध में भी कम मात्रा में ही सोडियम होना चाहिए। इसके अलावा अगर आपका बच्चा 6 से एक साल के बीच में है तो आप उसे दिन में एक ग्राम नमक का ही सेवन कराएं। अगर आप अपने बच्चे को शुरूआती साल में नमक का सेवन ज्यादा कराने से बच्चे में शारीरिक समस्या पैदा हो सकती है। जैसे की पथरी, हाई ब्लड शुगर, हड्डियों में कमजोरी और डिहाइड्रेशन जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। 

baby

इसे भी पढ़ें: अपने शिशु को नहलाते वक्त भूल कर भी ना करें ये गलतियां, त्वचा को पहुंच सकता है नुकसान

शहद(Honey) 

अक्सर घरों में बच्चे को शुरूआती साल में शहद दिया जाता है जबकि बच्चों को शहद नहीं देना चाहिए। बच्चों के लिए शहद बोटुलिस्म का कारण भी बन सकता है जिससे की जान का खतरा भी बढ़ता है। इसके साथ ही शहद में बैक्टीरिया भी होते हैं जिससे बच्चों की पाचन क्रिया उसको पचाने में असफल हो जाती है। 

गाय का दूध(Cow milk) 

गाय का दूध सेहत के लिए फायदेमंद होता है, लेकिन नवजात के लिए वो किसी भी तरह से फायदेमंद नहीं होता। अमेरिकन अकेडमी ऑफ पिडियाट्रिक्स के मुताबिक, नवजात को शुरूआती एक साल तक गाय का दूध नहीं देना चाहिए, क्योंकि गाय का दूध बच्चे को पचता नहीं है। गाय के दूध में भारी मात्रा में प्रोटीन, सोडियम और पोटाशियम होता है। 

baby

इसे भी पढ़ें: जन्‍म के शुरूआती महीनों में शिशुओं को दूध के अलावा जरूर खिलाएं ये 5 आहार, बच्‍चा रहेगा सेहतमंद

एक साल तक के बच्चे को क्या खिलाएं?

6 माह से 1 साल तक के शिशु को आहार के रूप में दाल का पानी,चावल का पानी,चावल,सूजी का हलवा, खिचड़ी, पके फल, खीर, सेरलेक्स दे सकते हैं। इसके अलावा हमेशा बच्चे को पानी ज्यादा पिलाएं जिससे की बच्चे के शरीर में पानी की कमी पूरी हो सके। 

आप बच्चे को फल और सब्जियों को उबाल कर दे सकते हैं। इन्हें उबालने के बाद आप इसे पीस के चमच से अपने बच्चे को खिलाएं। 9 महीने तक के शिशु को आप आहार में ऐसे भोजन दें जो मुलायम हो और जिसे आप का शिशु आसानी से निगल। इस उम्र में बहुत से बच्चों में पुरे दांत नहीं आते। लेकिन उनके मसूड़े इतने मजबूत होते हैं की वे चावल और उबले आलू को खा सकते हैं। 

 Read More Articles On Parenting Tips In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK