Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

Top Cancer Causing Jobs : ये 6 नौकरियां करने वाले लोगों में कैंसर का खतरा होता है अधिक, जानें कौन सी नौकरी सबसे घातक

विविध
By जितेंद्र गुप्ता , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 02, 2019
Top Cancer Causing Jobs : ये 6 नौकरियां करने वाले लोगों में कैंसर का खतरा होता है अधिक, जानें कौन सी नौकरी सबसे घातक

कोयला खदान और दमकलकर्मी जैसे कुछ काम ऐसे हैं, जिनमें बीमार होने या फिर शरीर को नुकसान पहुंचने का जोखिम सभी जानते हैं। अन्य नौकरियां सुरक्षित दिखाई देती है लेकिन अगर आप हानिकारक सामग्री के संपर्क में आते हैं तो आपके लिए ये खतरा जरूर पैदा कर सकती है

कई नौकरियां आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होती हैं। कोयला खदान और दमकलकर्मी जैसे कुछ काम ऐसे हैं, जिनमें बीमार होने या फिर शरीर को नुकसान पहुंचने का जोखिम सभी जानते हैं। अन्य नौकरियां सुरक्षित दिखाई देती है लेकिन अगर आप हानिकारक सामग्री के संपर्क में आते हैं तो आपके लिए ये खतरा जरूर पैदा कर सकती हैं। हालांकि खतरे को समझकर और बचाव के उपाय अपनाकर आप जोखिम को सीमित और बीमारी के खतरे को कम जरूर कर सकते हैं। अगर आप भी इस बात से वाकिफ नहीं हैं कि कौन सी नौकरियां आपके स्वास्थ्य के लिए घातक हो सकती हैं तो हम आपको ऐसी कुछ नौकरियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो आपके स्वास्थ्य को नुकसान पुहंचाती हैं।

पायलट (pilots)

जर्नल जेएएमए डर्मोटोलॉजी में प्रकाशित एक विश्लेषण के मुताबिक पायलट अपने काम के दौरान औसत के मुकाबले यूवी रेडिएशन के अधिक संपर्क में होते हैं। यूवी  रेडिएशन के संपर्क में रहने से किसी को भी स्किन कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। अध्ययन में पाया गया कि उड़ान के दौरान विमान के कॉकपिट में एक घंटे तक बैठना 20 मिनट तक धूप में बैठकर टैनिंग कराने के बराबर है। इसका मतलब है कि अगर आप विमान के कॉकपिट में एक घंटे तक बैठते हैं तो आप 20 मिनट तक सन बाथ लेने के दौरान जितना यूवी रेडिएशन के संपर्क में आते हैं उतना ही रेडिएशन आपको होता है।

लाइफगार्ड (Lifeguards)

लाइफगार्ड को भी अपने काम के दौरान स्किन संबंधी समस्याओं से जूझना पड़ता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) ने पाया है कि सूरज के यूवी किरणें सुबह 10 से चार के बीच सबसे तेज होती हैं और इन घंटों के दौरान संगठन ने लोगों से सूरज के सीमित संपर्क में रहने की सलाह दी है। इसके अलावा अगर आपको बाहर निकलना ही है तो आप कम से कम एसपीएफ15 सनस्क्रीन ही लगाकर निकलें।

इसे भी पढ़ेंः Hip Pain: अक्सर रहता है कूल्हे में दर्द तो इन 5 आसान तरीकों से करें इसे दूर, मांसपेशियां होंगी मजबूत

डेस्क जॉब (desk job)

अगर आप उन लोगों में शामिल हैं, जो अपना ज्यादातर काम डेस्क पर बैठे-बैठे ही करते हैं तो इससे आपके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। 2009 के एक अध्ययन के मुताबिक वे लोग, जो अधिकतर समय बैठे रहते हैं उनमें कैंसर का खतरा अधिक होता है चाहे वह रोजाना एक्सरसाइज ही क्यों न करते हों।

नेल सैलून (Nail salons)

नेल सैलून को तेज भभक के लिए जाना जाता है। कई अध्ययनों में पाया गया है कि नेल सैलून में अधिक कैंसर कारी रसायन होते हैं, जो ऑटो गैराज या फिर ऑयल रिफाईनरी में पाएं जाते हैं। जर्नल इनवायरमेंटल पॉल्यूशन में इस साल प्रकाशित अध्ययन में पाया गया कि कई सैलून में कैंसरकारी रसायन पाया जाता है। शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में अंदाजा लगाया कि नेल सैलून में काम करने वाले लोगों में इसके संपर्क के कारण कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। 

इसे भी पढ़ेंः शरीर में कैल्शियम की कमी इन 3 अंगों को कर देती है कमजोर, जानें कैसे दूर करें कैल्शियम की कमी

किसान (Farmers)

अन्य व्यवसायों में काम करने वाले लोगों की तुलना में किसान और उनके परिवार के सदस्यों में कैंसर की सामान्य से उच्च-दर पाई गई है। शोधकर्ताओं का मानना है कि इसके पीछे कीटनाशकों के संपर्क में आना एक बड़ा कारण हो सकता है। वास्तव में कीटनाशकों के संपर्क में आने वाले किसानों में प्रोस्टेट कैंसर होने की संभावना 20 फीसदी अधिक होती है।

दमकलकर्मी  (firefighters)

इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि दमकलकर्मियों का काम बेहद ही खतरनाक और संभावित रूप से जोखिम भरा है। लेकिन जब वह कहीं से आग बुझा कर लौटते हैं तो सूट उतारने के बाद भी उनके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता हैं क्योंकि काम के दौरान जो धुआं वे सांस के जरिए अंदर लेते हैं उससे उन्हें सांस संबंधी परेशानियां होने की संभावना अधिक रहती है। नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर ऑक्यूपेश्नल सेफ्टी एंड हेल्थ के हालिया अध्ययन में कहा गया कि दमकलकर्मियों में कैंसर का जोखिम भी अधिक होता है।

Read More Articles On Miscellaneous in Hindi

 
Written by
जितेंद्र गुप्ता
Source: ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभागAug 02, 2019

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK